सच के सिपाही

भारत की स्पेशल फोर्सेस का नाम सुनते ही दुश्मन कांप उठते हैं। स्पेशल फोर्सेस के जवान बेहद चालाक और घातक होते हैं। बेहद ही कड़ी ट्रेनिंग के बाद ही किसी जवान को स्पेशल फोर्सेस में शामिल किया जाता है।

भारतीय सेना (Indian Army) दुनिया की सबसे घातक सेनाओं में से एक है। किसी भी सेना को ताकतवर तभी माना जाता है जब उसके पास बेहतरीन हथियार और बहादुर सैनिक हों। भारतीय सेना इन दोनों ही मामलों में अग्रणी है।

Indian Army in Ladakh: बर्फीले सीमा क्षेत्रों में पानी पूरी तरह से बर्फ बन जाता है। पानी के प्राकृतिक स्रोत खत्म हो जाते हैं। आवाजाही प्रभावित हो जाती है।

एक तरह सेना में दाखिल होने का सबसे पहला नियम और शर्त ही अनुशासन है। कहा जाता है कि जो अनुशासन में नहीं रह सकता वो सेना में भी नहीं रह सकता।

भारतीय सेना (Indian Army) दुनिया की सबसे घातक सेनाओं में से एक मानी जाती है। सेना का शौर्य और पराक्रम पूरी दुनिया में विख्यात है। भारतीय सेना दिन रात कड़ी मेहतन करती है। ऐसे में जवानों की डाइट का विशेष ख्याल रखा जाता है।

Kargil War 1999: परवेज मुशर्रफ ने एक हेलिकॉप्टर से नियंत्रण रेखा पार की थी और भारतीय भूभाग में करीब 11 किमी अंदर एक स्थान पर रात भी बिताई थी।

इस साल रक्षा बजट 4.78 लाख करोड़ रु है जबकि साल 2020-21 में ये आंकड़ा 4.71 लाख करोड़ था। बजट में सैनिकों के वेतन-भत्ते और पेंशन का खर्च भी शामिल होता है।

भारत अपने दो पड़ोसी देशों पाकिस्तान और चीन के साथ हमेशा से विवादों में रहा है। आजादी के बाद से अबतक दोनों देशों से रिश्ते कुछ खास नहीं रहे हैं। अबतक लड़े पांच युद्ध में से चार पाकिस्तान के खिलाफ तो एक चीन के खिलाफ लड़ा जा चुका है।

भारतीय सेना (Indian Army) के पास एक से बढ़कर एक घातक हथियार हैं। इन हथियारों का लोहा हमारे पड़ोसी देश भी मानते हैं। हवाई हमलों को सबसे घातक हमला माना जाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि कम समय में इसके जरिए भारी तबाही मचाई जा सकती है।

भारतीय सेना (Indian Army) के पास घातक हथियार हैं। ऐसे हथियार जिनका इस्तेमाल अगर दुश्मनों के खिलाफ किया गया तो भारी नुकसान होना तय है। किसी भी देश की सेना ताकतवर तभी कही जाती है जब उसके पास घातक हथियार हों।

भारतीय सेना ने आजादी के बाद से अबतक पांच युद्ध लड़े हैं। चार युद्ध पाकिस्तान तो एक युद्ध चीन से लड़ा गया है। सिर्फ 1962 में चीन के खिलाफ हमें हार मिली है। भारतीय सेना (Indian Army)  जवान हर मोर्चे पर दुश्मनों को नेस्तनाबुद करने के लिए जाने जाते हैं।

Indian Army: चढ़ाई करनी हो तो इन जूतों को पहनकर आसानी से लंबी दूरी तय की जा सकती है। भारतीय सेना के जवानों के लिए यह जूत विदेश से मंगाए जाते हैं।

पूर्वी लद्दाख से लगती चीनी सीमाओं पर डटे करीब 50 हजार भारतीय सेना (Indian Army) जवान बीते कई महीनों से सरहद की पहरेदारी कर रहे हैं। इसके लिए वे बर्फीली सर्दी में अपनी जान की परवाह भी नहीं कर रहे हैं।

भारतीय सेना (Indian Army) के जवान अपने पराक्रम के लिए विख्यात हैं। देश की रक्षा के लिए भारतीय वीर सपूत किसी भी हद से गुजरने के लिए तत्पर रहते हैं। सेना ने कई मौकों पर यह साबित भी किया है।

हर दिन चुनौतीभरा होता है क्योंकि ट्रेनिंग के दौरान बेहद ही कड़ा अनुशासन फॉलो किया जाता है। ऐसा अनुशासन जिसे एक सैनिक अपने कार्यकाल में भी फॉलो करता है।

भारतीय सेना (Indian Army) की बात होती है तो थल सेना, नौसेना और वायुसेना आते हैं। इनमें अधिकतर सैनिक मुख्य रूप से देश के भीतर या सीमा पर शांति के माहौल में मोर्चा संभालते हैं।

ट्रेनी जवान का दिनचर्या बेहद व्यवस्त होता है। ट्रेनी सिपाही के लिए हर दिन चुनौतीभरा होता है क्योंकि ट्रेनिंग के दौरान बेहद ही कड़ा अनुशासन फॉलो किया जाता है।

यह भी पढ़ें