Chhattisgarh

छत्तीसगढ़ के घोर नक्सल प्रभावित बीजापुर जिले में सुरक्षाबलों ने दो अलग-अलग जगहों से पांच नक्सलियों (Naxalites) को गिरफ्तार किया है।

नक्सलियों (Naxalites) ने इस मार्ग को 5 जून को सिलगेर गोलीबारी और कैंप विरोध में बंद के दौरान जगह-जगह सड़क काट और पेड़ गिराकर बंद कर दिया था।

लोन वर्राटू अभियान से प्रभावित होकर 3 नक्सलियों (Naxalites) ने सरेंडर कर दिया है। इनमें से 2 नक्सलियों पर एक-एक लाख रुपए का इनाम है।

छत्तीसगढ़ में नक्सलियों (Naxalites) के खिलाफ अभियान जारी है। इस बीच खबर मिली है कि सुकमा के दोरनापाल-जगरगुंडा रास्ते को अब शुरू कर दिया गया है।

ये नक्सली (Naxalites) दरभा डिवीजन के मलांगिर एरिया कमेटी में बीते कई सालों से सक्रिय थे। इन्होंने कई नक्सली वारदातों को अंजाम दिया है।

3 हार्डकोर इनामी नक्सलियों (Naxalites) की कोरोना व फूड प्वॉइजनिंग के चलते मौत हो गई है। वहीं 5 से ज्यादा नक्सली कमांडर गम्भीर रूप से बीमार हैं

कुछ ही समय में 3 हार्डकोर नक्सलियों (Naxalites) की कोरोना और फूड प्वाइजनिंग की वजह से मौत हो गई है और 5 से ज्यादा नक्सली कमांडरों की हालत गंभीर है।

नक्सली (Naxalites) संगठन की खोखली विचारधारा, भेदभाव पूर्ण रवैया और प्रताड़ना से तंग आकर नक्सली दंपति ने सरेंडर करने का फैसला किया।

छत्तीसगढ़ में नक्सलियों (Naxalites) के खिलाफ ताबड़तोड़ कार्रवाई की जा रही है। इस वजह से नक्सलियों (Naxalites) के बीच हड़कंप मचा हुआ है।

Naxalites News: अब 600 जवानों की निगरानी में 4 पुल बनाए जा रहे हैं, जिससे 100 गांवों में राशन पहुंचने में आसानी होगी।

नक्सली (Naxalites0 हमेशा से ही विकास के खिलाफ रहे हैं। वे विकास कार्यों में रोड़ा तो अटकाते ही हैं, प्रशासन और सुरक्षाबलों की कोशिशों की वजह से जो विकास के कार्य पूरे होते हैं नक्सली उन्हें भी बरबाद करने की फिराक में रहते हैं।

सुरक्षाबलों के जवान नक्सल प्रभावित उन इलाकों तक भी पहुंच गए हैं, जहां पहुंचना पहले बहुत मुश्किल था। अब दंतेवाड़ा के कुछ ही इलाके ऐसे बचे हैं, जहां जवान नहीं पहुंच पाए हैं।

8 लाख के इनामी नक्सली कट्टी मोहन राव उर्फ दामू दादा की हार्ट अटैक से मौत हो गई है। नक्सलियों ने प्रेस नोट जारी कर इस बात की जानकारी दी है।

ये शख्स नक्सलियों (Naxalites) को सप्लाई देने का काम करता है और नक्सली विचारधारा को फॉलो करता है। पूछताछ में दिलीप ने कई अहम जानकारियां दी हैं।

मिलिशिया प्लाटून का स्वयंभू सेक्शन कमाण्डर 32 वर्षीय कोरसा लच्छु और 29 वर्षीय उसकी पत्नी कोरसा अनिता ने पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया है।

नक्सली (Naxalites) किसी के सगे नहीं होते। यहां तक कि वे अपने साथियों के भी अपने नहीं होते। अपने फायदे के लिए वे मासूम लोगों का इस्तेमाल करते हैं।

जवानों ने सुकमा जिले के रायगुड़ा की टेकरी से नक्सलियों (Naxalites) द्वारा डंप किए गए 18 पाइप बम, आईईडी, और विस्फोटक को बरामद किया।

यह भी पढ़ें