सच के सिपाही

युद्ध में नायक दीपचंद ने भी हिस्सा लिया था। उन्होंने युद्ध से जुड़े उन दिनों के अपने अनुभव को साझा किया है। उन्होंने यह भी बताया था कि जंग के दौरान सैनिकों को खाने पीने की मदद कैसे मिल रही थी।

जब इस राइफल से गोली निकलती है तो उस वक्त इसकी रफ्तार 900 मीटर प्रति सेकेंड होती है। कंपनी का कहना है कि इसकी तकनीक अमेरिका से लाई गई है।

नेशनल सिक्योरिटी गार्ड यानी एनएसजी (NSG) देश के सबसे घातक कमांडो फोर्स है। इसे ब्लैक कैट कमांडो भी कहा जाता है। इन कमांडोज को दुनिया के सबसे बहादुर कमांडोज में से एक माना जाता है।

Kargil War 1999: इस युद्ध में पाकिस्तान ने न केवल अपने 700 सैनिक गंवा दिए बल्कि ऐसी मनोवैज्ञानिक मार भी खाई. जिससे वह आज तक उबर नहीं पाया है।

22 ग्रेनेडियर बटालियन के नायक आलिम अली ने कारगिल युद्ध में जुबार हिल पर दुश्मनों से लोहा लिया था। उन्होंने इस युद्ध से जुड़े अपने अनुभवों को साझा किया है।

इसे बनाने के लिए बादाम और गुड़ मिलाया जाता है। फिर इन दोनों को पत्थर पर कूटते हैं, उसके बाद सेंकते हैं। सेंकने पर जब तेल निकलने लगता है, तो इसके लड्‌डू बना लेते हैं।

जंग का मैदान एक ऐसी जगह होती है जहां पर कब कौन किस पर भारी पड़ जाए पता नहीं चलता। जंग के मैदान में सैनिकों को बेहद ही अलर्ट रहना पड़ता है।

Kargil War: कारगिल युद्ध में राजपूताना राइफल्स की वीरता बेमिसाल रही थी। कारगिल युद्ध लड़ चुके पूर्व सैनिक दिनेश कुमार ने अपने अनुभव को साझा किया है।

बंकरों के माध्यम से किसी भी तरह की आपात स्थिति से निपटने के लिए सेना अपना मोर्चा संभाल सकती है। दुश्मनों की संदिग्ध हरकतों पर इसके जरिए तीखी नजर रखी जाती है।

इस गांव का नाम पेनमुंडे है। बताया जाता है कि यहीं पर पहली मिसाइल विकसित हुई थी। इस गांव में मिसाइल टेक्नॉलजी पर रिसर्च और उन्हें दुश्मनों पर किस तरह इस्तेमाल करना है इसके लिए व्यापक स्तर पर प्रबंध किए गए थे।

हर देश तरह-तरह की मिसाइलें अपने हथियारों के जखीरे में रखता है ताकि दुश्मन को दूर से ही नेस्तनाबूद किया जा सके। भारत के पास भी, पास और दूर तक मार करने वाली कई तरह की मिसाइलें हैं। 

कारगिल युद्ध (Kargil War) में राजपूताना राइफल्स-टू ने अहम भूमिका अदा की थी। इस बटालियन के जवानों ने दुश्मनों से हर मोर्चे पर लोहा लिया और ज्यादा से ज्यादा नुकसान पहुंचाने की कोशिश की।

भारत और पाकिस्तान के बीच 1999 में कारगिल युद्ध (Kargil War) लड़ा गया था। इस युद्ध में पाकिस्तान को बुरी तरह से शिकस्त का सामना करना पड़ा था।

दुश्मन की एक नजर पड़ते ही ताबड़तोड़ फायरिंग होने लगती थी। दुश्मनों को रात में टारगेट किया जाता था ताकि उन्हें यह पता न चल सके कि आखिरकार अचानक हमला कहां से हो गया।

एक पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर यानी पीओके दूसरा भारत के कब्जे वाला कश्मीर। इसके बाद 1950 में भारत-पाक विषम परिस्थितियों में थे, तो मौके का फायदा उठाकर चीन ने पूर्वी कश्मीर पर धीरे-धीरे नियंत्रण कर लिया।

एक तरफ देश आजादी का जश्न मना रहा था तो साथ-साथ  बंटवारे के दर्द के बीच खून-खराबे का माहौल भी था। मुसलमानों के लिए अलग देश की मांग को लेकर हिंसा भड़क गई थी।

साल 1950 के दौरान तिब्बत को लेकर भी चीन भारत के खिलाफ आक्रमक था लेकिन हिंदी-चीन भाई-भाई के नारे के चलते कभी ऐसा लगता नहीं था कि दोनों देशों में युद्ध होगा।

यह भी पढ़ें