Naxal News

Chhattisgarh: पुलिस कैंप के खुलने से राज्य में नक्सलियों पर दबाव बढ़ेगा और नक्सली घटनाओं में कमी आएगी। राज्य में विकास कार्य भी सही ढंग से हो पाएंगे।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के कांकेर से गिरफ्तार नक्सलियों (Naxals) के लिए हथियार बनाने वाले गैंग ने पुलिस की पूछताछ में अपना गुनाह कबूल कर लिया। ढुट्टा बीएसएफ कैंप से गश्त में निकली जवानों की टीम ने जुंगड़ा के जंगलों से इन्हें गिरफ्तार किया था।

नक्सली (Naxalites) बीरबल कहार 20 सालों से फरार चल रहा था और वह जंगल में ही रहता था। वह पुलिस को चकमा देने में माहिर था। इस बार वह पकड़ा गया।

बिहार (Bihar) में पुलिस को नक्सलियों (Naxals) के खिलाफ सफलता मिली है। जमुई जिला पुलिस (Police) और सीआरपीएफ (CRPF) की संयुक्त कार्रवाई में जिले के बरहट थाना क्षेत्र के बरमसिया जंगल से एक नक्सली (Naxali) को गिरफ्तार किया गया है।

एसपी ने कहा कि कोसा मरकाम उत्तर बस्तर संभाग में माओवादी सैन्य कंपनी नंबर 05 के पलटन नंबर 2 का सदस्य था और कई घटनाओं में शामिल था।

जिले के तेलम और तुमकपाल के बीच स्थित जंगलों में नक्सलियों (Naxals) के मौजूदगी की सूचना पर डीआरजी (DRG) के जवान निकले थे। यहां नक्सली लीडरों (Naxali Leaders) की मौजूदगी में किसी बड़े हमले की रणनीति बन रहे थे।

कांकेर जिले में नक्सलियों (Naxals) के लिए हथियार बनाने वाले नक्सली सहित छह नक्सलियों को गिरफ्तार करने में पुलिस (Police) और बीएसएफ (BSF) के जवानों को सफलता मिली है।

बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections 2020) की घोषणा के साथ ही तैयारियां भी शुरू हो गई हैं। चुनाव के देखते हुए 27 सितंबर को सशस्त्र सीमा बल (SSB) ने मुजफ्फरपुर जिले के पश्चिमी दियारा के नक्सल प्रभावित इलाकों में फ्लैग मार्च किया।

Naxalites: गोंदिया के नक्सल प्रभावित चीचगढ़ पुलिस थाना इलाके के कोसंबी के जंगलों से इस विस्फोटक को पुलिस ने बरामद किया है।

बिहार में विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election 2020) होने वाले हैं। चुनाव आयोग (Election Commission) ने बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) को तीन चरणों में कराने की घोषणा कर दी है।

चुनाव आयोग के निर्देश पर संबंधित जिले में पिछले एक महीने से जिला पुलिस अर्धसैनिक बलों की मदद से सर्च ऑपरेशन चला रही है ताकि नक्सलियों (Naxalites) को ठिकाना बनाने का मौका नहीं मिल सके।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के धुर नक्सल ग्रस्त बस्तर (Bastar) में लाल आतंक (Naxalism) पर लगाम लगाने के लिए सुरक्षाबल मैदान में आ गए हैं। दरअसल, पिछले कुछ दिनों से नक्सली (Naxals) लगभग हर रोज हत्याएं कर रहे थे।

सुकमा जिले के कोटकपल्ली में लापता हुए एक युवक की तलाश करने गए चार ग्रामीणों को नक्सलियों ने अगवा (Villagers Abducted by Naxalites) कर लिया है। 14 सितंबर के बाद से लापता इन चारों का कोई सुराग नहीं मिला है।

झारखंड पुलिस और सुरक्षाबलों को गुरुवार को बड़ी सफलता मिली है। पुलिस ने नक्सलियों की साजिश को नाकामयाब कर दिया है और पलामू में 4 लैंड माइंस को बरामद किया है।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में नक्सलियों (Naxalites) के खिलाफ लगातार अभियान चलाए जा रहे हैं। नक्सलियों (Naxals) की नापाक हरकतों का माकूल जवाब दिया जा रहा है।

नक्सलियों (Naxals) के खिलाफ चलाए जा रहे अभियानों की समीक्षा के लिए सीआरपीएफ (CRPF) के रांची रेंज की पुलिस उप महानिरीक्षक उषा किरण कंडूलना ने सिलम मुख्यालय के अलावा सुदूर डुमरी, चैनपुर तथा टोंगो स्थित कम्पनियों का दौरा किया।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के में लाल आतंक का गढ़ कहे जाने वाले बस्तर (Bastar) पुलिस सामुदायिक पुलिसिंग (Community Policing) के तहत सराहनीय पहल करने जा रही है।

यह भी पढ़ें