JHARKHAND

झारखंड (Jharkhand) के पलामू प्रमंडल के नेतरहाट में आयोजित आदिवासी और लोक चित्रकारों के प्रथम राष्ट्रीय शिविर के चौथे दिन शाम को देश भर से आए लोक कलाकारों को झारखंड के सांस्कृतिक पर्व 'सोहराय' के बारे में फिल्म के जरिए अवगत कराया गया।

झारखंड आदिवासी बहुल राज्य है। इसकी एक अलग परंपरा और संस्कृति है। पत्थलगड़ी (शिलालेख) भी इसी परंपरा का एक हिस्सा है। पत्थलगड़ी (Pathalgadi) यानी पत्थर गाड़ना।

झारखंड के पश्चिमी सिंहभूम में उपमुखिया समेत 7 लोगों की हत्या कर दी गई। इन लोगों की हत्या 19 जनवरी को पत्थलगड़ी (Pathalgadi) का विरोध करने पर की गई थी।

झारखंड नक्सलियों के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान में पलामू प्रमंडल के लातेहार पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है। लातेहार जिले में बीते साल 22 नवम्बर को हुई चार पुलिसकर्मियों की हत्या में शामिल सात नक्सलियों (Naxals) को गिरफ्तार किया गया है।

झारखंड की राजधानी रांची के डोरंडा स्थित झारखंड आर्म्ड पुलिस (JAP) का 5 जनवरी को 140 वां स्थापना दिवस समारोह मनाया गया। इस मौके पर झारखंड के डीजीपी केएन चौबे मुख्य अतिथि रहे।

झारखंड के नक्सल प्रभावित लोहरदगा जिले के जोबांग थाना क्षेत्र के सिरम गांव के जंगल के पास 4 दिसंबर को सुरक्षाबलों और टीपीसी (TPC) नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हुई।

पुलिस ने झारखंड जेजेएमपी (JJMP) के चार नक्सलियों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार नक्सलियों के पास से पुलिस ने हथियार भी बरामद किया है।  गिरफ्तार नक्सलियों के नाम विवेक यादव, विजय राम, राकेश यादव और आशीष साव हैं। इनके पास से एक देशी कट्टा और एक जिंदा कारतूस बरामद हुए हैं।

झारखंड की पलामू पुलिस को टीपीसी (TPC) के सब जोनल कमांडर सहित पांच कुख्यात नक्सलियों को गिरफ्तार करने में सफलता मिली है। पुलिस ने इन नक्सलियों के पास से भारी मात्रा में हथियार भी किया है।

झारखंड के कोल्हान प्रमंडल के सरायकेला जिला के तिरुलडीह में पांच पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले में शामिल दो नक्सलियों (Naxals) को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

झारखंड के जहानाबाद जिले के टेहटा ओपी व हुलासगंज थाने में कई नक्सली कांडों के वांछित नक्सली (Naxali) सुबोध शर्मा को पुलिस ने नालंदा के इस्लामपुर स्थित किराये के मकान से गिरफ्तार किया है।

झारखंड के हजारीबाग जिला के केरेडारी थाना क्षेत्र के किरीगड़ा के पास दामोदर नदी पर बन रहे पुल के पास 2 जनवरी की देर रात नक्सलियों (Naxals) ने कई गाड़ियों व निर्माण कार्य में लगे उपकरणों को आग के हवाले कर दिया।

झारखंड की जनता ने गठबंधन को पूर्ण बहुमत दिया है और राज्य की कमान अब हेमंत सोरेन के हाथ में है। लोगों को इस सरकार से अपार उम्मीदें हैं। लेकिन हेमंत सरकार के लिए सबसे बड़ी चुनौती नक्सलवाद (Naxalism) है।

झारखंड में नक्सलवाद अब भी चुनौती बना हुआ है। 2019 में प्रतिबंधित नक्सली (Naxal) संगठनों ने झारखंड के 15 जिलों में 133 वारदातों को अंजाम दिया है। वहीं, दूसरी ओर नौ जिलों में एक भी नक्सली वारदात की बात सामने नहीं आई है।

लामू के छतरपुर थाना क्षेत्र के मुनकेरी गांव में टीपीसी नक्सलियों ने एक हाइवा को आग के हवाले कर दिया। वहीं, लातेहार में नक्सलियों ने रेलवे निर्माण कंपनी के साइट पर धावा बोला और कई वाहनों को जला डाला।

झारखंड के नक्सल ग्रस्त खूंटी जिले के अड़की थाना क्षेत्र में 30 दिसंबर को पुलिस और नक्सलियों (Naxals) के बीच मुठभेड़ हो गई। पुलिस को भारी पड़ता देख नक्सलियों का दस्ता जंगल से भाग निकला।

झारखंड के नक्सल प्रभावित खूंटी के अड़की थाना क्षेत्र के सेल्दा गांव में भाकपा माओवादी के नक्सलियों (Naxalites) ने निर्माणाधीन अस्पताल को डायनामाइट लगाकर उड़ा दिया। निर्माणाधीन अस्पताल को उड़ाने के बाद नक्सलियों ने मौके पर पर्चा भी छोड़ा है।

बीते 13 दिनों में दो ग्रामीणों की मौत के साथ-साथ तीन सुरक्षाकर्मी और एक ग्रामीण गंभीर रूप से घायल। नक्सलियों द्वारा सड़कों के साथ-साथ पर्यटन स्थलों पर भी किया जा सकता है खून खराबा, सुरक्षाबल मुस्तैद।

यह भी पढ़ें