As I See It

शुक्रवार को पीएम मोदी अचानक लद्दाख पहुंच गए। उनके साथ CDS जनरल बिपिन रावत भी थे। पीएम मोदी जवानों से मिले, वहां का नक्शा समझा और वहीं से चीन समेत पूरी दुनिया को दो टूक संदेश दिया

पिछले कुछ दिनों में भारत और नेपाल के रिश्तों पर काफी चर्चा हुई है। चर्चा का केंद्रीय बिंदु रहा दोनों देशों के बीच का पुराना सीमा विवाद और इस विवाद में नेपाल की स्थिति को लेकर वहां की सरकार का अचानक आक्रामक हो जाना।

लद्दाख की गलवान घाटी में चल रहा मौजूदा LAC विवाद कब थमेगा? आखिर क्यों रह-रह कर ऐसी हरकतें करता रहता है? आखिर कब तक हमारे जवान ऐसे शहीद होते रहेंगे?

इस जगह की यानी गलवान रैली की स्ट्रैटेजिक इंर्पोटेंस आज से नहीं 1962 से है। 1962 में भी यहां पर चीन ने हमला किया था और वहां पर हमारी भी कुछ कैजुअल्टीज हुई थी और हम से ज्यादा चीन की कैजुअल्टीज हुई थी।

गलवान घाटी में चीनी सैनिकों ने बेहद क्रूरता के साथ हमारे जांबाज जवानों पर हमला कर दिया। इस औचक हमले में एक कमांडिंग अफसर समेत हमारे 20 जवान शहीद हो गए हैं।

भारत चीन के बीच लद्दाख के पास गलवान घाटी में चल रहे गतिरोध पर बीबीसी के पूर्व संपादक संजीव श्रीवास्तव ने ब्रिटेन में रह रहे अंतर्राष्ट्रीय मामलों के जानकार और पूर्व बीबीसी संपादक शिवकांत शर्मा से अंतर्राष्ट्रीय मीडिया में दोनों देशों के ताजा हालात पर प्रकाशित लेखों पर चर्चा की।

भारत चीन के बीच लद्दाख के पास गलवान घाटी में चल रहे गतिरोध पर बीबीसी के पूर्व संपादक संजीव श्रीवास्तव ने पूर्व राजयनिक टीसीए रंगाचारी से चर्ची की।

सवाल ये है कि दोनों देशों का जो सीमा विवाद (India China Border Tension) है उसका क्या हल है? इस ज्वलंत मुद्दे पर बीबीसी के पूर्व संवादक संजीव श्रीवास्तव ने कई अंतर्राष्ट्रीय लेखों के आधार पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। जरूर सुनें।

ऋषि कपूर साहब को सबसे पहले हमने 'मेरा नाम जोकर' में देखा था। एक बिल्कुल ही यंग स्कूल गोइंग स्टूडेंट। 'मेरा नाम जोकर' के उस मोटे से स्कूल गोइंग स्टूडेंट को देख कर कोई सोच भी नहीं सकता था आगे चल कर यही बच्चा इतना बड़ा स्टार बनेगा।

ज्योतिरादित्य माधवराव सिंंधिया के कांग्रेस से अलग होने से पूरे मध्यप्रदेश में प्रशासनिक गलियारों से लेकर स्वशासी दफ्तरों तक ,हाई प्रोफाइल अधिकारियों से लेकर आम कर्मचारियों तक,व्यवसायियों से लेकर राजनैतिक व्यक्तित्व तक सभी इस बात को लेकर चिंतनशील है,

कोरोना वायरस (Coronavirus) का असर भारत की अर्थव्यवस्था पर भी दिख सकता है। चीन में संक्रमण के चलते न सिर्फ भारत में होने वाले आयात बल्कि देश का निर्यात भी प्रभावित हो रहा है।

आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejrwal) ने दिल्ली विधानसभा में पूर्ण बहुमत से सरकार बनाकर तीसरी बार मुख्यमंत्री की कुर्सी पर काबिज हुए हैं।

किसी क्रांतिकारी बजट की उम्मीद करना बेमानी है, क्योंकि वित्त मंत्री के पास इतनी गुंजाइश नहीं है कि वो कोई धमाकेदार बजट पेश कर सकें। एक चीज जो वह कर सकती हैं कि कुछ ऐसे बड़े और कड़े कदम उठाएं जिनका असर बेशक फिलहाल ना दिखे लेकिन आगे चलकर उसका फायदा इकॉनमी को मिले।

हस्तक्षेप एपिसोड नंबर 7:- गणतंत्र देश के तौर पर मजबूत हुआ भारत (India), लेकिन मौजूदा सरकार को अपने देशवासियों से...

हस्तक्षेप एपिसोड नंबर 6:-  दिल्ली में अगले महीने होने वाले विधानसभा में पिछली बार की सत्ताधारी पार्टी कांग्रेस (Congress) के...

हस्तक्षेप एपिसोड नंबर 4:- दिल्ली चुनावों से पहले आए एक सर्वे में ये बताया गया है कि आगामी विधानसभा चुनावों...

हस्तक्षेप एपिसोड नंबर 4:- राजस्थान के जेके लोन (JK Lon) अस्पताल में बच्चों की मौत पर राजनीति कितनी वाजिब राजस्थान के...