सच के सिपाही

इयान कार्डोजो के मुताबिक पाकिस्तान के एक युद्धबंदी सर्जन मेजर मोहम्मद बशीर को उनका ऑपरेशन करने का आदेश मिला था। जिसके बाद उन्होंने ऑपरेशन करवाया।

हमारे जवान सीमा पर देश को बाहरी दुश्मनों से तो बचाते ही हैं, साथ ही देश के अंदर होने वाले आतंकी हमलों से भी हमारी रक्षा करते हैं। ऐसी स्थितियों से निपटने के लिए इनकी विशेष यूनिट बनाकर इन्हें खास तरह की ट्रेनिंग दी जाती है।

सलामी स्लाइसिंग एक तरह की टुकड़े-टुकड़े नीति है, इसका इस्तेमाल करके चीन पहले किसी क्षेत्र में अपना दावा करता है, फिर वह अपनी बात दोहराता रहता है।

भारतीय सेना (Indian Army) का शौर्य हम सभी जानते हैं। दुश्मन तो हमारी सेना के पराक्रम को अच्छी तरह जानता है। आज जानते हैं भारतीय सेना से जुड़ी ऐसी जबरदस्त बातें जो आपको शायद ही पता हों...

कई सालों तक पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निजी सचिव रह चुके शक्ति सिन्हा ने अपनी किताब 'Vajpayee: The Years That Changed India' में इस बात का खुलासा किया है।

Indian Army vs Pakistani Army: दोनों देशों के बीच कश्मीर और सियाचिन के मुद्दे पर ही युद्ध लड़े गए हैं। पहला युद्ध आजादी के तुरंत बाद 1948 में लड़ा गया था।

संयुक्त राष्ट्र ने कश्मीरी आवाम से वोट करने की बात कही कि वे किसके साथ रहना चाहते हैं। इसपर भारत के पक्ष में वोट जाता देख पाकिस्तान ने सीजफायर की बात मानी।

भारत कहता आया है कि 1947 में हुए विलय के आधार पर पूरा जम्मू कश्मीर राज्य भारत का अभिन्न हिस्सा है। 'गिलगित-बाल्टिस्तान' इलाका उसी राज्य में शामिल है। 

चीन के लिए कहा जाता है कि वह गरीब देशों को इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट में मदद करने के नाम पर अपने कर्ज के जाल में फंसा रहा है।

Indian Army: अक्सर सुनने में आता है कि चीन ने याक भेज दिया या पाकिस्तानी कबूतर सीमा के पास पकड़ा गया। सेनाएं ऐसे में काफी अलर्ट रहती हैं।

हाजी पीर और आस-पास के इलाकों पर कब्जा करते ही पाकिस्तान को यह आभास हो गया था कि वह अब किसी भी कंडीशन में इस युद्ध में नहीं जीत सकता है।

पाकिस्तान सैनिक भारी मात्रा में गोला बारूद लेकर आए थे लेकिन हाजीपीर पर भारतीय सैनिकों के नियंत्रण के बाद वे वहां से भाग खड़े हुए थे।

Kargil War: 1971 के भारत-पाक युद्ध के बाद भी कई सैन्य संघर्ष होते रहे। दोनों देशों द्वारा परमाणु परीक्षण की वजह से भी तनाव और बढ़ गया था।

पाकिस्तान जिन पोस्टों पर था वहां से सैनिकों के मूवमेंट और स्ट्रैटजी को पहले ही जाना जा सकता था। पाकिस्तान ने कारगिल के ऊंचाई वाले सामरिक रूप से महत्वपूर्ण इलाकों पर धोखे से कब्जा किया हुआ था।

सेना के सामने यही सबसे बड़ी चुनौती थी कि वे इन पोस्टों को अपने कब्जे में वापस कैसे ले। पाकिस्तान जिन पोस्टों पर था वहां से सैनिकों के मूवमेंट और स्ट्रैटजी को पहले ही जाना जा सकता था।

बोफोर्स तोपें 27 किलोमीटर की दूरी तक गोले दाग सकती हैं। हल्के वजन के वजह से इसे युद्धभूमि में कही भी तैनात करना और यहां-वहां ले जाना आसान होता है।

युद्ध के दौरान बतरा टॉप, टाइगर हिल, तोलोलिंग टॉप पर करगिल युद्ध के दौरान की ऊंची बर्फीली चोटियों पर छुपकर बैठे दुश्मन को भारतीय सेना के वीर जवानों ने अपनी जान पर खेलकर मार भगाया था।

यह भी पढ़ें