सुकमा जिले में 21 मार्च को हुई इस मुठभेड़ के 7 महीने बाद नया खुलासा हुआ है। अब जानकारी सामने आई है कि इस मुठभेड़ में कुल 23 नक्सली (Naxalites) मारे गए थे।

नक्सलियों (Naxalites) ने किडनैपिंग के बाद धारदार हथियारों से रेंजर रथराम पटेल के शरीर पर कई वार किए, जिससे रेंजर की मौके पर ही मौत हो गई।

बीजापुर से 35 किमी दूर स्थित पुसनार और मेटापाल गांव में बीते 2 दिन पहले नक्सली (Naxalites) पहुंचे थे और दोनों गांवों से 26 ग्रामीणों का अपहरण कर लिया।

पुलिस दिन-रात नक्सलियों (Naxalites) के मूवमेंट पर नजर बनाए हुए है। रात में पुलिस उनके ठिकानों पर दबिश दे रही है। जवानों ने उनके मंसूबों पर पानी फेर दिया है।

एएसआई नागैय्या कोरसा 10 दिनों की छुट्टी लेकर रविवार को बाइक से अपने गांव चेरामंगी जा रहे थे। इसी दौरान नक्सलियों (Naxalites) ने उनका अपहरण कर लिया।

बस्तर पुलिस ने इन समस्याओं से निपटने का एक सही तरीका ढूंढ निकाला है। ऐसा तरीका जिससे नक्सलियों का अर्बन नेटवर्क और कथित समाजसेवी संस्थाओं की ये कोशिशें नाकाम हो जाएंगी।

आयता ने भी जिंदगी के करीब 13 से इसी मुगालते में गुजार दिए कि वह अपने समाज और आदिवासियों के हितों की लड़ाई लड़ रहा है। पर, जब असलियत से सामना हुआ तो संगठन में उसका दम घुटने लगा।

दरअसल बीते कुछ समय से बस्तर के स्थानीय नक्सली लगातार लाल आतंक का रास्ता छोड़ रहे हैं और मुख्यधारा में जुड़ रहे हैं। इसी वजह से नक्सलियों का जनाधार गिरता जा रहा है।

छत्तीसगढ़ राज्य बनने के 20 साल बाद धुर नक्सल (Naxal) प्रभावित गांव मारजुम में आजादी के बाद पहली बार सुरक्षाबल के जवान, महिला कमांडो और ग्रामीणों ने मिलकर तिरंगा लहराया।

Chhattisgarh: एक नक्सली ने अपने चार अन्य साथियों के साथ शनिवार को सीआरपीएफ डीआईजी और सुकमा एसपी के सामने आत्मसमर्पण कर दिया है।

'लोन वर्राटू' अभियान से प्रभावित होकर 3 इनामी सहित कुल 16 नक्सलियों (Naxalites) ने दंतेवाड़ा के एसपी डॉ. अभिषेक पल्लव के सामने आत्मसमर्पण (Surrender) दिया है।

दशमी का बड़ा भाई अभी भी नक्सलियों (Naxali) के बहकावे में जंगलों की खाक छान रहा है। दशमी ने अपने बड़े भाई से अपील किया है कि वो भी हिंसा का रास्ता छोड़कर मुख्यधारा में लौट आए।

दंतेवाड़ा एसपी अभिषेक पल्लव ने बताया कि भैरमगड एरिया कमेटी में बीते 10 सालों में जितनी भी बड़ी घटनाएं हुई हैं, उसमें भल्ला शामिल था।

नक्सलियों के सबसे मजबूत कहे जाने वाले दरभा डिवीजन कमेटी के दो शीर्ष नक्सली नेता विनोद और देवा के बीच चल रही खींचतान की खबरें बाहर आई हैं।

नक्सली (Naxalites) आज से अपना शहीदी सप्ताह मना रहे है। बता दें कि इस दौरान नक्सली, पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारे गए अपने साथियों को याद करते हैं। साथ ही नक्सलियों का इस फिराक में रहते हैं कि इस दौरान वे किसी बड़ी घटना को अंजाम दें।

इसी कड़ी में छत्तीसगढ़ के बीजापुर में शहीदी सप्ताह के पहले ही दिन पुलिस और माओवादियों के बीच मुठभेड़ हो गई। मुठभेड़ के बाद माओवादी कैंप छोड़कर भाग गए ।

छत्तीसगढ़(Chhattisgarh) के दंतेवाड़ा (Dantewada) जिले में जवानों ने एक बार फिर नक्सलियों के स्मारक (Naxali Monument) को ध्वस्त किया है। जिले के किरन्दुल के गुमियापाल-रैयपारा जंगल में नक्सली कमांडर पोड़िया का स्मारक डीआरजी के जवानों ने ध्वस्त किया।

यह भी पढ़ें