Chhattisgarh Naxals

छत्तीसगढ़ के गरियाबंद जिले में पुलिस और नक्सलियों के बीच 24 अप्रैल को मुठभेड़ हुई थी। इस मुठभेड़ के बाद एक नक्सली को गिरफ्तार किया गया था। गिरफ्तार नक्सली की पहचान अर्जुन उर्फ पायकु बताई जा रही है। उसपर प्रशासन की तरफ से तीन लाख का ईनाम था।

धुर नक्सल प्रभावित सुकमा जिले के 29 आदिवासी परिवारों की घर वापसी हो रही है। उनके वापस आने की कवायद शुरू हो गई है। सलवा जुड़ूम के दौरान नक्सलियों ने इनके घर जला दिए थे।

छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले में 15 नक्सलियों ने आत्मसमर्पण किया है। एसपी के सामने सरेंडर करने वाले सभी नक्सली संगठन में हो रही ज्यादतियों से परेशान थे। सरेंडर करने वाले नक्सलियों ने बताया कि संगठन में अब विचारधारा नाम की कोई चीज नहीं रह गई है।

कभी हक के लिए हथियार उठाने वाले नक्सली अब अपराधियों का संगठित गिरोह बन चुके हैं। ऐसे अपराधी जिनका काम सिर्फ लूट-पाट और हिंसा फैलाना रह गया है। लोकतंत्र में विश्वास है नहीं और विकास से डर लगता है इन्हें।

छत्तीसगढ़ के बीजापुर में 11 अप्रैल की सुबह सुरक्षाबलों ने चार नक्सलियों को गिरफ्तार किया है। ये किसी अप्रिय घटना को अंजाम देने की फिराक़ में थे। इन चारों की गिरफ़्तारी बेदरे क्षेत्र में सुबह मतदान से थोड़ी देर पहले ही हुई है। गिरफ्तार नक्सलियों के पास से तीन देशी असलहे बरामद हुये हैं।

भीमा मंडावी विधानसभा में भाजपा विधायक दल के उपनेता थे। मंडावी दूसरी बार विधायक चुने गए थे। दंतेवाड़ा जिले के गदापाल निवासी मंडावी 2008 में विधायक चुने गए थे।

नक्सली क्षेत्रों में रहने वाले लोग नक्सलियों से बिना खौफ खाए मताधिकार का प्रयोग करने लगभग 30 किलोमीटर पैदल चलकर भी जाते हैं। इनका ये जज़्बा नक्सलवाद और इसके समर्थकों के मुंह पर जोरदार तमाचा है। छत्तीसगढ़ के कांकेर लोकसभा क्षेत्र में आज भी कई गांव ऐसे हैं, जहां के मतदाता 90 किलोमीटर तक का सफर तय कर वोट डालने जाते हैं।

नक्सल संगठनों की दोहरी नीतियों से आजीज आकर छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित सुकमा जिले में नौ नक्सलियों ने पुलिस के सामने आत्समर्पण कर दिया है। पुलिस के अनुसार, नक्सलियों बंजाम राजा, बंजाम आयता, मडकम सुला, किच्चे गंगा, मडकम मुक्का, बंजाम सोमडू, मडकम भीमा, पोज्जा उर्फ पोदिया और बण्डो केशा ने आत्मसमर्पण कर दिया है।

लोकसभा चुनाव से पहले नक्सली लगातार सुरक्षा बलों को निशाना बना रहे हैं। छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव जिले के मानपुर में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की होने वाली सभा से ठीक पहले नक्सलियों ने बम धमाके किए।

छत्तीसगढ़ के कांकेर में 4 अप्रैल को बीएसएफ और नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ की जगह और आस-पास के इलाकों से 27 बम बरामद किए गए हैं। इनमें पांच किलोग्राम के 14 प्रेशर कुकर बम, छह तीर बम और पेट्रोल बम शामिल हैं

छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) और नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ में भोपाल के जवान हरीश चंद्र पाल शहीद हो गए थे। वह सीआरपीएफ की 211 वीं बटालियन में हवलदार थे।

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में 4 अप्रैल को तीन इनामी नक्सलियों ने सरेंडर किया है। सरेंडर करने वालों में एक महिला नक्सली भी शामिल है। तीनों ही अलग-अलग इलाकों में सालों से आतंक का खेल खेल रहे थे।

छत्तीसगढ़ और झारखंड में आगामी लोकसभा चुनावों में नक्सलियों के हमले की साजिश सुरक्षाबलों ने नाकाम कर दिया है। छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में सीएम भूपेश बघेल की सभा से पहले पुलिस ने एक महिला सहित तीन नक्‍सलियों को राजा बंगला इलाके से गिरफ्तार किया है। उधर, झारखंड में भी लोकसभा चुनाव के दौरान पुलिस और सुरक्षाबलों पर हमले की तैयारी कर रहे नक्सलियों के खिलाफ पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। लातेहार में नक्सलियों ने विस्फोटक, राइफल, गोली और विस्फोटक बनाने के सामान छिपा कर रखे थे। यह सब सुरक्षा बलों के हाथ लग गया।

अब तक पैम्पलेट्स, चिट्ठी और प्रेस रिलीज़ के जरिए संवाद करने वाले नक्सली सोशल मीडिया पर उतर आए हैं। व्हॉट्सऐप (WhatsApp) उनका नया औज़ार बन गया है।

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में सीआरपीएफ जवानों पर सोमवार को एक बड़ी नक्सली हमला हुआ। इस हमले में एक जवान शहीद हो गया और पांच जवान घायल हो गए।

नक्सलियों ने 11 मार्च को दंतेवाड़ा से एसआई ललित कश्यप और एक शिक्षक जयसिंह कुरेटी को अगवा कर लिया। आखिरकार, पुलिस का दबाव पड़ने के बाद 12 मार्च को नक्सलियों ने उन्हें रिहा कर दिया।

साउथ बस्तर डिवीजन के चेतना नाट्य मंडली के इंचार्ज मड़कम अर्जुन ने सुकमा जिला प्रशासन के सामने आत्मसमर्पण कर दिया। 18 साल तक नक्सली हिंसा में शामिल रहे अर्जुन पर 8 लाख रुपए का इनाम था।

यह भी पढ़ें