IED

लॉकडाउन (Lockdown) के बीच कई प्रवासी मजदूर अपने घरों की तरफ पलायन कर रहे हैं। देश के अलग-अलग हिस्सों से ऐसी तस्वीरें आई हैं कि लोग पैदल चल रहे हैं। लेकिन छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के नक्सल प्रभावित इलाको में मजदूरों के पैदल चलने से आईईडी (IED) ब्लास्ट का खतरा बढ़ गया है।

कराईकेला थाना क्षेत्र के जोजोदगड़ा के पास से सुरक्षाबल के जवानों ने सर्च ऑपरेशन के दौरान 7 मई को नक्सलियों द्वारा सड़क पर बिछाए गए पांच शक्तिशाली आइईडी (IED) केन बम बरामद किया।

नक्सलियों द्वारा एनआरसी, सीएए, एनपीए के विरोध में 1 अप्रैल को दंडकारण्य बंद के दौरान नक्सलियों ने फिर से एक कायराना हरकत की है। नक्सलियों ने सीआरपीएफ (CRPF) के जवानों पर हमले के लिए आईईडी (IED) लगाया था।

सुरक्षाबलों को निशाना बनाने के लिए नक्सलियों ने औरंगाबाद के जंगलों में कई किलोमीटर तक एक साथ 64 आईईडी (IED) लगाया था।

नक्सलियों के नापाक मंसूबे को एक बार फिर झारखंड की गिरिडीह पुलिस और सीआरपीएफ ने नाकाम कर दिया है। सर्च अभियान के दौरान पुलिस ने डुमरी थाना क्षेत्र के कानाडीह और कर्णपुरा के बीच जंगल से 20-20 किलो के 2 आईईडी (IED) बम बरामद किया।

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले में जवानों को नुकसान पहुंचाने की नक्सलियों की एक बड़ी साजिश नाकाम हो गई। पोटाली से बुरगुम इलाके के बीच 10 किलो के आईईडी (IED) को जवानों ने खोज निकाला और नष्ट कर दिया।

यह भी पढ़ें