सच के सिपाही

भारत और पाकिस्तान के बीच 1971 में लड़े गए युद्ध के दौरान 93 हजार पाकिस्तानी सैनिकों ने सरेंडर किया था। इस युद्ध में भारतीय सेना (Indian Army) ने बांग्लादेश की आजादी में अहम भूमिक निभाई थी।

भारत ने अबतक कुल पांच युद्ध लड़े हैं। इनमें से चार युद्ध पाकिस्तान के खिलाफ तो एक युद्ध चीन के विरुद्ध लड़ा गया था। भारतीय सेना (Indian Army) इन युद्धों में दुश्मनों पर कहर बनकर टूटी थी।

बीजापुर में तैनात डीएसपी अभिषेक सिंह ने नक्सली हमले में शहीद हुए दीपक भारद्वाज (Deepak Bhardwaj) की जांबाजी का किस्सा साझा किया है।

भारत और पाकिस्तान के बीच 1971 में भीषण युद्ध लड़ा गया था। इस युद्ध में भारतीय सेना ने ऐसा पराक्रम दिखाया था जिसे यादकर दुश्मन देश आज भी थर-थर कांप उठता होगा।

भारत और पाकिस्तान के बीच 1971 में भीषण युद्ध लड़ा गया था। बांग्लादेश, पाकिस्तान के अत्याचारों से आजाद हुआ और इसमें भारतीय सेना की भूमिका को वह आज तक मानता है।

भारत और चीन के बीच 1962 में भीषण युद्ध लड़ा गया था। चीन ने इस युद्ध में भारतीय सेना को बुरी तरह से हराया था। चीनी सेना पूरी तैयारी के साथ आई थी जबकि भारतीय सेना (Indian Army) अधूरी तैयारी के साथ जंग के मैदान में उतरी थी।

भारत और पाकिस्तान के बीच 1971 में भीषण युद्ध लड़ा गया था। इस युद्ध में भारत ने पाकिस्तान को बुरी तरह से हराया था। युद्ध पूर्वी पाकिस्तान (बांग्लादेश) की आजादी के लिए लड़ा गया था।

बीजापुर-सुकमा सीमा पर नक्सली मुठभेड़ (Bijapur Sukma Encounter) हुई थी। इस मुठभेड़ में हमारे 22 जवान शहीद हो गए थे। इस मुठभेड़ में डीआरजी (DRG) के दो भाइयों ने हिस्सा लिया था, जिनमें एक शहीद हो गया।

युद्ध तकरीबन 12 दिन चला था लेकिन इस दौरान पाकिस्तान को भारी नुकसान झेलना पड़ा था। अगर पाकिस्तान सरेंडर नहीं करता तो उसे और ज्यादा नुकसान झेलना पड़ सकता था।

भारत और पाकिस्तान के बीच 1971 में लड़े गए युद्ध के दौरान विंग कमांडर दिलीप पारुलकर (Dilip Parulkar) ने अहम भूमिका निभाई थी। उन्होंने पाकिस्तान को बुरी तरह से पटखनी देते हुए अपने शौर्य का परिचय दिया था।

भारत और पाकिस्तान के बीच 1971 में लड़े गए युद्ध के दौरान विंग कमांडर धीरेंद्र सिंह जाफा (Dhirendra Singh Jafa) बहादुरी का परिचय दिया था। युद्ध के दौरान दुश्मनों को नुकसान पहुंचाने के दौरान वे पाकिस्तानी सेना की कैद में आ गए थे।

छत्तीसगढ़ के नक्सली हमले में लालगंज के रहने वाले सीआरपीएफ के डिप्टी कमांडेंट संदीप द्विवेदी (Sandeep Dwivedi) भी घायल हुए हैं।

उनकी शहादत की खबर सुनकर पूरे घर में मातम छा गया है। परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। बता दें कि दीपक भारद्वाज (Deepak Bhardwaj) उप निरीक्षक के पद पर तैनात थे।

भारत और पाकिस्तान के बीच 1971 में लड़े गए भीषण युद्ध में भारतीय वायुसेना ने अपनी अलग ही छाप छोड़ी थी। युद्ध में भारत को जीत हासिल हुई थी। पाकिस्तान के 93 हजार सैनिकों ने भारतीय सेना के सामने सरेंडर किया था।

भारत और पाकिस्तान के बीच 1971 में भीषण युद्ध (War of 1971) लड़ा गया था। इस युद्ध में पाकिस्तानी सेना को बुरी तरह से पटखनी दी गई थी। भारतीय सेना (Indian Army) के वीर सपूतों ने हर मोर्चे पर दुश्मन को विफल किया था।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के बीजापुर-सुकमा में एक बार फिर से कुख्यात नक्सली कमांडर हिडमा ने खून की होली खेली है। इस बार उसने 22 जवानों की जान ली है। बीजापुर-सुकमा के बॉर्डर पर नक्सलियों से हुई मुठभेड़ में 22 जवान शहीद (Martyr) हो गए हैं।

धर्मदेव (Dharmadev) के घर पर आस-पास के लोगों का जमावड़ा लग गया। जिले के अधिकारी भी उनके घर पहुंचे और परिजनों से बात की।

यह भी पढ़ें