भारतीय वायु सेना में शामिल हुआ राफेल विमान, पाकिस्तान और चीन को मिलेगा मुंहतोड़ जवाब

राफेल (Rafale) की रेंज 3,700 किलोमीटर है और इसके साथ 4 मिसाइलों को भेजा जा सकता है। राफेल की लंबाई 15.30 मीटर और ऊंचाई 5.30 मीटर है।

Rafale

राफेल (Rafale) की इस उड़ान को देखकर पाकिस्तान और चीन जरूर सोच में पड़ गए होंगे क्योंकि बीते कुछ समय से चीन और पाकिस्तान लगातार भारत को सीमा पर गीदड़भभकी दे रहे हैं।

राफेल लड़ाकू विमान (Rafale) को औपचारिक तौर पर भारतीय वायु सेना (IAF) में शामिल कर लिया गया है।अब राफेल भारतीय वायु सेना का हिस्सा हो गया है। अंबाला एयरफोर्स स्‍टेशन पर इंडक्‍शन सेरेमनी में इसे IAF में शामिल कर लिया गया।

इस दौरान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और फ्रांस की रक्षामंत्री फ्लोरेंस पार्ले भी मौजूद रहीं। उनके सामने ही 17 स्कवॉड्रन ‘गोल्डन ऐरोज़’ के पायलटों ने करतब दिखाए।

राफेल की इस उड़ान को देखकर पाकिस्तान और चीन जरूर सोच में पड़ गए होंगे क्योंकि बीते कुछ समय से चीन और पाकिस्तान लगातार भारत को सीमा पर गीदड़भभकी दे रहे हैं। ऐसे में राफेल का भारतीय वायु सेना में शामिल होना दोनों देशों को एक बड़ा जवाब है। राफेल में वो ताकत है, जो दुश्मनों को पल भर में धूल चटा सकता है।

ये भी पढ़ें- Coronavirus: भारत में कोरोना के मामलों ने तोड़े अब तक के सारे रिकॉर्ड, 24 घंटे में आए 95,735 नए केस

राफेल की रेंज 3,700 किलोमीटर है और इसके साथ 4 मिसाइलों को भेजा जा सकता है। राफेल की लंबाई 15.30 मीटर और ऊंचाई 5.30 मीटर है। इसका विंगस्‍पैन सिर्फ 10.90 मीटर है जो इसे पहाड़ी इलाकों में उड़ने में मदद करता है।

भारतीय राफेल के मुकाबले चीन और पाकिस्तान के पास जो विमान हैं, उनकी क्षमताएं राफेल के मुकाबले काफी कम हैं। चीन के पास चेंगदू J-20 और पाकिस्‍तान के पास JF-17 है, लेकिन ये राफेल से टक्कर लेने की क्षमता नहीं रखते हैं।

ये भी देखें- 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें