विकास का पहिया

5 करोड़ 30 लाख 17 हजार की लागत से बन रही इस सड़क को बनने में काफी समय चला गया। लेकिन अब सुरक्षाबलों की मौजूदगी में निर्माण कार्य दोबारा शुरू हुआ है।

झारखंड (Jharkhand) के नक्सल प्रभावित सिमडेगा जिले के सुदूर सीमावर्ती इलाकों के गांव में अब विकास (Development) पहुंचेगा।

कोरोना के बढ़ते प्रकोप के बीच राज्य सरकार राहत की हर संभव कोशिश कर रही है। कोरोना की तीसरी लहर के आने से पहले सरकार सारे इंतजाम कर लेना चाहती है।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में भी विदेशों की तर्ज पर वर्चुअल स्कूल (Virtual School) शुरू होने वाले हैं। छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर इसकी जानकारी दी है।

Chhattisgarh: राज्य में जिन बच्चों के माता-पिता की कोरोना से मौत हुई है, छत्तीसगढ़ सरकार उन बच्चों की पढ़ाई का खर्च उठाएगी और उन्हें स्कॉलरशिप भी देगी।

नवा रायपुर में मध्य भारत का पहला शासकीय फूड टेस्टिंग लैब स्थापित किया जाएगा। टेस्टिंग लैब का निर्माण होने पर स्टेट वेयर हाउसिंग के गोदामों में रखे जाने वाले अनाज सहित अन्य खाद्य सामग्री की टेस्टिंग की सुविधा मिलेगी।

झारखंड (Jharkhand) में कोरोना काल में बैंकिंग सेवाएं ग्रामीणों के दरवाजे तक पहुंचाने में बैंकिंग कॉरेस्पोंडेंट सखी (Banking Correspondent Sakhi) काफी सहायक सिद्ध हो रही हैं।

कोरोना (Coronavirus) महामारी से निपटने के लिए झारखंड (Jharkhand) के खूंटी जिले में बड़ा कदम उठाया गया है। खूंटी राज्य में ऑक्सीजन प्लांट (Oxygen Plant) लगाने वाला पहला जिला बन गया है।

सीएम बघेल (Bhupesh Baghel) ने पत्र में इस बात का भी जिक्र किया है कोरोना काल में भी छत्तीसगढ़ देश के सबसे तेजी से बढ़ते राज्यों में एक है।

पवन कुमार मोदी पवन मोदी ने मैट्रिक पास करने के पहले से ही अपने गांव के महादलित टोला में बच्चों को पढ़ाने का काम शुरू कर दिया था।

मूल्यांकन के बाद यदि कॉलेज को अच्छी ग्रेड मिल जाती है तो वहां हर फैक्ल्टी के विकास के लिए ज्यादा से ज्यादा फंड आएंगे। इस कारण विद्यार्थियों को क्वालिटी एजुकेशन में बहुत फायदा पहुंचेगा।

ओडिशा (Odisha) के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक (Naveen Patnaik) ने बालासोर नगरपालिका के विकास के लिए 155 करोड़ रुपये के पैकेज का ऐलान किया है।

झारखंड (Jharkhand) के नक्सल प्रभावित जिले पूर्वी सिंहभूम जिले के डुमरिया प्रखंड में विकास के कार्य पर जोर दिया जा रहा है। प्रखंड में आजादी के बाद पहली बार 13 जाहिरा चारदीवारी के निर्माण कार्य की स्वीकृति मिल गई है।

सरकार, प्रशासन और सुरक्षाबलों की कोशिश का नतीजा है कि छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में लाल आतंक (Red Terror) का गढ़ कहे जाने वाले बस्तर (Bastar) का बड़ा हिस्सा नक्सलियों (Naxalites) के आतंक से मुक्त हो गया है।

Giridih: जिस समय वह पंचायत की मुखिया बनी थीं, उस समय गांव में काफी समस्याएं थीं, लेकिन वह धीरे-धीरे सभी समस्याओं को सुलझाती गईं।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के धुर नक्सल प्रभावित बस्तर (Bastar) संभाग में सरकार की योजनाओं के तहत लगातार विकास का काम हो रहा है। बस्तर जैसे नक्सल ग्रस्त इलाके (Naxal Area) में विकास के लिए पहली जरूरत सड़कों की है।

एक समय था जब झारखंड (Jharkhand) के खूंटी जिले के अड़की प्रखंड में लाल आतंक (Naxalism) का बोल बाला था। लोग इस इलाके में जाने से डरते थे।

यह भी पढ़ें