Naxalism

दोनों ओर से गोलीबारी के बाद नक्सली (Naxali) वहां से भाग गए। बाद में जब सुरक्षाबलों (Security Forces) ने घटनास्थल की तलाशी ली तब वहां से नक्सली सायबो का शव, पिस्टल, विस्फोटक लगा बाण और अन्य सामान बरामद किया गया।

पुलिस अधिकारियों के अनुसार, नारायणपुर के ओरछा थाना क्षेत्र में नक्सलियों (Naxali) के बिझाये बारूदी सुरंग में हुए विस्फोट में छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल के 16वीं बटालियन के दो जवान संतोष यादव और महेश अलामी घायल हो गए।

माओवादियों (Maoists) के खिलाफ सलवा जुडूम कार्यकर्ताओं की हत्या, पुलिस शिविर पर हमला करने, पुलिस टीम पर हमला करने और साल 2013 में बासागुड़ा के साप्ताहिक बाजार में पत्रकार साई रेड्डी की हत्या में शामिल रहने का आरोप है।

एसपी संजीव कुमार ने कहा कि इनामी नक्सली (Naxalite) गुड्ड् सिंह नौडीहा बाजार थाना क्षेत्र का रहने वाला है और वह पिछले 6 सालों से फरार चल रहा था।

पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि कामडारा के रोमतोलिया गांव के पीछे नदी किनारे जंगल में प्रतिबंधित नक्सली संगठन पीएलएफआई के कुछ सदस्य (Naxali) घूमते हुये दिखाई दिये हैं।

नक्सली (Naxali) भीमा बारसे, सोना ताती, माड़का बारसे और पिट्टे 2019 में बीजेपी विधायक भीमा मंडावी के वाहन को विस्फोट से उड़ाने की घटना में शामिल थे। जिसमें विधायक मंडावी की मौत हो गई थी।

नक्सलियों (Naxalites) ने युवक के पेट में गोली मारी है। पुलिस टीम ने डेड बॉडी के पास से एक पर्चा भी बरामद किया है, जिसमें नक्सलियों ने मारे गये युवक पर पुलिस का मुखबिर होने का आरोप लगाया है।

मुठभेड़ में मारी गई महिला नक्सलियों (Naxalites) की शिनाख्त आसूचना शाखा की सदस्य विज्जे मरकाम और मलांगिर एरिया कमेटी की सदस्य व आसूचना शाखा की प्रमुख आयते मंडावी के रूप में हुई है।

दरअसल 10 लाख के इनामी नक्सली प्रशांत मांझी को गिरफ्तार करने के बाद पुलिस इन्हें संथाल परगना ले गई थी, जहां इनकी निशानदेही पर गुमला से नक्सली गिरफ्तार हुए।

हेलता गांव के जंगलों में नक्सलियों (Naxals) के खिलाफ अभियान चलाया। इस दौरान एक नक्सली साथी के घर में कई नक्सली खाना खा रहे थे। उसी दौरान पुलिस ने सभी को धर-दबोच लिया।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में पुलिस और सुरक्षाबलों द्वारा लगातार चलाए जा रहे एंटी नक्सल ऑपरेशन से प्रदेश में नक्सलियों का क्षेत्र सिमटता जा रहा है। राज्य से नक्सलवाद (Naxalism) के खात्मे के लिए केंद्र सरकार भी कमर कस चुकी है।

चाईबासा के एसपी अजय लिंडा ने बताया कि गुप्त सूचना के आधार पर छापा मारकर पुलिस ने गुदड़ी थाना क्षेत्र के होइलोरा के जंगल से नक्सली मुंडू (Naxali)  को गिरफ्तार किया।

तीन राज्यों ने इन दोनों महिला नक्सलियों (Naxali) पर 14-14 लाख रुपये का इनाम घोषित किया गया था। जिनकी पहचान सावित्री उर्फ आयते (24), शोभापति उमेश गावड़े  (30) के रूप में हुई है।

समर्पण करने वाले नक्सलियों (Naxalites) में बामन सोड़ी उर्फ दुर्गेश गंगालूर एरिया कमेटी कंपनी नंबर दो का सदस्य था। दुर्गेश पर आठ लाख रूपए का इनाम था।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) से नक्सवाद (Naxalism) को जड़ से उखाड़ फेंकने के लिए राज्य सरकार के साथ-साथ केंद्र सरकार भी पूरी तरह कमर कस चुकी है। इसी को लेकर वरिष्ठ सुरक्षा सलाहकार के विजय कुमार (K Vijay Kumar) 9 दिसंबर को धुर नक्सल प्रभावित राजनांदगांव पहुंचे।

जोनल कमांडर मनोहर का दस्ता बड़ी नक्सली घटना को अंजाम देने के इरादे से जावाबार के जंगलों में डेरा जमाये हुये था। लेकिन पुलिस की मुस्तैदी और त्वरित कार्रवाई ने नक्सलियों (Naxali) के मंसूबे पर पानी फेर दिया।

झारखंड (Jharkhand) में कमजोर पड़ चुके नक्सली संगठन (Naxali Organization) अब युवाओं को हर महीने 10-12 हजार रुपए की सैलरी का लालच देकर संगठन में शामिल कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें