Chhattisgarh

पीएलजीए सप्ताह से ठीक पहले नक्सलियों ने एक प्रेस नोट जारी किया है और बीते सालों में हुई नक्सल वारदातों का ब्योरा दिया है।

एसपी डॉ अभिषेक पल्लव नक्सलियों (Naxalites) को मुख्यधारा में वापस लाने के लिए जो अभियान चला रहे हैं, वह पूरे देश में चर्चा का विषय बन रहा है।

छत्तीसगढ़ में शिक्षा, सड़क और स्वास्थ्य की बेहतरी पर लगातार काम किया जा रहा है। इसी क्रम में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (CM Bhupesh Baghel) 4 दिसम्बर को जशपुर में रहेंगे। वहां वे 655 करोड़ की लागत के विकास कार्यों की शुरुआत करेंगे।

ताजा मामला बस्तर संभाग का है, यहां 2 अलग-अलग घटनाओं में नक्सलियों ने 3 ग्रामीणों की हत्या कर दी है। 2 ग्रामीणों की हत्या बीजापुर जिले में की गई है ।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में लगातार विकास का काम हो रहा है। जनता को शिक्षा, सड़क और स्वास्थ्य जैसी मूलभूत सुविधाएं मुहैया कराने को लेकर राज्य सरकार प्रयासरत है। इसी कड़ी में शबरी की नगरी शिवरीनारायण में 30 बिस्तर का अस्पताल खुलेगा।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) सरकार ने 1989 बैच के आइएएस अमिताभ जैन (Amitabh Jain) को राज्य के मुख्य सचिव पद की जिम्मेदारी सौंपी है। आरपी मंडल के सेवानिवृत्त होने के बाद लंबे समय से वित्त विभाग की कमान संभाल रहे जैन अब नई भूमिका में होंगे।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में नक्सलवाद (Naxalism) के खात्मे के लिए जबरदस्त प्लानिंग बन चुकी है। अब प्रदेश के बड़े नक्सली नेता (Naxali Leader) सुरक्षाबलों के निशाने पर हैं।

बीजापुर में हुए IED ब्लास्ट में 2 नागरिकों के घायल होने की खबर सामने आई है। ये जानकारी बस्तर के आईजी पी सुंदरराज ने दी है।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के नक्सल प्रभावित राजनांदगांव जिले में विकास की बयार बह रही है। राज्य सरकार की किसान हितैषी नरवा, घुरवा, गरुआ एवं बाड़ी योजना गावों में खुशहाली ला रही है। इन योजनाओं से गांवों की अर्थव्यवस्था को मजबूती मिल रही है।

CRPF के डीजी डॉ एपी माहेश्वरी ने कहा, 'हम ये सुनिश्चित करना चाहते हैं कि हमारी फोर्स, बहादुर जवान के परिवार के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ी है।'

बस्तर में बीते 4 दशकों से नक्सलवाद एक बड़ी समस्या है। नक्सली स्थानीय आदिवासी ग्रामीणों को अपने संगठन से जोड़ते हैं और पुलिस-प्रशासन के खिलाफ खड़ा कर देते हैं।

केंद्रीय सुरक्षा सलाहकार के विजय कुमार (K Vijay Kumar) ने कहा है कि नक्सल प्रभावित इलाकों (Naxal Area) में सुरक्षा व्यवस्था को मजबूत करने के साथ वहां का विकास भी किया जाएगा।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के नक्सल प्रभावित कोंडागांव जिले में दो महिला नक्सलियों (Women Naxals) ने आत्मसमर्पण कर दिया। इन महिला नक्सलियों ने 27 नवंबर को एसपी सिद्धार्थ तिवारी के सामने सरेंडर कर दिया।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) सरकार की महत्वकांक्षी ग्राम सुराजी योजना के तहत आने वाली नरवा विकास परियोजना का कार्य जशपुर जिले में जोरों से चल रहा है। राज्य सरकार द्वारा चहुंमुखी विकास के लिए नरवा विकास की कल्पना को साकार करने की महत्वपूर्ण योजना बनाई गई है।

मारे गए नक्सली पर एक लाख रुपए का इनाम था। मौके से हथियार भी बरामद हुए हैं। नक्सलियों से मुठभेड़ की पुष्टि एसपी कमल लोचन कश्यप ने की है।

नक्सलियों (Naxalites) ने ड्रम को जमीन में गाड़ रखा था। नक्सलियों की इसके जरिए सुरक्षाबलों को नुकसान पहुंचाने की योजना थी।

सरेंडर करने वालों में से एक नक्सली एके-47 राइफल, 80 कारतूस, वर्दी और स्टेशनरी सामान लेकर पहुंचा था। राइफल रायपुर में 8 लाख रुपए में खरीदी थी।

यह भी पढ़ें