Jharkhand Police

झारखंड पुलिस (Jharkhand Police) की कार्रवाई से नक्सली संगठन बैकफुट पर हैं। लेकिन नक्सली, गिरिडीह और धनबाद में एक बार फिर से कमजोर हो रहे संगठन को मजबूती देने में जुटे हुए हैं।

सूत्रों की मानें तो 10 लाख का इनामी जोनल कमांडर महाराज प्रमाणिक के साथ 5 नक्सलियों ने सुरक्षाबलों के सामने सरेंडर कर दिया है और अपने साथियों के गुप्त ठिकानों की सूचनाएं दे रहे हैं।

पुलिस की ओर से जवाबी गोलीबारी होने पर टीएसपीसी के सभी नक्सली (Naxalites) फरार हो गये। मुठभेड़ आधे घंटे तक चली, इसमें दोनों तरफ से किसी को कोई नुकसान नहीं हुआ।

जनवरी 2020 से 31 जुलाई 2021 तक कुल 688 माओवादियों (Maoists) को गिरफ्तार किया गया। इस दौरान पुलिस एनकाउंटर में 18 मारे भी गए और 25 ने पुलिस के सामने सरेंडर (Surrender) भी कर दिया।

एरिया कमांडर अनिल उरांव (Anil Oraon) ने झारखंड सरकार की आत्मसमर्पण पुर्नवास नीति 'नई दिशा' से प्रेरित होकर सरेंडर किया।

एसएसपी के मुताबिक, इन लैंडमाइंस (Land Mines) और सड़क पर बिछाए गए तार को देखकर लग रहा है कि बीते 5 महीने पहले इसे बिछाया गया था। पुलिस पार्टी की कार्रवाई जारी है।

झारखंड पुलिस (Jharkhand Police) नक्सलियों (Naxalites) की जड़ खोदने की पूरी प्लानिंग में है। पुलिस जबरदस्ती लेवी वसूलकर अकूत संपत्ति बनाने वाले नक्सलियों की जांच कर रही है।

झारखंड पुलिस (Jharkhand Police) की ओर से नक्सलियों (Naxalites) के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान में लगातार सफलता मिल रही है।

झारखंड (Jharkhand) में पिछले दिनों हुई मुठभेड़ (Encounter) के दौरान इनामी नक्सलियों (Naxalites) को मार गिराने वाले पुलिस पदाधिकारियों और जवानों को सम्मानित किया गया।

गुरुवार की सुबह पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी और उसने बुद्धेश्वर उरांव को मार गिराया। पुलिस ने नक्सली का शव बरामद कर लिया है।

झारखंड पुलिस (Jharkhand Police) ने एक अनोखी पहल शुरू की है। प्रदेश के गरीब बच्चों के लिए उपकरण बैंक की शुरुआत की गई है, जिसमें कोई भी शख्स मदद कर सकता है।

गिरफ्तार दोनों नक्सली पिछले तीन साल से फरार चल रहे थे। दोनों नक्सलियों को भंडरा थाना में सीएलए एक्ट के तहत गिरफ्तार कर लोहरदगा मंडल कारागृह भेज दिया गया है।

पुलिस अधीक्षक अमित रेणु के अनुसार नक्सलियों (Naxalites) ने पुलिस को निशाना बनाने के लिए यह बम पुलिया में लगाया था, लेकिन गुप्त सूचना के आधार पर बम को बरामद कर इसे निष्क्रिय कर दिया गया

नक्सली (Naxali) किशन का आतंक चतरा जिले के अलावा हजारीबाग, रांची, रामगढ़ और पलामू जिलों में भी था। झारखंड के कई जिलों के अलग-अलग थानों में इस नक्सली कमांडर के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज है।

झारखंड के लोहरदगा में पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। कुडू पुलिस ने PLFI के 4 उग्रवादियों को गिरफ्तार किया है।

नक्सल विरोधी अभियान पर निकली पुलिस ने प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा माओवादी के हार्डकोर नक्सली सुंदर लाल खेरवार (Naxalite) को गिरफ्तार कर लिया है।

झारखंड में नक्सलियों के खिलाफ अभियान जारी है। इस बीच खबर मिली है कि खुफिया जानकारी के आधार पर 2 उग्रवादियों को गिरफ्तार किया गया है।

यह भी पढ़ें