Naxal Area

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के नक्सल प्रभावित (Naxal Area) चंदौली जिले में अब विकास की बयार बहने लगी है। सरकार और प्रशासन की कोशिशों की बदौलत अब जिले का नक्सल प्रभावित नौगढ़ क्षेत्र इंडस्ट्रियल हब बनेगा।

बिहार में विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections 2020) की तैयारियां जोरों पर हैं। प्रदेश में 28 अक्टूबर को पहले चरण का मतदान होना है। गया जिले के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों (Naxal Area) में शांतिपूर्ण मतदान कराना जिला प्रशासन के लिए बड़ी चुनौती है।

नक्सल प्रभावित छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में विकास कार्य जोरों पर है। राज्य में बुनियादी सुविधाओं के साथ-साथ अब खेल के क्षेत्र में भी बेहतरी आ रही है। इसी कड़ी में धमतरी स्थित एकलव्य खेल मैदान को और बेहतर बनाया जाएगा।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में सरकार और प्रशासन लाल आतंक को जड़ से उखाड़ फेंकने के लिए कमर कस चुकी है। इसके लिए हर स्तर पर प्रयास किए जा रहे हैं। इसी क्रम में प्रदेश सरकार साल 2020 के आखिर तक आठ नए पुलिस कैंप (Police Camp) खोलेगी।

गांधी जी के जन्म दिवस यानी 2 अक्टूबर के मौके पर नक्सल प्रभावित (Naxal Area) बस्तर में नई शांति प्रक्रिया की शुरुआत होने जा रही है। इसमें एक अनूठी ई-रैली का आयोजन किया गया, जिसका नाम दिया है- 'चुप्पी तोड़ो'।

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के नक्सल प्रभावित (Naxal Area) मीरजापुर जिले में विकास की बयार बहने लगी है। जिले के सुदूर उत्तर-पूर्व दिशा में विंध्य पर्वत श्रृंखला के शेरवां के पहाड़ पर स्थित रामसागर स्थल के विकास के लिए शासन के निर्देश पर पर्यटन विभाग द्वारा कार्ययोजना तैयार की जा रही है।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) से नक्सलवाद (Naxalism) को उखाड़ फेंकने के लिए सरकार और प्रशासन पूरी तरह कमर कस चुके हैं। नक्सिलयों (Naxals) की जड़ खोदने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं।

झारखंड (Jharkhand) के नक्सल प्रभावित (Naxal Area) खूंटी जिले के गुनी गांव में कुल 117 परिवार हैं। यह गांव दूसरे गावों के लिए एक मिसाल बनने की राह पर चल पड़ा है। गांव की स्थिति 6 महीने पहले कुछ अलग थी।

बिहार में विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections) होने वाले हैं। लोग अपने मताधिकार का प्रयोग कर अपने विधायक चुनेंगे, जो अपने इलाके में विकास को गति देने का काम करेंगे।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के में लाल आतंक का गढ़ कहे जाने वाले बस्तर (Bastar) पुलिस सामुदायिक पुलिसिंग (Community Policing) के तहत सराहनीय पहल करने जा रही है।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के नक्सल प्रभावित इलाकों (Naxal Area) को विकास से जोड़ने का काम तेजी से चल रहा है। इन इलाकों में पीएम ग्राम सड़क योजना (PMGSY) के तहत अब तक 1380 सड़कों के अंतर्गत सात हजार 228 किलोमीटर का काम पूरा हो चुका है।

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित इलाके (Naxal Area) की लड़कियों के लिए जितना शिक्षा और स्वरोजगार आवश्यक है, उतनी ही आत्मरक्षा भी। इसलिए नक्सल इलाके की लड़कियों को मार्शल आर्ट की ट्रेनिंग दी जा रही है।

सरकार ने ग्रामीण कृषि बाजारों, उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों और अस्पतालों को जोड़ने वाली कुल 9338 किलोमीटर सड़क निर्माण को मंजूरी दी थी।

एडीजी ने आशंका जताई है कि शहीदी सप्ताह के दौरान सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के साथ-साथ सुरक्षाकर्मी और पुलिस पिकेट पर भी नक्सली हमला हो सकता है।

सीमा पर आईटीबीपी (ITBP) के जवान चीन तथा दूसरे अन्य पड़ोसी मुल्कों से लगातार हमारी सुरक्षा कर रहे हैं। तमाम मुश्किल हालातों के बीच यह जवान अब गरीब आदिवासियों की मदद भी करने में जुटे है।

झारखंड समेत देश के सभी नक्सल प्रभावित राज्यों में अब विकास की बयार बह रही है। इसकी गति को तेज करने के लिए केंद्र सरकार ने कमर कस लिया है। इसके लिए, केंद्र सरकार ने सभी राज्य सरकारों से प्रस्ताव मांगा है।

इस जानलेवा वायरस से जंग में निश्चित तौर से देश के चिकित्सक व्यापक पैमाने पर प्रथम पंक्ति में खड़े फाइटर्स की भूमिका निभा रहे हैं। किसी भी विपदा में संकट मोचक की भूमिका निभाने वाली हमारी सेना (Army) भी संकट की इस घड़ी में बेहतरीन रोल अदा कर रही है।

यह भी पढ़ें