Indian Air Force

रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट ने बुधवार को लोकसभा में बताया कि भारत को फ्रांस की कंपनी दसां एविएशन से अब तक 36 में से 26 राफेल फाइटर जेट्स (Rafale Fighters Jets) मिल चुके हैं।

टाटा बोइंग एयरोस्पेस लिमिटेड (टीबीएएल) ने हैदराबाद स्थित अपने संयंत्र से एएच-64 अपाचे (Boeing AH-64 Apache) लड़ाकू हेलिकॉप्टर के लिए 100वां फ्यूसलाज यानी विमान का ढांचा बोइंग को सौंप दिया है।

वायु सेना के आरएफआई में कहा है कि Counter-UAS  का मकसद शत्रुतापूर्ण मानव रहित हवाई वाहन का पता लगाना‚ ट्रैक करना‚ पहचानना‚ नामित करना और बेअसर करना है।

यह पहला मौका है जब किसी दूसरे देश की वायु सेना के प्रमुख ने बांग्लादेश में पासिंग आउट परेड का मुख्य अतिथि के रूप में निरीक्षण किया है।

जम्मू एयरपोर्ट के एयरपोर्ट स्टेशन (Air Force Station) पर हमले के लिए लाइट ड्रोन का इस्तेमाल किया गया था। जिसने हमले के लिए एलओसी के नजदीक मंगला से ड्रोन ने उड़ान भरी थी।

जब कोई विमान किसी देश की सीमा पार कर उनके हवाई क्षेत्र में गश्त लगाने लगता है तो इसे हवाई क्षेत्र का उल्लंघन करार दिया जाता है।

भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) और नौसेना (Indian Navy) ने अमेरिकी नौसेना (US Navy) के साथ मिलकर हिंद महासागर (Indian Ocean) में सामरिक महत्‍व की एक बड़ी एक्‍सरसाइज पूरी की।

भारतीय नौसेना (Indian Navy) और वायुसेना (Indian Airforce) का अमेरिकी नौसेना (US Navy) के साथ युद्धाभ्‍यास शुरू हो चुका है। यह युद्धाभ्‍यास हिंद महासागर (Indian Ocean) में हो रहा है।

भारत और पाकिस्तान के बीच 1971 में लड़े गए युद्ध (War of 1971) में पाकिस्तान के हजारों सैनिकों ने सरेंडर कर दिया था। भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) ने इस युद्ध में बेहद ही अहम भूमिका निभाई थी।

एयर मार्शल माथुर ने ट्रेनिंग से संबंधित सभी महत्वपूर्ण इलाकों का दौरा किया, एएफएसी जवानों के साथ बातचीत की और ट्रेनिंग में उत्कृष्टता की खोज की दिशा में निरंतर प्रयासों के लिए कर्मचारियों की सराहना की।

रक्षा मंत्रालय (Defence Ministry) के तहत आने वाले सभी प्रतिष्ठान मसलन सेना की तीनों शाखाएं‚ इंटिग्रेटेड डिफेंस स्टाफ‚ असम राइफल्स और अन्य सभी सूचनाएं रक्षा मंत्रालय के इतिहास विभाग को मुहैया कराएंगे जो इन्हें सुरक्षित रखेगा।

Indian Army: जवानों को शत्रु पर फायर अटैक, दुश्मन के इलाके में उतरना, कई तरह की जांबाज गतिविधियों आदि के बारे में सिखाया जाता है।

भारत और पाकिस्तान 1947 में बंटवारे के बाद से अबतक चार युद्ध (India Pakistan War) में आमने सामने हो चुके हैं। जंग के मैदान में हमेशा भारतीय सेना (Indian Army) ने पाकिस्तान को नेस्तनाबूद किया है।

साल 1964 से 1969 तक अर्जन सिंह ने वायुसेना प्रमुख का पद संभाला। उनके कार्यकाल में ही पाक के खिलाफ भारत ने ताबड़तोड़ प्रदर्शन कर 1965 की जंग में जीत हासिल की थी।

भारतीय वायु सेना (Indian Air Force) ने चक्रवात 'यास' (Cyclone Yaas) से उत्पन्न स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह मुस्तैद रही। आपदा राहत कार्यों के लिए एयर फोर्स के 11 परिवहन विमान और 25 हेलिकॉप्टर तैनात किए गए थे।

हमारे जवानों ने बेहद ही बहादुरी के साथ लैंड माइन्स को पूरा का पूरा साफ करवाकर ही दम लिया था। दरअसल इन माइन्स को हटाना इसलिए जरूरी था।

भारत और पाकिस्तान के बीच 1971 के बीच लड़ा गया युद्ध (War of 1971) इंडियन आर्मी (Indian Army) की शौर्यगाथा को बयां करता है। इस युद्ध में हमारी सेना ने पाकिस्तान को तहस-नहस कर दिया था।

यह भी पढ़ें