Chhattisgarh

घटनास्थल की छानबीन के दौरान सुरक्षाबलों ने मृतक नक्सली का शव बरामद किया साथ ही वहां से एक बंदूक, कुकर बम, पिठ्‌ठू बैग और नक्सली सामान बरामद किया है।

गिरफ्तार नक्सली (Naxalite) आईटीबीपी दो अधिकारियों की हत्या कर एके-47 रायफल, मैग्जीन, राउण्ड और बुलेट प्रूफ जैकट और मोटोरोला सेट लूट की  घटना में शामिल था।

मुठभेड़ के बाद जब सुरक्षाबलों ने घटनास्थल की पड़ताल की तो उन्हें एक नक्सली का शव बरामद हुआ। जिसकी शिनाख्त पांच लाख के इनामी एरिया कमेटी मेंबर मड़कम मुइया के रूप में हुई है।

एनकाउंटर में ग्रेहाउंड का एक जवान घायल हुआ है। जवान को हेलीकाप्टर से जंगल से बाहर निकालकर वारंगल जिले के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। हालांकि सुरक्षाबल के जवान घटनास्थल और आसपास के क्षेत्र की तलाशी ले रहे हैं।

मोबाइल नेटवर्क नहीं होने के कारण ताजा जानकारी नहीं मिल सकी है। लेकिन ऐसा माना जा रहा है कि सुरक्षाबलों ने तीन तरफ से नक्सलियों को घेर लिया है। 30-40 की तादात में मौजूद नक्सलियों में कई बड़े नक्सल नेता भी मौजूद हैं।

2021 में जिले में हुये एक नक्सली मुठभेड़ में पांडूराम (Naxali Panduram) मुख्य आरोपी रह चुका है। छत्तीसगढ़ और तेलंगाना पुलिस को काफी लंबे समय से इस नक्सली की तलाश थी।

दंतेवाड़ा जिले में नक्सलियों (Naxalites) की घर वापसी के लिए थाना, शिविरों और ग्राम पंचायतों में संबंधित इलाकों के सक्रिय नक्सलियों का नाम चस्पा कर उनसे सरेंडर कर सम्मान पूर्वक जीवन यापन करने का अनुरोध किया जा रहा है।

नक्सलियों (Naxalites) का दावा है कि मृतक हेमंत बंडी ने 2018 में मुठभेड़ से पहले नक्सलियों की गतिविधि की सूचना पुलिस को दी थी। हालांकि मृतक बंडी कई सालों से मानसिक बीमार था और अधिकांशत: घर पर ही रहता था।

पूना नर्कोम अभियान से प्रभावित होकर तथा शोषण, अत्याचार, भेदभाव और स्थानीय आदिवासियों के साथ होने वाली हिंसा से त्रस्त होकर 44 नक्सलियों (Naxalites) ने सुरक्षाबलों के सामने आत्मसमर्पण किया।

नक्सलियों (Naxalites) ने बीएसपी के कार्य में लगे कर्मचारियों को निशाना बनाते हुये सुबह करीब साढ़े ग्यारह बजे आईईडी ब्लास्ट किया। इस हमले में वहां काम करने वाले दो कर्मचारी घायल हो गये।

मारे गये नक्सलियो के पास से सुरक्षाबलों ने 12 बोर की 5 बंदूक और एक 303 राइफल मिली है। वहीं सूत्रों से ये भी सूचना मिली है कि मारे गये नक्सलियों में इनामी नक्सल कमांडर मधु के भी मारे जाने की खबर है।

इस हमले में घायल जवान को घटनास्थल से बाहर निकालकर नजदीकी अस्पताल में प्राथमिक इलाज के लिए भेज दिया गया है। साथ ही हमलावरों की तलाश में सर्च अभियान जारी है।

दंतेवाड़ा जिले में ‘लोन वर्राटू (Lon Varratu)’ के तहत नक्सलियों की घर वापसी के लिए थाना, शिविरों और ग्राम पंचायत स्तर पर प्रयास किया जा रहा है।

ओरछा थाना क्षेत्र के अंतर्गत गुदाड़ी गांव में नक्सलियों (Naxalites) ने दो ट्रैक्टर और एक जेसीबी मशीन में आग लगा दी।नक्सली वहां से भागने से पहले वाहन चालकों और उनके सहायकों का मोबाइल फोन भी छीन लिया।

मारी गई महिला नक्सलियों में से एक हिड़में मलांगीर एरिया कमेटी की सदस्य थी जबकि नक्सली पोज्जे नीलावाया इलाके में सक्रिय संगठन चेतना नाट्य मंडली की सदस्य थी।  

सरेंडर करने वाले नक्सलियों (Naxalites) के खिलाफ पुलिस टीम पर हमला, सड़कों और सरकारी संपत्तियों को नुकसान पहुंचाने और संगठन के सदस्यों के लिए भोजन की व्यवस्था करने का आरोप है। 

पुलिस को लंबे समय से भीमा की तलाश थी। लेकिन शुक्रवार को हुये एनकाउंटर (Naxal Encounter) में भीमा को मार गिराने में पुलिस को बड़ी सफलता मिली है

यह भी पढ़ें