JHARKHAND

चाईबासा जिले के अलग-अलग थाना क्षेत्र में पिछले तीन महीने के दौरान नक्सलियों और पुलिस के बीच दर्जनों मुठभेड़ हुई हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स का कहना है कि हत्यारों ने नक्सली की हत्या को दुर्घटना का रूप देने की कोशिश की है। नक्सली का नाम अजय गोप है।

Jharkhand: इनमें पीराटाड़ गिरिडीह मिसिर बेसरा, अनल दा उर्फ तूफान और टुंडी धनबाद का रहने वाला प्रयाग मांझी शामिल है। ये तीनों नक्सली एक-एक करोड़ के इनामी हैं।

Jharkhand: गुदड़ी और लोढाई के बीच वाहन चेकिंग की जा रही थी। इस दौरान पीएलएफआई (PLFI) के चार हार्डकोर नक्सलियों के बारे में जानकारी मिली। जिन्हें बाद में गिरफ्तार कर लिया गया।

पुलिस ने पिस्टल समेत नकली साहित्य बरामद किया है और सर्च ऑपरेशन जारी है। ये जानकारी गुमला एसपी हरदीप पी जनार्दन ने दी है।

झारखंड में सिर्फ जगरनाथ महतो ही अकेले दसवीं पास मंत्री नहीं हैं, बल्कि कई अन्य मंत्री भी इस कतार में हैं।

आज से 17 साल पहले गिरिडीह में नक्सलियों द्वारा कई अमानवीय घटनाओं को अंजाम दिया गया था। उन नक्सलियों के खिलाफ गिरिडीह उपायुक्त सह जिला दंडाधिकारी राहुल कुमार सिन्हा ने अभियोजन चलाने की अनुमति दे दी है।

पुलिस ने बोकारो जिले के जगेश्वर विहार से भाकपा (माओवादी) से संबंध रखने वाले छोटू मांजी उर्फ सहदेव उर्फ निशिकांत को गिरफ्तार कर लिया।

थोड़ी ही देर में कई किलोमीटर तक हाईवे पर गाड़ियों की लंबी कतार लग गई।  सूचना पाकर अधिकारी आए और किसी तरह समझा-बूझकर मामला शांत किया।

एसपी के मुताबिक नक्सली के पास से एक पिस्टल (लोडेड), एके-47 के ग्यारह कारतूस और संगठन की रसीद वगैरह बरामद हुई है।

झारखंड और बिहार की पुलिस लगातार अपनी सीमा में संयुक्त रुप से अभियान चला रही है, जिसमें कई नक्सली पुलिस की रडार पर हैं।

गिरिडीह से एनआईए (NIA) ने भाकपा माओवादियों से जुड़े टेरर फंडिंग (Terror Funding) केस में 25 लाख के इनामी नक्सली सुनील मांझी उर्फ सुनील सोरेन को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार नक्सली सुनील भाकपा माओवादी की झारखंड-बिहार स्पेशल एरिया कमेटी ( सैक) का सदस्य है।

झारखण्ड में कोरोना से संक्रमित होने वाले पुलिसकर्मियों की संख्या 260 और चिकित्साकर्मियों की संख्या 179 है।

झारखंड (Jharkhand) में कोरोना वायरस (Coronavirus) की महामारी की वजह से हुए लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान बंद स्कूल में बच्चों की पढ़ाई बाधित न हो, इसके लिए राज्य सरकार के साथ-साथ शिक्षक भी अपने स्तर से प्रयास कर रहे हैं।

झारखंड (Jharkhand) सरकार ने नक्सली इलाकों (Naxal Area) में तैनात जवानों के लिए 45 लाख की जीवन बीमा की घोषणा की है। इस बीमा योजना का लाभ नक्सल प्रभावित क्षेत्र में कार्यरत सभी अधिकारियों और सुरक्षाबल के जवानों को मिलेगा।

इरादा अगर पक्का हो तो सफलता जरूर मिलती है। इसे साबित कर दिखाया है झारखंड (Jharkhand) के गिरिडीह के धुर नक्सलग्रस्त गांव जरूवाडीह की बेटी मनीषा कुमारी ने।

प्रेम और सद्भाव की इससे बड़ी मिसाल क्या हो सकती है कि कोरोना के खौफ से 72 साल की लाखिया को अपनों ने दगा दिया, पर इंसानियत में यकीन रखने वाले लोगों ने आखिरी वक्त में उसका साथ दिया। कुछ मुस्लिम युवकों ने वृद्धा की अर्थी को कंधा दिया और उसकी अंतिम यात्रा पूरी की।

यह भी पढ़ें