Thu, 2 Apr, 2020

सुर्खियां

COVID-19: अमेरिका में हालात बद से बदतर, लाशों से भर गए हैं मुर्दाघर

COVID-19: अमेरिका में हालात बद से बदतर, लाशों से भर गए हैं मुर्दाघर

अमेरिका में कोरोना वायरस (COVID-19) का तांडव थमने का नाम नहीं ले रहा। वहां,1 अप्रैल को कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 4 हजार के पार हो गई।
8 मीटर दूर तक जा सकती हैं खांसी-छींक की बूंदें, घंटों हवा में रह सकता है कोरोना: रिसर्च

8 मीटर दूर तक जा सकती हैं खांसी-छींक की बूंदें, घंटों हवा में रह सकता है कोरोना: रिसर्च

लीडिया बूरूइबा ने आगाह किया कि खांसी या छींक की वजह से निकलने वाली सुक्ष्म बूंदें 23 से 27 फुट या 7–8 मीटर तक जा सकती हैं। इसीलिए कोरोना वायरस (Coronavirus) का प्रसार इतनी तेजी से फैल रहा है।

सच के सिपाही/Brave Hearts

Bastar Naxal Encounter: शहीद के अंतिम संस्कार में 4 साल का बेटा गाने लगा- ‘गोल-गोल रानी, इत्ता-इत्ता पानी…’

Bastar Naxal Encounter: शहीद के अंतिम संस्कार में 4 साल का बेटा गाने लगा- ‘गोल-गोल रानी, इत्ता-इत्ता पानी…’

बस्तर में 14 मार्च को नक्सली मुठभेड़ (Bastar Naxal Encounter) हुआ था। इस मुठभेड़ में छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल (CAF) के दो जवान शहीद हो गए थे।
Sukma Attack: शहीद जवान लिबरु राम का शव देख निढ़ाल हुई पत्नी, भारत माता के जयकारे के साथ हुआ अंतिम संस्कार

Sukma Attack: शहीद जवान लिबरु राम का शव देख निढ़ाल हुई पत्नी, भारत माता के जयकारे के साथ हुआ अंतिम संस्कार

छत्तीसगढ़ में 17 शहीद जवानों के परिजन गमजदा हैं। शहीद जवानों की लिस्ट में मिनपा इलाके के तोंगपाल थाना क्षेत्र के लेदा पंचायत के चिड़पाल के रहने वाले जवान लिबरु राम का भी नाम है।

Sunny Side Up/ नक्सलवाद का सच

मजबूरियों का फायदा उठाकर संगठन में किया भर्ती, फिर नक्सली ही करने लगे शोषण; पढ़ें दो नक्सलियों की आपबीती

मजबूरियों का फायदा उठाकर संगठन में किया भर्ती, फिर नक्सली ही करने लगे शोषण; पढ़ें दो नक्सलियों की आपबीती

कई निर्दोषों को मौत के घाट उतारा, दहशत फैलाई, अपने ही लोगों के साथ खून-खराबा किया। लेकिन, जब नक्सली संगठन (Naxal Organization) की हकीकत सामने आई तो मन पछतावा से भर गया।
एक पूर्व नक्सली कैसे बना लाल आतंक का सबसे बड़ा दुश्मन, जानें पूरी कहानी…

एक पूर्व नक्सली कैसे बना लाल आतंक का सबसे बड़ा दुश्मन, जानें पूरी कहानी…

अब वह नक्सलियों की हरी या काली वर्दी नहीं पहनाता बल्कि फोर्स की कामाफ्लॉज वर्दी पहनकर नक्सल विरोधी ऑपरेशनों में लाल आतंक (Naxalism) के खिलाफ मजबूती से खड़ा है।

Streaming Progress/विकास का पहिया

लाल आतंक के गढ़ में कैसे लिखी जा रही विकास की इबारत, पढ़ें ‘सरकारी अफसरों का गांव’ की कहानी…

लाल आतंक के गढ़ में कैसे लिखी जा रही विकास की इबारत, पढ़ें ‘सरकारी अफसरों का गांव’ की कहानी…

छत्तीसगढ़ का बस्तर इलाका लाल आतंक का गढ़ रहा है। दशकों से यह इलाका नक्सलियों (Naxalites) की दहशत के साए में है। यहां के कई इलाके ऐसे हैं जहां लोगों तक शिक्षा, स्वास्थ्य और सड़क जैसी मूलभूत सुविधाएं भी नहीं पहुंच पाई हैं।
झारखंड: नक्सल प्रभावित इलाके में CRPF ने लगाया मेडिकल कैम्प, लोगों में बांटे जरूरत के सामान

झारखंड: नक्सल प्रभावित इलाके में CRPF ने लगाया मेडिकल कैम्प, लोगों में बांटे जरूरत के सामान

झारखंड के गिरिडीह जिले के अति नक्सलवाद प्रभावित पारसनाथ पहाड़ के तलहटी में बसे सुरही गांव में सीआरपीएफ (CRPF) के सिविक एक्शन प्रोग्राम (Civic Action Program) के तहत मेडिकल कैम्प का आयोजन किया गया।

वीडियो / Video

As I See It/मेरा नजरिया

हस्तक्षेप एपिसोड नंबर 11: कांग्रेस से अलग हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया, क्या है भविष्य?

हस्तक्षेप एपिसोड नंबर 11: कांग्रेस से अलग हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया, क्या है भविष्य?

ज्योतिरादित्य माधवराव सिंंधिया के कांग्रेस से अलग होने से पूरे मध्यप्रदेश में प्रशासनिक गलियारों से लेकर स्वशासी दफ्तरों तक ,हाई प्रोफाइल अधिकारियों से लेकर आम कर्मचारियों तक,व्यवसायियों से लेकर राजनैतिक व्यक्तित्व तक सभी इस बात को लेकर चिंतनशील है,