CRPF

सुरक्षाबलों को इस गिरफ्तारी के दौरान आतंकी (Militant) के पास से एक पिस्टल, दो मैगजीन, 16 कारतूस, गोला-बारूद के अलावा अन्य आपत्तिजनक सामग्री बरामद हुई है।

गिरफ्तार तीनों आतंकी मददगार (Terrorist Associates) पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के लिए काम करते थे। इनमें से एक पूर्व आतंकी भी शामिल है।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में एसपी दिवाकर ने बताया कि जिले में 50-60 की संख्या में नक्सली किसी बड़ी घटना को अंजाम देने के लिए एकत्र हुये थे लेकिन खुफिया तंत्र के कारण समय रहते सुरक्षाबलों ने उनके इस मंसूबे को नाकाम कर दिया।

हसनपोरा इलाके में करीब 8 घंटे चली सुरक्षाबलों और आतंकियों (Terrorists) के बीच मुठभेड़ में लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकी मार गिराये गये हैं। इस दौरान भारी संख्या में हथियार और गोला-बारूद भी बरामद हुआ है।

अभी भी मकान में एक आतंकी छिपा हुआ है और वह रह-रह कर जवानों को निशाना बनाते हुये फायरिंग कर रहा है। लेकिन जवान उससे सरेंडर करवाने के लिए स्थानीय लोगों की मदद ले रहे हैं।

मुठभेड़ के बाद छानबीन में पता चला कि मारे गये तीनों आतंकी प्रतिबंधित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सदस्य थे। इनमें से एक पाकिस्तानी नागरिक है जो कि जैश का कुख्यात कमांडर भी है।

गिरफ्तार आतंकी सहयोगियों की पहचान आदिल अली निवासी आचन और आसिफ गुलजार निवासी हाजीदरपोरा के रूप में हुई है। पुलिस ने इनके कब्जे से कई आपत्तिजनक चीजें बरामद की है।  

एक दिन पहले ही राज्य में एक घंटे के अंतराल पर दो आतंकी हमले हुये थे। जिसमें जम्मू कश्मीर पुलिस के एक असिस्टेंट सब-इंस्पेक्टर के अलावा एक आम नागरिक की मौत हो गई थी।

अन्य घटना में पुलिस ने बारामूला के क्रालहार रेलवे क्रॉसिंग पर लगे बैरीकेट से एक लश्कर के आतंकी को गिरफ्तार किया है। जिसकी पहचान फैजल अहमद डार के तौर पर हुई है।

दोनों पर 2021 में तर्रेम एनकाउंटर समेत दक्षिण बस्तर की 12 बड़ी नक्सली घटनाओं में शामिल होने का आरोप है। इन दोनों की गिरफ्तारी के लिए प्रशासन ने बाकायदा 5-5 लाख रुपये का इनाम भी घोषित कर रखा था।  

पुलवामा पुलिस और सुरक्षा बलों ने लश्कर के दो आतंकी सहयोगियों (Terrorist Associates) आमिर बशीर और मुख्तार भट को गिरफ्तार किया। इनके कब्जे से दो आईईडी बरामद किए गए।

आईएसआई (ISI) के बैठक के बाद इस्लामाबाद के एक मरकज में राउफ असगर ने जैश-ए-मोहम्मद (Jaish-E-Mohammed) के बड़े आतंकी मुफ्ती अजघर खान कश्मीरी और क्वारी जरार के साथ बैठक कर आतंकी हमले की रूपरेखा तैयार की है।

आतंकवादी हाफिज के पास से सुरक्षाबलों ने एक पिस्तौल और सात गोलियां भी जब्त की है, जबकि उसके द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर कत्सू जंगल से एक एके-47 रायफल,  दो मैगजीन और 40 गोलियां भी बरामद हुई हैं।

गुप्त सूचना के आधार पर श्रीनगर के चनपोरा इलाके में चलाये गये सर्च ऑपरेशन के दौरान आतंकियों ने जवानों पर फायरिंग शुरू कर दी।

एनआईए ने जम्मू-कश्मीर और दिल्ली सहित अन्य कई बड़े शहरों में आतंकी हमले की साजिश रचने वाले आतंकी संगठनों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। इसी के तहत घाटी में 13 अक्तूबर को भी 16 स्थानों पर एक साथ छापेमारी की गई थी।

नक्सली मगरू कुछ महीने पहले गढ़चिरौली जिले के बर्गी में सशस्त्र पुलिस चौकी पर हमले और उप-सरपंच रामा तलंदी की हत्या में भी शामिल था।

जम्मू कश्मीर के कुलगाम जिले में रविवार को आतंकियों ने दो गैर–कश्मीरी मजदूरों की गोली मारकर हत्या कर दी थी और एक अन्य को घायल कर दिया था। 24 घंटे से भी कम समय में गैर–कश्मीरी मजदूरों पर ये तीसरा हमला था।

यह भी पढ़ें