Kargil War: …जब लड़ाकू विमानों ने दुश्मन के ऊपर की ताबड़तोड़ बमबारी, सबकुछ कर दिया था भस्म

भारत और पाकिस्तान के बीच 1999 का कारगिल युद्ध (Kargil War) भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) की अहमियत को बताता है। वायुसेना ने इस युद्ध में अपने घातक विमानों के जरिए दिखा दिया था कि दुश्मनों को कैसे ढेर किया जाता है।

Indian Air Force

Kargil War: भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) ने दुश्मन पर 80mm से लेकर 30mm के बम बरसाए गए थे।  उनके हमलों से बटालिक सेक्टर में दर्जनों पाकिस्तानी फौजी मारे थे।

भारत और पाकिस्तान के बीच 1999 का कारगिल युद्ध (Kargil War) भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) की अहमियत को बयां करता है। वायुसेना ने इस युद्ध में अपने घातक विमानों के जरिए दिखा दिया था कि दुश्मनों को कैसे ढेर किया जाता है। दरअसल, यह युद्ध ऊंचाई पर लड़ा गया था। पाकिस्तानी सेना ने कारगिल की करीब 140 पोस्ट पर धोखे से कब्जा कर लिया था।

पाकिस्तानी सेना उंचाई पर थी और हमारी सेना के लिए यह मुश्किल था कि कुछ पोस्ट्स पर पैदल ही पहुंचा जाए। लिहाजा पाकिस्तानी सेना को नुकसान पहुंचाने के लिए 7 मई, 1999 भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) के स्क्वॉड्रन लीडर अजय आहूजा के साथ फ्लाइट लेफ्टिनेंट के. नचिकेता कहर बनकर बरपे थे।

Chhattisgarh: लाल आतंक के खात्मे के लिए राज्य सरकार ने कसी कमर, उठाया ये कदम

पाकिस्तान सेना के कब्जे वाली पोस्ट पर मिग-21 विमान में लगे सिस्टम के जरिए ताबड़तोड़ बमबारी की गई थी। दुश्मन पर 80mm से लेकर 30mm के बम बरसाए गए थे। उनके हमलों से बटालिक सेक्टर में दर्जनों पाकिस्तानी फौजी मारे थे। हमारे दोनों जवान दुश्मनों पर बम बरसा ही रहे थे, तभी नचिकेता के विमान में तकनीकि दिक्कत आ गई थी।

इसके बाद उन्होंने अपने स्क्वॉड्रन लीडर को जानकारी दी और विमान से इजेक्ट हो गए थे। इजेक्ट होने के बाद वह पाकिस्तान के कब्जे वाले इलाके में पहुंच गए। पाकिस्तानी सेना ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। पाकिस्तानी सैनिकों के कब्जे में आने के बाद उनके साथ कुछ दिन तक प्रताड़ना की गई।

ये भी देखें-

वायुसेना (Indian Air Force) के अहम ठिकानों की जानकारी पाने के लिए उन्हें मारा-पीटा भी गया। लेकिन उन्होंने दुश्मनों से कुछ भी साझा नहीं किया। कुछ दिनों तक पाक की कैद में रहने के बाद वे स्वदेश लौट आए थे। नचिकेता एयर फोर्स से रिटायर होने के बाद अब इंडिगो एयर लाइंस के पायलट बन गए हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें