Naxal

टॉप नक्सल कमांडर और नेता प्रशांत बोस की गिरफ्तारी के विरोध में नक्सलियों ने पूरे राज्य में एक सप्ताह का प्रतिरोध सप्ताह मनाने की घोषणा की है।

नक्सली विजय (Naxali Vijay) के पास किसी भी तरह का हथियार नहीं मिला लेकिन पुलिस के पास इसके खिलाफ काफी सबूत हैं। साथ ही पुलिस आस-पास के थानों से भी नक्सली विजय का आपराधिक इतिहास खंगाल रही है।

सुरक्षाबलों ने संगइ लेवी वसूलने वाले तीन नक्सलियों (Naxalites) को गिरफ्तार किया जिनकी पहचान गुदड़ी के रमाय भैंसा, गुदड़ी के ही दामु बरजो और चाईबासा में गुदड़ी के ही मंगरा टुटी के रूप में की गयी है।

गुप्त सूचना मिली थी कि एक नक्सली हथियारों की सप्लाई के लिए पिंडीग की तरफ जा रहा है। इसी के आलोक में एक टीम बनाकर पुलिस ने नक्सली हिंदुवा होरो (Naxali) को गिरफ्तार कर लिया है।

नक्सलियों के अचानक हमले में पुलिस के तीन जवान घायल  हो गयें जिन्हें इलाज के लिए फौरन हेलीकॉप्टर से नागपुर भेजा गया। हालांकि उपचार के दौरान तीन पुलिसकर्मी शहीद हो गये।

नक्सलियों (Naxalites) ने रांची रेंज के आईजी अमोल बी होमकर और डीआईजी पंकज कंबोज की मौजूदगी में हथियार डाले।

दोनों नक्सली पिछले दो सालों के दौरान कथित तौर पर तीन एनकाउंटर में शामिल रहे हैं। गिरफ्तार नक्सलियों पर प्रशासन ने पहले से ही दो-दो लाख का इनाम घोषित कर रखा है।

नक्सली मगरू कुछ महीने पहले गढ़चिरौली जिले के बर्गी में सशस्त्र पुलिस चौकी पर हमले और उप-सरपंच रामा तलंदी की हत्या में भी शामिल था।

पुलिस की ओर से जवाबी गोलीबारी होने पर टीएसपीसी के सभी नक्सली (Naxalites) फरार हो गये। मुठभेड़ आधे घंटे तक चली, इसमें दोनों तरफ से किसी को कोई नुकसान नहीं हुआ।

जनवरी 2020 से 31 जुलाई 2021 तक कुल 688 माओवादियों (Maoists) को गिरफ्तार किया गया। इस दौरान पुलिस एनकाउंटर में 18 मारे भी गए और 25 ने पुलिस के सामने सरेंडर (Surrender) भी कर दिया।

एसएसपी के मुताबिक, इन लैंडमाइंस (Land Mines) और सड़क पर बिछाए गए तार को देखकर लग रहा है कि बीते 5 महीने पहले इसे बिछाया गया था। पुलिस पार्टी की कार्रवाई जारी है।

नक्सलियों (Naxalites) की सेंट्रल कमेटी ने प्रेस नोट जारी कर ये बताया है कि पिछले एक साल में देश के अलग-अलग राज्यों में 160 नक्सलियों की मौत हुई है।

गिरफ्तार दोनों नक्सली पिछले तीन साल से फरार चल रहे थे। दोनों नक्सलियों को भंडरा थाना में सीएलए एक्ट के तहत गिरफ्तार कर लोहरदगा मंडल कारागृह भेज दिया गया है।

पुलिस अधीक्षक अमित रेणु के अनुसार नक्सलियों (Naxalites) ने पुलिस को निशाना बनाने के लिए यह बम पुलिया में लगाया था, लेकिन गुप्त सूचना के आधार पर बम को बरामद कर इसे निष्क्रिय कर दिया गया

झारखंड (Jharkhand) के पश्चिमी सिंहभूम जिले के गुदड़ी में सीआरपीएफ 94 बटालियन  और उग्रवादियों के बीच मुठभेड़ हो गई। ये मुठभेड़ रविवार सुबह करीब 5 बजे हुई है।

नक्सली (Naxali) किशन का आतंक चतरा जिले के अलावा हजारीबाग, रांची, रामगढ़ और पलामू जिलों में भी था। झारखंड के कई जिलों के अलग-अलग थानों में इस नक्सली कमांडर के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज है।

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले के घोर नक्सल (Naxali) प्रभावित गांव नहाड़ी (Nahadi) में पुलिस अब कैंप (Police Camp) खोलने की तैयारी कर रही है।

यह भी पढ़ें