Entertainment

इन दोनों कलाकारों ने अपनी जमानत की अर्जी भी डाली है लेकिन उस पर सोमवार को सुनवाई होगी। फिलहाल भारती सिंह (Bharti Singh) को कल्याण जेल में रखा जाएगा।

पूरा देश आज के दिन दिवाली के खुमार में डूबा है। हर तरफ लोग त्यौहार को सेलीब्रेट कर रहे हैं। कोरोना के बावजूद दिवाली पर लोगों के जोश में कोई कमी नहीं आई है।

आसिफ धर्मशाला में एक किराए के मकान में रहते थे। वह टीवी और फिल्मों के एक जाने-माने अभिनेता थे। उनके शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है।

करोड़ों दिलों पर राज करने वाले अभिनेता शाहरुख खान (Shahrukh Khan) आज अपना 55 वां जन्मदिन मना रहे हैं। उनके फैंस देश ही नहीं दुनियाभर में हैं। हर साल 2 नवंबर को उनके घर मन्नत के बाहर शाम से ही हजारों की संख्या में फैन्स जमा हो जाते हैं।

ओमपुरी (Om Puri) के व्यक्तित्व का एक और पहलू सामने आता है, वह है सेक्स को लेकर ओम का लगाव। ओम के जीवन में कई महिलाएं आती हैं, लगभग सभी के साथ ओम शारीरिक संबंध भी बनाते हैं, लेकिन विवाह के बंधन में बंध पाने में असफलता ही हाथ लगती है।

साल 1970 में आई फिल्म ‘जॉनी मेरा नाम’ से हेमा मालिनी (Hema Malini) को पहली सफलता हासिल हुई। इसमें उनके साथ सदाबहार एक्टर देवानंद लीड रोल में थे। फिल्म में हेमा और देवानंद की जोड़ी को लोगों ने खूब पसंद किया

शंकर जयकिशन  ने अपने 3 दशक से अधिक लंबे सिने करियर में लगभग 200 फिल्मों को संगीतबद्ध किया। शंकर जयकिशन (Shankar Jaikishan) की जोड़ी साल 1971 तक कायम रहे।

अशोक कुमार (Ashok Kumar) अपने दौर की प्रख्यात अभिनेत्री देविका रानी के साथ काम कर रहे थे, लेकिन उनके अभिनय को देखकर कहीं भी यह नहीं लगता था कि वह कोई नौसिखिया अभिनेता हो।

किशोर कुमार (Kishore Kumar) की शुरुआत एक अभिनेता के रूप में फिल्म 'शिकारी' (1946) से हुई। इस फिल्म में उनके बड़े भाई अशोक कुमार ने प्रमुख भूमिका निभाई थी।

अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) को सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के रूप में चार बार राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार और 15 बार फिल्म फेयर अवॉर्ड मिल चुका है। उन्हें 1984 में पद्मश्री और 2001 में पद्मभूषण तथा 2015 में पद्मविभूषण भी दिया जा चुका है।

परदे की दुनिया से बाहर रेखा (Rekha) के कई लव अफेयर्स भी चर्चा में रहे। विनोद मेहरा से लेकर किरण कुमार तक, सभी के साथ रेखा का नाम जुड़ा। विनोद मेहरा और रेखा ने कोलकाता में शादी भी कर ली थी।

अस्सी के दशक में विनोद खन्ना (Vinod Khanna) की जिंदगी में एक वक्त ऐसा भी आया था जब वो बॉलीवुड में अमिताभ बच्चन के बाद दूसरे नंबर के स्टारडम वाले अभिनेता बन गए थे। लेकिन इसी दौरान उनकी मां का देहान्त हो गया।

अभिनेता सोनू सूद (Sonu Sood) ने कहा कि वह यूएनडीपी का समर्थन करते हैं। एक्टर का  कहना है, “यह एक दुर्लभ सम्मान है। संयुक्त राष्ट्र की मान्यता बहुत खास है।

ऋषिकेश मुखर्जी (Hrishikesh Mukherjee) ने जिस खूबसूरती से क्लाइमैक्स में पहले से रिकॉर्ड किए डायलॉग का इस्तेमाल किया था उसने इस फिल्म और राजेश खन्ना के किरदार को सिनेमा में अमर कर दिया।

1965 में आई फिल्म भूत बंगला से महमूद (Mehmood) ने फिल्म डायरेक्शन में कदम रखा। 1974 में आई फिल्म कुंवारा बाप को उन्होंने डायरेक्ट किया था। इसके अलावा कई फिल्मों में उन्होंने बतौर सिंगर भी अपनी आवाज दी।

लता जी (Lata Mangeshkar) का लगभग 6 दशकों का कार्यकाल उपलब्धियों से भरा पड़ा है। लता जी ने ना सिर्फ हिन्दी बल्कि बंगला, मराठी और असमी जैसी लगभग तीस से ज्यादा भाषाओं में फिल्मी और गैर-फिल्मी गाने गाए हैं।

यश चोपड़ा (Yash Chopra) अपने पिता से लड़-झगड़ कर पंजाब से बीआर चोपड़ा के पास मुंबई चले आए थे। दिलीप कुमार की अदाकारी के वे कायल थे और उन्हीं की तरह हीरो बनना चाहते थे।

यह भी पढ़ें