Indian Air Force

भारत और पाकिस्तान के बीच 1971 में बांग्लादेश की आजादी के लिए युद्ध लड़ा गया था। युद्ध में भारत की जीत हुई थी और दुनिया के नक्शे पर पाकिस्तान से अलग होकर बांग्लादेश उभरकर आया था।

भारत और पाकिस्तान के बीच साल 1999 में लड़े गए कारगिल युद्ध (Kargil War) में वायुसेना (Indian Air Force) दुश्मनों पर कहर बनकर टूटी थी। हमारी वायुसेना और उनके घातक लड़ाकू जहाजों ने पाकिस्तानी सैनिकों को दिन में तारे दिखा दिए थे।

भारत और चीन के बीच 1962 में भीषण युद्ध लड़ा गया था। इस युद्ध में इंडियन एयरफोर्स (Indian Air Force) का इस्तेमाल नहीं किया गया था। नतीजन भारत को हार का मुंह देखना पड़ा था।

LAC पर चीन (China) के नापाक मंसूबों को नाकाम करने के लिए भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) के विमान पूरी तरह सक्षम हैं। ये विमान रात को भी दुश्मन को करारा जवाब दे सकते हैं।

Indian Army Khadag Core: पाकिस्तान सेना के करीब नब्बे हजार जवानों को बंदी बनाकर युद्ध जीतने में इस कोर की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। यह कोर तीन स्ट्राइक कोर में महत्वपूर्ण मानी जाती हैं।

Air Force Day: भारतीय वायुसेना ने गाजियाबाद के हिंडन एयरबेस पर भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया। इस मौके पर भारतीय वायुसेना ने 88वां स्थापना दिवस मनाया।

Air Force Day: फ्रांस से हालही में 5 राफेल विमान भारत आए थे। इनमें से 2 राफेल विमान स्थापना दिवस के मौके पर दिखाई दिए। राफेल ने आसमान में अपने करतब दिखाए।

इंडियन एयरफोर्स (Indian Air Force) 8 अक्टूबर को अपना 88वां स्थापना दिवस समारोह मनाएगी। हर साल की तरह इस बार भी गाजियाबाद स्थित हिंडन एयरबेस पर इसके स्थापना दिवस समारोह का आयोजन किया जा रहा है।

भारत और चीन के बीच LAC पर जारी के तनाव के बीच पूर्वी लद्दाख में भारत किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार है। लद्दाख सेक्टर में इंडियन आर्मी (Indian Army) और वायुसेना (Indian Air Force) दिन रात दुश्मनों पर नजर गड़ाए हुए हैं।

भारत और पाकिस्तान के बीच 1999 का कारगिल युद्ध (Kargil War) भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) की अहमियत को बताता है। वायुसेना ने इस युद्ध में अपने घातक विमानों के जरिए दिखा दिया था कि दुश्मनों को कैसे ढेर किया जाता है।

भारत और पाकिस्तान के बीच 1965 के युद्ध में भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) ने पाकिस्तान के भीतर घुसकर कई एयरफील्ड्स तबाह कर दिए थे। भारत ने जब-जब पाकिस्तान के खिलाफ जंग लड़ी है तब-तब दुश्मनों को पटखनी दी।

देव (Amit Dev) को जिस कमान कि जिम्मेदारी दी गई है, उसे 1962 में चीन से हुई जंग के बाद तैयार किया गया था। इस कमान पर 11 राज्यों की जिम्मेदारी है।

लड़ाकू विमान जरिए पाकिस्तान के कब्जे वाले इलाकों पर नजर रखकर उन्हें निशाना बनाया गया था। युद्ध के दौरान ग्रुप कैप्टन के. नचिकेता (Captain K Nachiketa) ने शौर्य की ऐसी छाप छोड़ी थी जिसे यादकर आज हर भारतीय का सीना गर्व से चौड़ा हो जाता है।

IAF Recruitment 2020: भर्ती ‘ग्रुप X’ ट्रेडों के लिए होगी और रैली 19 अक्टूबर को 5 एयरमैन चयन केंद्र, केंद्रीय विद्यालय- 2 वायु सेना, जोधपुर में की जाएगी।

रेड ईगल डिवीजन (4th infantry division) भारतीय सेना (Indian Army) की सबसे पुरानी इन्फेंट्री मानी जाती है। इसकी खासियत का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि इस डिवीजन को सबसे ज्यादा युद्धक पदक भी मिले हैं।

LAC पर जारी तनाव के बीच भारतीय सेना और भी ताकतवर होने वाली है। ठंड के मौसम में लद्दाख में बर्फीली चोटियों पर देश की निगेहबानी करने वाले सैनिकों की ताकत और बढ़ाने के लिए उन्हें तीन खास किस्म के हेलीकॉप्टर मिलने वाले हैं।

भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) में महिलाओं ने एक और उपलब्धि हासिल कर ली है। अब महिला फाइटर पायलट (Women Fighter Pilots) राफेल उड़ाएंगी। दरअसल, राफेल को उड़ाने वाली गोल्‍डन ऐरोज स्‍क्‍वाड्रन में अब तक सिर्फ पुरुष पायलट ही थे।

यह भी पढ़ें