Naxal

सीआरपीएफ जवान का नाम योगेंद्र यादव है और यह वीडियो बिहार के गया का बताया जा रहा है। योगेंद्र टनकुप्पा के रहने वाले हैं। उनका कहना है कि प्रशासन की तरफ से कोई मदद नहीं मिल रही। न ही बात सुनी जा रही है।

पुलिस के मुताबिक झीरम घाटी में कांग्रेस नेताओं की हत्या के बाद इस तरह का पहली बार जमावड़ा हो रहा है। साल 2013 में कांग्रेस नेताओं पर नक्सली हमला हुआ था।

झारखंड में नक्सलवाद अब भी चुनौती बना हुआ है। 2019 में प्रतिबंधित नक्सली (Naxal) संगठनों ने झारखंड के 15 जिलों में 133 वारदातों को अंजाम दिया है। वहीं, दूसरी ओर नौ जिलों में एक भी नक्सली वारदात की बात सामने नहीं आई है।

जिले के लेस्लीगंज से लहलहे तक सड़क निर्माण कार्य में लगे हाईवा को TPC नक्सली संगठन ने 26 दिसंबर की रात को फूंक दिया। हाइवा को जलाने के बाद घटनास्थल पर पर्चा छोड़ कर संगठन ने इस घटना की जिम्मेदारी ली है।

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (Bhupesh Baghel) ने कहा है कि हमारी सरकार नक्सलवाद के खात्मे के लिए दृढ़ संकल्पित है।

नक्सल इलाके में काम कर रहे दंतेवाड़ा पुलिस अधीक्षक डॉ. अभिषेक पल्लव और बस्तर (Bastar) के सब डिविजनल पुलिस ऑफीसर (एसडीओपी) डॉ. यूलंडन यार्क अपनी मेडिकल शिक्षा का इस्तेमाल ग्रामीणों के स्वास्थ्य की बेहतरी के लिए कर रहे हैं।

बिहार के औरंगाबाद जिले के गोह की बंदेया थाना पुलिस ने जेसीबी जलाने वाले एक नक्सली (Naxali) को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा में एक बस्ती है जिसका निक नेम है 'एसपीओ बस्ती'। एसपीओ यानी विशेष पुलिस अधिकारी। यह बस्ती जिले की जुडूम पारा बस्ती है।

छत्तीसगढ़ के अति नक्सल प्रभावित दक्षिण बस्तर में एक ओर जहां नए पुलिस कैम्प (Police Camp) खोलने का विरोध हो रहा है, वहीं दूसरी ओर मध्य बस्तर में अतिसंवेदनशील और घोर नक्सल प्रभावित गांव भड्डरीमहु के ग्रामीणों ने पुलिस कैम्प (Police Camp) खोलने की मांग की है।

बिहार के गया जिले से पुलिस, सीआरपीएफ 153वीं बटालियन, कोबरा 205 के जवानों ने 6 दिसंबर की सुबह एक नक्सली (Naxal) को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार नक्सली का नाम जनेश्वर यादव है।

बिहार के नक्सल प्रभावित जिले गया के गुरपा ओपी क्षेत्र के जंगली और पहाड़ी इलाकों में एसएसबी और गुरपा ओपी पुलिस ने 5 दिसंबर को नक्सलियों (Naxals) के खिलाफ सघन कॉम्बिंग ऑपरेशन चलाया।

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने देश के विभिन्न राज्यों में फैले नक्सलवाद (Naxal Violence) के मामले में...

झारखंड (Jharkhand) के बोकारो जिले के धुर नक्सल प्रभावित क्षेत्र बेरमो के पेंक थाना के ऊपरघाट में विधानसभा चुनाव शांतिपूर्वक संपन्न कराने के लिए पुलिस ने छापेमारी एवं एलआरपी अभियान चलाया।

छत्तीसगढ़ के धुर नक्सल (Naxal) प्रभावित जिले दंतेवाड़ा (Dantewada) में सुरक्षा बल के जवानों की सतर्कता के कारण ए​क बार फिर नक्सलियों की साजिश नाकाम हो गई।

बिहार के नक्सल प्रभावित मुंगेर (Munger) जिले के धरहरा थाना क्षेत्र में पुलिस ने छापेमारी कर तीन अवैध मिनी बंदूक कारखाने का भंडाफोड़ किया।

छत्तीसगढ़ के नक्सल (Naxal) प्रभावित सुकमा जिले में 3 नक्सलियों को गिरफ्तार किया गया। एक पुलिस अधिकारी ने 24 नवंबर को यह जानकारी दी।

इस बार नक्सली झारखंड (Jharkhand) विधानसभा चुनाव में खलल डालने की पूरी कोशिश कर सकते हैं। मौका मिलते ही वे हिंसक घटना को अंजाम देने की फिराक में हैं।