Naxalites

बिहार के नवादा जिले के गोविंदपुर थाना क्षेत्र के बकसोती-महेशपुर के पास सकरी नदी पर निर्माणाधीन पुल के बेस कैंप पर 5 जनवरी की देर रात नक्सलियों (Naxalites) ने हमला किया और सो रहे मजदूरों के साथ जमकर मारपीट की।

बिहार के औरंगाबाद जिले के टंडवा थाना क्षेत्र के बेला खपरमंडा गांव में 2 जनवरी की रात नक्सलियों (Naxalites) ने हमला बोल दिया। नक्सलियों ने यहां पूर्व जिला परिषद सदस्य के घर पर हमला किया और उनकी बाइक जला दी।

झारखंड के नक्सल प्रभावित खूंटी के अड़की थाना क्षेत्र के सेल्दा गांव में भाकपा माओवादी के नक्सलियों (Naxalites) ने निर्माणाधीन अस्पताल को डायनामाइट लगाकर उड़ा दिया। निर्माणाधीन अस्पताल को उड़ाने के बाद नक्सलियों ने मौके पर पर्चा भी छोड़ा है।

छत्तीसगढ़ के धुर नक्सल प्रभावित बीजापुर जिले के जंगलों में सर्चिंग के दौरान जिला और कोबरा 204 की संयुक्त बटालिन ने दो नक्सलियों  (Naxalites) को गिरफ्तार किया।

छत्तीसगढ़ के वनांचल क्षेत्र बस्तर में 23 दिसंबर को पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी। पुलिस ने दो इनामी नक्सलियों (Naxalites) को धर दबोचा। बताया जा रहा है कि गिरफ्तार नक्सालियों पर इलाके में कई बसों में आगजनी और पुलिस वाहनों पर फायरिंग सहित दर्जनों अपराध के मामले दर्ज हैं।

झारखंड के लोहरदगा जिले के पेशरार थाना क्षेत्र के केकरांग झरना के पास नक्सलियों (Naxalites) ने लैंडमाइंस लगा रखा था, जिसमें विस्फोट होने से एक लड़की की मौत हो गई, जबकि एक महिला सहित दो लोग गंभीर रूप से घायल हो गए।

झारखंड में नक्सलियों (Naxals) का तांडव एक बार फिर सामने आया है। एक ओर राज्य के सरायकेला-खरसावां जिले के चौका थाना क्षेत्र स्थित दिरलोंग के समीप पालना डैम नहर निर्माण में लगे वाहनों को नक्सलियों (Naxals) ने 22 दिसंबर की रात को आग के हवाले कर दिया।

बिहार के गया में पुलिस को निशाना बनाने के लिए नक्सलियों (Naxalites) द्वारा लगाई गई बारूदी सुरंग की चपेट में आने से एक बच्ची की मौत हो गई। यह घटना जिले के अति नक्सल प्रभावित क्षेत्र लूटुआ थाना के हरदिया जंगल की है।

छत्तीसगढ़ के नक्लल प्रभावित सुकमा (Sukma) जिले में सुरक्षा बल के जवानों के साथ नक्सलियों (Naxalites) की मुठभेड़ हुई है।

झारखंड विधानसभा चुनाव (Jharkhand Assembly Elections) के तीसरे चरण में 12 नवंबर को मतदान संपन्न हो गया। इस चरण में ईचागढ़ विधानसभा क्षेत्र में भी मतदान हुआ, जहां एक ऐसी झलक देखने के मिली जिसने लोकतंत्र की आस्था को और मजबूत कर दिया।

30 सालों से लाल आतंक का सबसे बड़ा चेहरा रहे कुख्यात नक्सली कमांडर रावुला श्रीनिवास उर्फ रमन्ना (Ramanna) की मौत हो गई है। रमन्ना की मौत की खबर पर कई दिनों तक चले सस्पेंस के बाद आखिरकार इसकी पुष्टि हो गई।

उत्तर प्रदेश के राजभवन को बम से उड़ाने की धमकी मिली है। राजभवन के नाम पर एक धमकी भरा पत्र मिला है, जिसमें दस दिन के अंदर राज्यपाल को राजभवन छोड़कर न जाने पर डायनामाइट से उड़ा देने की धमकी दी गई है।

नक्सलियों (Naxalites) द्वारा ड्रोन कब्जाने और उसके संचालन की घटना के हाल में सामने आने के बाद वामपंथी चरमपंथ प्रभावित...

नक्सलियों को मुख्यधारा में लाने के लिए, केंद्र सरकार ने नक्सल प्रभावित राज्यों में आत्मसमर्पण और पुनर्वास के लिए दिशा-निर्देशों में संशोधन किया है। इसको तैयार करते समय नक्सल प्रभावित राज्यों की भौगोलिक और सामाजिक स्थिति को ध्यान में रखा गया है।

To bring Maoists into the mainstream, the Central Government has chalked out guidelines for surrender-cum-rehabilitation of the rebels in the Left Wing Extremist (LWE) affected States, keeping in mind the specific geographical and social landscape.

साल 2009 में 9 साल की इस मासूम को जब झारखंड से नक्सलियों ने अगवा किया तो उसे जरा भी इल्म नहीं था कि उसके साथ क्या हुआ। सारंडा के जगलों में जब करीब 400 नक्सलियों के बीच एक दिन इस लड़की ने खुद को पाया तो हक्का-बक्का रह गई।

नक्सलियों ने एक 10 लाख के इनामी नक्सली अपने ही संगठन से निकाल बाहर किया है। इस बारे में नक्सलियों की ओर से एक प्रेस विज्ञप्ति भी जारी की गई है। दावा किया गया है कि नक्सलियों के प्रवक्ता ने इसे जारी किया है।

यह भी पढ़ें