Terrorists

आईजीपी ने कहा कि आतंकियों के शव उनके परिजनों को सौंपा जाना इसलिए संभव नहीं है क्योंकि ये कोरोना महामारी का समय है। ये कोविड प्रोटोकॉल के खिलाफ होगा।

Terrorist Attack: 26 जनवरी के मौके पर दिल्ली में आतंकी किसी बड़ी घटना को अंजाम दे सकते हैं। खुफिया एजेंसियों को इस बारे में इनपुट मिले हैं।

सरकार और सुरक्षाबलों की तमाम कोशिशों के बाद भी जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के युवाओं को आतंकी संगठन (Terrorist Organization) बरगलाने में कामयाब हो रहे हैं।

पाकिस्तान में बैठे आतंकवादियों (Terrorists) के आकाओं को इस बात का डर सता रहा है कि फोन या सैटेलाइट का इस्तेमाल सुरक्षित नहीं है। ऐसे में सोशल मीडिया पर अलग-अलग नाम से अकाउंट बनाए गए हैं जिन पर सुरक्षा एजेंसियों की नजर है।

जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) से लगती पाकिस्तान की सीमा के पार घुसपैठ की फिराक में बैठे (Wating to infiltrated in India) आतंकियों में अफगानी आतंकियों (Afghani Terrorits) का होना सुरक्षा बलों (Security Forces) के लिए चिंता का सबब बना हुआ है।

ये आतंकी जैश ए मोहम्मद से संबंधित हैं और अवंतीपोरा में आतंकियों को सुरक्षित स्थान, हथियार वगैरह मुहैया करवाते थे। पकड़े गए दोनों आतंकी, जैश ए मोहम्मद को खुफिया जानकारियां भी देते थे।

Balakot: पाक सरकार इस एयर स्ट्राइक और उससे हुए नुकसान को हमेशा नकारती रही है। लेकिन इस बार पूर्व राजनयिक ने खुद इस मामले को स्वीकार किया।

लोग पाक सरकार के खिलाफ नाराजगी जता रहे हैं। गिलगित-बाल्टिस्तान के स्कर्दू शहर में शनिवार को लोगों ने पाक सेना के खिलाफ विशाल रैली भी निकाली।

पुलवामा हमले के बाद अंतर्राष्ट्रीय दबाव बढ़ने पर पाकिस्तान सरकार ने जैश-ए-मोहम्मद प्रमुख (Masood Azhar) के बेटे और भाई समेत प्रतिबंधित आतंकी संगठन के 100 से ज्यादा आतंकियों को गिरफ्तार किया था।

खुफिया एजेंसियों की एक रिपोर्ट में ये खुलासा हुआ है कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI, भारत में LoC के रास्ते से आतंकी घुसपैठ कराने की साजिश रच रही है।

सीमा का ये इलाका वैसे भी आतंकी घुसपैठ को लेकर मुफीद माना जाता है। सांबा और हीरानगर सेक्टर कई बार आतंकवादियों (Terrorists) की घुसपैठ को लेकर सुर्खियों में भी रहा है।

2020 में जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों ने 225 आतंकियों को मार गिराया है, इसमें ज्यादातर वे आतंकी थे, जो सीमापार से घुसपैठ करके आए थे।

सुरक्षाबलों से मिले आंकड़ों के मुताबिक, जम्मू कश्मीर में इस साल दिसंबर 2020 तक 203 आतंकी मारे जा चुके हैं। 2019 में ये संख्या 152 थी।

एक युवक को भालू से अपनी जान बचाने के लिए पेड़ पर लटके रहना पड़ा और उसी पर रात बितानी पड़ी। इस घटना ने इस युवा के सोचने का नजरिया बदल दिया।

Anil Tomar: शोपियां में उनके शहीद होने की खबर सुनकर मेरठ में उनके परिजनों की हालत खराब है। यूपी के सीएम ने भी अनिल को भावभीनी श्रद्धांजलि दी है।

आईएसआई (ISI) फिदायीन के माध्यम से आतंकवादी हमले (Terror Attack) की योजना बना सकता है‚ इसमें या तो कोई मानव बम हो सकता है या भारी विस्फोटकों से भरा कोई वाहन हो सकता है।

जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) से आतंकियों के खात्मे के लिए सुरक्षाबल लगातार ऑपरेशन चला रहे हैं। कल से शोपियां में सुरक्षाबल और आतंकियों के बीच मुठभेड़ (Terrorist Encounter) जारी है। अब तक दो आतंकवादियों को मार गिराया गया है।

यह भी पढ़ें