Indian Air Force

अब चीन और पाकिस्तान के पसीने छूटने वाले हैं, क्योंकि भारतीय वायुसेना में जल्द ही लड़ाकू विमान राफेल (Rafale Fighter Jets) शामिल होने वाला है। उम्मीद है कि 29 जुलाई को 4-6 राफेल लड़ाकू विमान भारत आएंगे।

एयर मार्शल विवेक राम चौधरी (Air Marshal Vivek Ram Chaudhari) को पश्चिमी वायु कमान प्रमुख (Western Air Command Chief) के रूप में नियुक्त किया गया है।

भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) के राफेल विमानों के बारे में दुनिया जानती है और दुश्मन इससे खौफ खाते हैं। अब भारतीय वायुसेना राफेल को और भी खतरनाक बनाने में जुटी हुई है। दरअसल तैयारी है राफेल विमान में हैमर मिसाइल (HAMMER Missile) लगाने की।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defense Minister Rajnath Singh) ने एयर फोर्स (Indian Air Force) कमांडरों की कॉन्फ्रेंस का उद्घाटन किया। 22 जुलाई से 24 जुलाई तक 3 दिनों तक चलने वाले इस कॉन्फ्रेंस में एलएसी (LAC) पर चीन के साथ चल रहे तनाव, एयर फोर्स की तैयारियों को लेकर चर्चा होगी।

युद्ध के दौरान फोर्स ने दुश्मनों का सफाया करने के लिए ऑपरेशन 'सफेद सागर' चलाया था। उस दौरान भारत के पास मिग 21, मिग 23 और मिग 27 जैसे लड़ाकू विमान थे।

अबतक कई एनसीसी कैडेट ने सेना में भर्ती होकर देश का नाम रोशन किया है। एनसीसी कैडेट रहीं और फिर एयरफोर्स में अधिकारी रैंक पर तैनात हुईं।

भारत और चीन के बीच चल रहे तनाव के बीच भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) को सभी अपाचे हेलिकॉप्टर (Apache Helicopter) और चिनूक हेलिकॉप्टर (Chinook Helicopter) मिल गए हैं।

भारत-चीन सीमा के पास भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) के अपाचे लड़ाकू हेलिकॉप्टर (Apache Attack Helicopters) ने फॉरवर्ड एयरबेस पर नाइट ऑपरेशन संचालित किया। यहां देर रात अपाचे, चिनूक समेत वायुसेना के कई विमान उड़ान भरते हुए दिखे और चीन पर पैनी नजर रखते रहे।

LAC पर चीन के साथ चल रहे तनाव के बीच भारत को मीटियर मिसाइल से लैस छह राफेल लड़ाकू विमानों (Rafale Jets) का पहला खेप 27 जुलाई तक मिलने की उम्मीद है।

भारत समेत घाना, ब्रिटेन और नाइजीरिया की सेना ने भी हिस्सा लिया था। हालांकि भारतीय सेना की इस ऑपरेशन में ज्यादा टुकड़िया थीं। इस ऑपरेशन में गोरखा रेजीमेंट ने अहम भूमिका निभाई थी।

चीन के लड़ाकू विमानों और हेलीकॉप्टर्स की गतिविधियां बॉर्डर पर बढ़ती जा रही हैं। न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक भारत की तरफ से सीमा पर सेना की मौजूदगी और ताकत को बढ़ा दिया गया है।

मध्य प्रदेश के नीमच जिले की आंचल गंगवाल (Anchal Gangwal) की सफलता की उड़ान की कहानी एक ऐसी कहानी है, जो आपको अपने सपनों से प्यार करने और उन्हें पूरा करने की हिम्मत देगी। छोटे से शहर की आंचल ने इंडियन एयर फोर्स एकेडमी (Indian Air force Academy) से ग्रेजुएट किया है।

हिंद महासागर (Indian Ocean) में चीन (China) पर नजर रखने के लिए भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) के देसी लड़ाकू विमान तेजस (Fighter Jet Tejas) की दूसरी स्क्वॉड्रन वायुसेना में शामिल हो गई।

लद्दाख में सीमा पर भारत-चीन सेना में चल रहे तनाव के बीच वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल (Air Chief Marshal) आर के एस भदौरिया (R K S Bhadouria) 27 मई को एयरफोर्स (Indian Air Force) की 18 स्क्वाड्रन 'फ्लाइंग बुलेट' का परिचालन शुरू करेंगे।

भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) ने लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा की ओर आ रहे चीनी हेलीकॉप्टरों को खदेड़ दिया। भारतीय लड़ाकू विमानों ने लद्दाख सीमा की ओर उड़ान भरी और चीनी चॉपर्स को वापस लौटना पड़ा।

बिपिन रावत (General Bipin Rawat) ने बताया कि फ्लाई पास्ट के दौरान उन अस्पतालों पर हेलिकॉप्टर से फूल बरसाए जाएंगे, जो कोरोना वायरस का इलाज कर रहे हैं। इसके साथ ही सशस्त्र बल इसी दिन पुलिस मेमोरियल पर फूल चढ़ाएंगे।

एयरचीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया (Air Chief Marshal R K S Bhadauria) ने कहा है कि एक साल पहले सरकार ने नियंत्रण रेखा के पार पाकिस्तान के भीतर आतंकवादी प्रशिक्षण शिविरों पर हमला करने का कठोर और साहसिक निर्णय लिया था।

यह भी पढ़ें