China

पूछताछ के दौरान दोनों घुसपैठिये मूल रूप से चीन निवासी बताए गए। गिरफ्तार चीनी नागरिकों से आवश्यक दस्तावेज मांगी गई तो वह इसे दिखाने में असमर्थ रहे। इसके बाद जवानों ने दोनों चीनी घुसपैठियों (Chinese Intruders) को गिरफ्तार कर लिया।

सीडीएस जनरल रावत (General Bipin Rawat) ने बताया कि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय यह कहने के लिए भारत का सहयोग करने आया कि ‘हां एक अंतर्राष्ट्रीय नियम आधारित व्यवस्था है जिसका हर देश को पालन करना चाहिए।

भारत लगातार ये कोशिश कर रहा है कि चीन (China) के साथ जारी मतभेदों को शांति से हल किया जाए लेकिन चीन लगातार उकसाने वाली हरकतें कर रहा है।

अमेरिकी इंटेलिजेंस एजेंसी का कहना है कि LAC में अभी भी भारत-चीन के बीच गतिरोध है। भारत और पाकिस्तान (Pakistan) के बीच भी तल्खी के और बढ़ने की संभावना है।

चीन (China) एक बार फिर से वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर चालबाजी दिखाने लगा है। चीन ने एलएसी के पास सरफेस टू एयर मिसाइल बैटरियों को तैनात किया है।

भारत (India) और चीन (China) के सैन्य कमांडरों के बीच एलएसी (LAC) पर कायम गतिरोध को खत्म करने को लेकर 9 अप्रैल को 11वें दौर की वार्ता हुई।

क्‍वाड (QUAD) सदस्‍य देशों के बीच हिंद महासागर (Indian Ocean) में चल रहे सैन्‍य अभ्‍यास को देखकर चीन (China) बौखलाया हुआ है। खासकर तब जब इस अभ्‍यास में अमेरिका (America) के साथ भारत की नौसेना भी हिस्‍सा ले रही है।

अरिंदम बागची (Arindam Bagchi) के अनुसार, पूर्वी लद्दाख में सैनिकों के हटने से ही सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति बहाल हो सकती है और द्विपक्षीय संबंधों की प्रगति का माहौल बन सकता है।

तिब्बत (Tibet) पर कब्जा करने के बाद चीन के निशाने पर फाइव फिंगर कहे जाने वाले इलाके भी हैं। दरअसल, चीन (China) भारत के साथ सीमा विवाद बनाए रखना चाहता है।

भारतीय नौसेना (Indian Navy) हिंद महासागर में चीन (China) की ओर से घुसपैठ को नाकाम करने की प्लानिंग कर रही है। यही वजह है कि नौसेना ने विमानवाहक युद्धपोत की बजाय छह परमाणु पनडुब्बियों को तवज्जो दी है।

चीन की बढ़ती महत्वाकांक्षा को ध्यान में रखते हुए अमेरिका अपनी सुरक्षा को मजबूत करने में जुटा है। ये अटैक और इंटरसेप्टर मिसाइलें होंगी।

13 अक्टूबर, 1962 के दिन चीनी सेना पैंगोंग झील के पास स्थित शिरजाप और यूला पर कब्जा करने की फिराक में थी। भारत ने भी इस पैंगोंग झील के पश्चिम में अपनी पोस्ट पहले से बनाई हुई थी। इसमें फर्स्ट बटालियन और 8 गोरखा रायफल को कमान सौंपी गई थी।

भारत (India) के साथ LAC पर पिछले करीब 8 महीनों से तनाव जारी था। कई दौर की द्वीपक्षीय बातचीत के बाद सीमा पर स्थिति बेहतर हो पाई है। वहीं, अमेरिका (America) के साथ भी चीन (China) के रिश्ते हमेशा से ही खराब रहे हैं।

म्यांमार (Myanmar) की सेना ने नेता सू की, राष्ट्रपति विन मिंट और नेशनल लीग फॉर डेमोक्रेसी के कई वरिष्ठ नेताओं को हिरासत में ले लिया है और देश में एक साल के लिए आपातकाल लागू कर दिया है।

India China Tension: भारत-चीन तनाव के बीच एक बड़ी खबर सामने आई है। चीन अपनी परमाणु क्षमता को बढ़ा रहा है और 16 भूमिगत कक्ष बना रहा है।

चीन (China) अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है और उसकी एक बड़ी साजिश सामने आई है। सीमा पर घुसपैठ में नाकाम रहा चीन अब भारत पर साइबर हमलों (Cyber Attacks) को अंजाम देने में जुट गया है।

भारत और चीन के बीच मतभेद खत्म होते दिख रहे हैं। सीमा पर दोनों देशों के सैनिक पीछे हट रहे हैं। अब रेजांग ला और रेचिन ला से दोनों देशों की सेनाएं पीछे हटेंगी।

यह भी पढ़ें