विकास का पहिया

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के नक्सल प्रभावित बीजापुर (Bijapur) में कई मुख्य सड़कों का निर्माण कार्य शुरू हो चुका है। इन सड़कों के बन जाने से जल्द ही सुदूर इलाकों को मुख्य मार्गों और मुख्यालयों से जोड़ा जा सकेगा।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के नक्सल प्रभावित इलाकों (Naxal Affected Areas) में विकास पर जोर दिया जा रहा है। विकास के लिए सरकार लगातार बिजली, सड़क, स्वच्छ पेयजल आदि सुविधाएं लोगों तक पहुंचाने की कोशिश कर रही है।

प्रशासन की कोशिशों की वजह से इलाके में नक्सलियों की जड़ कमजोर हुई है। साथ ही लोगों में प्रशासन के प्रति विश्वास बढ़ा है। लोग अब मेडिकल टीम को इलाके में आने से भी नहीं रोक रहे।

बिहार (Bihar) के नक्सल प्रभावित इलाकों (Naxal Affected Areas) रोहतास और कैमूर जिले के पर्यटन स्थलों का विकास (development of tourist places) किया जाएगा।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के नक्सल प्रभावित इलाकों (Naxal Areas) में लगातार इंफ्रास्ट्रक्चर का विकास हो रहा है। इसी कड़ी में राज्य के धुर नक्सल प्रभावित नारायणपुर जिले के कई इलाकों में सड़कें बन गई हैं।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के नक्सल प्रभावित नारायणपुर जिले (Naxal Affected Area) में लोगों के घरों तक स्वास्थ्य सुविधा पहुंचाई जा रही है।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के बीजापुर (Bijapur) जिले के नक्सल प्रभावित गांव बेचापाल (Bechapal) में आजादी के 75 साल बाद पहली राशन की दुकान खुली है।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के नक्सल प्रभावित (Naxal Area) नारायणपुर जिले की जगदम्बा महिला स्व सहायता समूह की महिलाओं ने वो कर दिखाया है, जिसके लिए जज्बा चाहिए।

बालाघाट (Balaghat) जिले के नक्सल प्रभावित इलाके (Naxal Areas) के ऐसे युवक-युवती जिन्होंने 5वीं, 8वीं या 12 वीं के बाद पढ़ाई नहीं की है, उन्हें रोजगार से जोड़कर आत्मनिर्भर बनाया जा रहा है।

छत्तीसगढ़ में नक्सलियों के खिलाफ लगातार अभियान जारी है। इस बीच नक्सल प्रभावित बीजापुर जिले से एक अच्छी खबर सामने आई है।

बिहार (Bihar) के नक्सल प्रभावित (Naxal Area) गया जिले में विकास का काम लगातार हो रहा है। नक्सल क्षेत्रों के समेकित विकास के लिए केंद्र सरकार ने विशेष केंद्रीय सहायता योजना दी है।

बिहार (Bihar) के औरंगाबाद जिले के नक्सली इलाके (Naxal Areas) में अब सड़कों का जाल बिछेगा। केंद्र सरकार की नक्सल क्षेत्र में (वामपंथ उग्रवाद) एलडब्ल्यूई योजना के तहत सड़कों का निर्माण होगा।

बिहार (Bihar) के जमुई जिले से सटे झारखंड (Jharkhand) के गिरिडीह जिले के नक्सल प्रभावित इलाके तिलकडीह पंचायत में सड़क और पुल का निर्माण जल्द ही शुरू होगा।

नक्सल प्रभावित गांवों के बच्चों को 10वीं की पढ़ाई के लिए कहीं दूर नहीं जाना होगा। इसलिए 19 स्कूलों को अपग्रेड किया जा रहा है।

छत्तीसगढ़ में नक्सलियों (Naxalites) के खिलाफ अभियान जारी है। इस बीच सुकमा पुलिस ने एक नया अभियान शुरू किया है।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के बीजापुर (Bijapur) जिले के धुर नक्सल प्रभावित इलाकों (Naxal Areas) में सालों से बंद पड़े स्कूल अब खुल गए हैं।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) का धुर नक्सल प्रभावित (Naxal Area) दंतेवाड़ा (Dantewada) जिला विकास की राह पर लगातार आगे बढ़ रहा है। जिले का पहला लोहे का पुल कुआकोंडा में बनकर तैयार हो गया है।

यह भी पढ़ें