Kargil War

युद्ध ऊंची पहाड़ियों पर लड़ा गया था लिहाजा दुश्मन को हराने के लिए वायु सेना का बखूबी इस्तेमाल किया गया। मिग-27 से कब्जे वाले इलाकों पर बम गिराए गए थे।

कारगिल युद्ध को पाकिस्तान ने धोखे से अंजाम दिया था। पाकिस्तान की इस हरकत का भारतीय सेना ने माकूल जवाब दिया था। भारतीय सेना ने हर मोर्चे पर पाकिस्तान को फेल किया था।

'परमवीर चक्र' विजेता मनोज कुमार पांडेय (Captain Manoj Kumar Pandey) ने शहादत से पहले अपने दोस्त को एक खत लिखा था। उन्होंने युद्ध के दौरान अपने अनुभवों को दोस्त के साथ साझा किया था।

कारगिल युद्ध के दौरान भारतीय सेना के प्रमुख रहे जनरल वेद प्रकाश मलिक (Ved Prakash Malik) ने कोरोना महामारी को लेकर जनता को सतर्क किया है।

भारत और पाकिस्तान के बीच 1999 में कारगिल युद्ध (Kargil War) लड़ा गया था। इस युद्ध में पाकिस्तान ने भारत को धोखा दिया था। पाकिस्तान के खिलाफ भारतीय सेना ने बखूबी प्रदर्शन कर जीत हासिल की थी।

भारत और पाकिस्तान के बीच 1999 में  लड़े गए कारगिल युद्ध (Kargil War) के दौरान कैप्टन अमोल कालिया (Captain Amol Kalia) ने बेहद ही शानदार प्रदर्शन किया था।

kargil war: डोला राम ने 10वीं की परीक्षा राजकीय उच्च विद्यालय नित्थर से पास की थी। उनमें देश सेवा का जज्बा था। इस जज्बे को उन्होंने पूरा भी किया।

पीरू सिंह ने न सिर्फ अपनी टीम के साथ दुश्मन सेना पर धावा बोला बल्कि ऊंचाई पर तैनात पाकिस्तानी सेना के पास पहुंचने में सफलता पाई थी।

भारत और पाकिस्तान के बीच 1999 में लड़े गए कारगिल युद्ध (Kargil War 1999) के दौरान भारतीय जवानों ने गहरे जख्मों के बावजूद अपना हौसला नहीं खोया था।

पाक सेना और भारतीय सेना (Indian Army) की ओर से श्रीनगर-लेह मार्ग के बेहद करीब स्थिति 5140 प्‍वाइंट पर लगातार गोलीबारी की जा रही थी और दुशमन ऊंचाई पर थे।

कई जवान ऐसे थे जो जंग के मैदान में ही शहीद हो गए थे। ऐसे ही एक जवान खतौली के पास गांव फुलत जिला मुज्जफरनगर के रहने वाले सतीश कुमार भी थे।

मेजर अधिकारी के इस वीरता और बलिदान के लिए उन्हें महावीर चक्र से सम्मानित किया गया। वहीं मेजर गुप्ता को मरणोपरात महावीर चक्र से अलंकृत किया गया।

पाक को भारत के इन खतरनाक हथियारों का पता चला था तो उसकी रातों की नींद उड़ गई थी। युद्ध (Kargil War 1999) के 17 दिनों में हर रोज प्रति मिनट में एक राउंड फायर किया गया था।

भारत और पाकिस्तान के बीच 1999 में लड़े गए कारगिल युद्ध (Kargil War 1999) के दौरान भारतीय सेना (Indian Army) के वीर सपूतों ने दुश्मनों को भगा-भगाकर मारा था।

भारत और पाकिस्तान के बीच 1999 में कारगिल युद्ध (Kargil War) लड़ा गया था। इस युद्ध में भारतीय सेना ने पाकिस्तान को बुरी तरह से हराया था। पाकिस्तान को ऐसा सबक सिखाया गया था जिसे वो आज तक याद रखता है।

Kargil War 1999: लद्दाख के लोअर लेह गांव के मोहम्मद अख्तर ने 1999 में भारतीय सेना के लिए स्वेच्छा से कई हफ्तों तक युद्ध के मैदान में मदद की थी।

भारत और पाकिस्तान के बीच 1999 में कारगिल युद्ध (Kargil War) लड़ा गया था। इस युद्ध में भारतीय सेना (Indian Army) की जीत हुई थी। युद्ध में हमारे वीर सपूतों ने ऐसा पराक्रम दिखाया था, जिसे यादकर दुश्मन देश के जवान आज भी कांप उठता होगा।

यह भी पढ़ें