Indian Air Force

भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) में शामिल होने के इच्छुक युवाओं के लिए सुनहरा मौका है। भारतीय वायुसेना ने कई यूनिट्स में ग्रुप सी सिविलयन पदों पर नौकरी के लिए आवेदन मंगवाए हैं।

आज 3 राफेल (Rafale) विमान भारत पहुंचेंगे। विमानों की ये खेप फ्रांस से सीधे अंबाला एयरबेस पर लैंड करेगी। इनके आने से भारतीय वायुसेना ज्यादा ताकतवर बन जाएगी।

पूर्व सैनिक, जो पिछले युद्धों में पाकिस्तान में युद्ध बंदी के रह चुके हैं। एयर कमोडोर जे एल भार्गव भी उन्हीं सैनिकों में एक हैं जो प्रिजनर ऑफ वॉर रह चुके हैं। वे 1971 के युद्ध में 1 साल तक पाकिस्तान में बंदी रहे थे।

जनरल नरवणे (MM Naravane) के अनुसार, हमारा मूल मुद्दा यह है कि उन्हें आतंकवाद को रोकने का समर्थन करना होगा। जब तक वे इसे नहीं रोकेंगे‚ चीजें सामान्य नहीं हो सकतीं।

चीन और पाकिस्तान के साथ जारी तनाव के बीच भारतीय वायु सेना खुद को लगातार मजबूत कर रही है। आने वाले 4 दिनों में भारतीय वायु सेना को 3 और राफेल विमान मिलने वाले हैं।

भारतीय सेना के जवान देश की रक्षा के लिए किसी भी हद तक गुजरने के लिए तैयार रहते हैं। सेना में महिलाएं हों या फिर पुरुष, दोनों ने अपनी-अपनी योग्यता को साबित किया है। सेना में महिलाओं के जज्बे और पराक्रम का लोहा माना जाता रहा है।

महिला जवान का नाम हैं गुंजन सक्सेना 1999 में गुंजन की पोस्टिंग 132 फॉरवर्ड एरिया कंट्रोल में की गई थी। उनकी उम्र तब मात्र 25 वर्ष थी।

ग्वालियर में वायुसेना (Indian Air Force) के जहाज मिग-21 (MiG 21) के हादसे में जालौन का लाल कैप्टन आशीष गुप्ता (Captain Ashish Gupta) शहीद हो गया।

रक्षा के क्षेत्र में भारत लगातार खुद को मजबूत कर रहा है। नई तकनीकी से लैस हथियार हमारी सेनाओं में शामिल हो रहे हैं। इसी कड़ी में भारतीय थलसेना (Indian Army) और वायुसेना (Indian Air Force) की ताकत में इजाफा हुआ है।

भारतीय वायुसेना ने बताया कि आज सुबह सेंट्रल इंडिया में एक एयरबेस से कॉम्बेट ट्रेनिंग मिशन के लिए रवाना होने के दौरान मिग-21 विमान हादसे का शिकार हुआ।

भारत और पाकिस्तान के बीच साल 1971 में युद्ध हुआ, जिसके बाद दुनिया के नक्शे पर बांग्लादेश सामने आया। 1971 में 16 दिसंबर का दिन भारत और बांग्लादेश दोनों के लिए महत्वपूर्ण है।

सेना के जवान जंग के दौरान भारी भरकम वजन लेकर कई-कई किलोमीटर तक पैदल चलते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि दुश्मनों को भनक लगे बिना ही उनके ठिकाने पर पहुंचना होता है।

हाल ही के दिनों में भारत का अरब देशों के साथ सैन्य साझेदारी बढ़ा है। इसी के तहत कुछ दिन पहले भारतीय थलसेनाध्यक्ष एमएम नरवणे ने सऊदी अरब और यूएई की यात्रा पर गये थे।

26 फरवरी के तड़के भारतीय लड़ाकू विमान मिराज 2000 के एक समूह ने एसओसी पार कर पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में आतंकी कैंप पर बमबारी की और उसे पूरी तरह से नष्ट कर दिया।

इलाके के लोगों और जवानों का मानना है कि बीते 45 साल से पंजाब रेजिमेंट में बतौर सिपाही बाबा हरभजन सिंह मरणोपरांत भी अपनी सेवाएं दे रहे हैं। 

ट्रेनिंग के दौरान इन कमांडोज को 33.5 हजार फीट की ऊंचाई से 50 जंप लगानी पड़ती है। इन जवानों को आगरा के एयरफोर्स पैरा ट्रेनिंग स्कूल में ट्रेनिंग दी जाती है।

भारतीय सेना (Indian Army) के जवान खुद को फिट रखने के लिए काफी मेहनत करते हैं। सैनिकों का शरीर पत्थर की तरह मजबूत होता है। ऐसा फौलादी शरीर पाने के लिए सैनिक एक बेहद ही कड़े रूटीन को फॉलो करते हैं।

यह भी पढ़ें