India

India China Clash: चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने बुधवार को कहा कि भारत अपनी गलत चीजों को फौरन ठीक करे।

भारत (India) और जापान (Japan) ने ऐसा समझौता किया है जिसकी वजह से चीन (China) कोई भी हरकत करने से पहले सौ बार सोचेगा। चीन से मौजूदा टकराव के बीच हुई इस डील से हिंद महासागर में चीन की घेराबंदी को तोड़ा जा सकता है या रोका जा सकता है।

India China Dispute: दोनों देशों ने सीमा पर सैनिकों की संख्या को बढ़ा दिया है। ताजा मामला ये है कि भारत और चीन ने अपनी तरफ से टैंकों की तैनाती कर दी है।

चीन (China) अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा। बीते 15 जून को हुई झड़प के बाद एक तरफ चीन जहां पर शांति और बातचीत से विवाद सुलझाने की बात करता है तो दूसरी ओर चीनी सेना लद्दाख पर नजरें गड़ाए बैठी है।

चीन (China) और भारत का पहले से ही विवाद चल रहा है और अब 29-30 अगस्‍त की रात को एक बार फिर पूर्वी लद्दाख में चीन और भारत के बीच झड़प हुई है।

अमेरिका में राष्ट्रपति पद के लिए चुनावी युद्ध (America Election) का बिगुल फूंका जा चुका है। जो बिडेन अमेरिकी चुनावों के दौरान अपने भाषणों में भारत के लिए खासा प्रेम दिखा रहे हैं।

भारत में कोरोना संक्रमण (Coronavirus) के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। एक्टिव केस की बात करें तो दुनिया में भारत का तीसरा स्थान है। अमेरिका, ब्राजील के बाद कोरोना महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित भारत है।

चीन ने कहा है कि दोनों देशों को साथ में आगे बढ़ना चाहिए और एक-दूसरे पर शक नहीं करना चाहिए।

भारत और पाकिस्‍तान ने साल 2003 में एलओसी पर एक औपचारिक युद्धविराम (Ceasefire) का ऐलान किया था।

नेपाल में इस बीमारी से अबतक 75 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 22972 लोग संक्रमित हो चुके हैं।

भारत में कोरोना वायरस (Coronavirus) का आंकड़ा भयावह होता जा रहा है। देश में बीते 24 घंटे में कोविड-19 (COVID-19) के 61,000 से अधिक मामले सामने आए हैं।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) में भारत ने पाकिस्तान को खरी खोटी सुनाई है। साथ ही दुनिया के देशों से आतंकवाद के खिलाफ अभियान चलाने की अपील की।

वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर तैनात सेना (Army) के चार डिवीजन को को वापस नहीं बुलाया जाएगा। सेना के सूत्रों की ओर से यह जानकारी दी गई। जानकारी के अनुसार, पूर्वी लद्दाख में तैनात सेना के चार डिवीजन को अभी वापस नहीं बुलाया जाएगा

भारत (India) के बाद अब अमेरिका (America) में भी चीनी ऐप टिक टॉक (Tik Tok) पर प्रतिबंध लग सकता है। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने 31 जुलाई को कहा कि वह अमेरिका में तेजी से प्रचलित हो रहे टिक टॉक ऐप को बंद करेंगे।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक अधिकारियों का कहना है कि भारत के इस कदम से LAC पर स्थिति बदल जाएगी।

कालापानी, लिम्पियाधुरा और लिपुलेख समेत 395 वर्ग किलोमीटर के भारतीय क्षेत्र में नेपालियों के घुसपैठ पर रोक लगाने की अपील की गई थी।

देश की सीमाओं को और सख्त बनाने के लिए इस समय तीनों सेनाओं को नया स्वरूप देने की कोशिश की जा रही है। इसके पीछे मकसद यह है कि संसाधनों का बेहतर इस्तेमाल कर सैन्य ताकत में इजाफा करना।

यह भी पढ़ें