विकास का पहिया

पुलिस और सुरक्षाबल कानून व्यवस्था बहाल करने और आम लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के साथ ही जनता की भलाई के अन्य काम भी करते हैं। वे लोगों की हर संभव मदद करने के लिए तत्पर रहते हैं।

झारखंड (Jharkhand) में गुमला जिले के नक्सल प्रभावित (Naxal Area) करंजपुर में अब सोलर इलेक्ट्रॉनिक लाइट के माध्यम से बिजली की आपूर्ति की जा रही है। इससे गांव के 150 घर जगमगा हो रहे हैं।

सरकार और प्रशासन की लगातार कोशिशों का नतीजा है कि आज यह नक्सल ग्रस्त इलाका (Naxal Area) विकास की राह पर चल पड़ा है। अब इस इलाके की धरती पर चारों तरफ हरियाली ही हरियाली नजर आएगी।

झारखंड सरकार (Jharkhand Government) की ओर से पेश किए गए बजट (Budget) में इस बार नक्सल प्रभावित इलाकों (Naxal Areas) के विकास पर खास जोर दिया गया है।

Jharkhand Budget 2021: झारखंड सरकार का बजट 3 मार्च को पेश किया गया। इस बार 10200 करोड़ रुपये राजकोषीय घाटा होने का अनुमान है। इस बार प्रदेश के बजट में सरकार ने आम जनता और विकास को ध्यान में रखा।

नक्सल पीड़ित परिवारों (Naxalite Affected Families) को 'मुख्यमंत्री खाद्यान्न सहायता योजना' के अन्तर्गत निर्धारित न्यूनतम दर पर राशन दिया जायेगा और 'राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना' के अन्तर्गत मिलने वाली सुविधाओं की भी इनकी पात्रता होगी। 

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में पर्यटन के विकास की काफी संभावनाएं हैं। इससे प्रदेश की आर्थिक स्थिति को मजबूत बनाने में मदद मिलने के साथ ही रोजगार के नए अवसर भी मिल सकेंगे। यही वजह है कि यहां पर्यटन को बढ़ावा देने पर सरकार भरपूर ध्यान दे रही है।

Chhattisgarh Budget 2021: मुख्‍यमंत्री भूपेश बघेल (CM Bhupesh Baghel) ने अपने कार्यकाल का तीसरा बजट पेश कर दिया है। सीएम भूपेश बघेल ने 1 मार्च को 97,106 करोड़ रुपये का बजट पेश किया है।

बिहार (Bihar) का गया जिला नक्सल प्रभावित (Naxal Affected Area) है। आए दिन नक्सली (Naxals) यहां हिंसा फैलाते रहते हैं और विकास कार्यों में बाधा पहुंचाते हैं।

बजट सत्र (Jharkhand Budget Session 2021) शुरू होने से पहले राज्यपाल द्रोपदी मुर्मू (Governor Draupadi Murmu) ने अपने 44 मिनट के अभिभाषण में सरकार के योजनाओं और कार्यों की सराहना की।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) की राज्यपाल अनुसूईया उइके (Anusaiya Uike) ने विधानसभा के बजट सत्र को संबोधित किया। सत्र के पहले दिन अपने संबोधन में राज्यपाल ने राज्य सरकार की पिछले वर्ष की उपलब्धियां गिनाईं।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में भू-जल संरक्षण और संवर्धन के लिए संचालित नरवा (नाला) विकास योजना के जरिए राज्य के नदी-नालों और जल स्त्रोतों को पुनर्जीवित किया जा रहा है।

नक्सल (Naxalites) प्रभावित इलाकों में शानदार सड़कें बनाई गई हैं और यहां आवागमन काफी आसान हुआ है। लोग बेफिक्र इन सड़कों से गुजरते हैं।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में विकास कार्य लगातार किए जा रहे हैं। राज्य सरकार प्रदेश के लोगों के लिए सड़क, स्वास्थ्य, शिक्षा जैसी मूलभूत सुविधाओं के साथ ही उनके लिए रोटी, कपड़ा और मकान उपलब्ध करवाने पर ध्यान दे रही है।

झारखंड सरकार (Jharkhand Government) ने बेरोजगारों को भत्ता देने का फैसला किया है। राज्य सरकार ने चालू वित्तीय वर्ष (2020-21) में ही इस योजना को शुरू करने के लिए कोशिशें तेज कर दी हैं।

युवाओं को स्‍वरोजगार से जोड़ने के लिए झारखंड सरकार (Jharkhand Government) ने मुख्‍यमंत्री रोजगार सृजन योजना (Mukhyamantri Rojgar Srijan Yojana) की शुरुआत कर दी है।

झारखंड (Jharkhand) में वायु प्रदूषण की समस्या पर काम किया जा रहा है। इस क्रम में राजधानी रांची (Ranchi) और धनबाद (Dhanbad) के आस-पास की हवा की गुणवत्ता (Air Quality) में सुधार किया जाएगा।

यह भी पढ़ें