दंतेवाड़ा: रक्षाबंधन पर भाई का बहन को बड़ा तोहफा, 8 लाख के इनामी नक्सली ने किया सरेंडर

दंतेवाड़ा एसपी अभिषेक पल्लव ने बताया कि भैरमगड एरिया कमेटी में बीते 10 सालों में जितनी भी बड़ी घटनाएं हुई हैं, उसमें भल्ला शामिल था।

Bhalla

भल्ला से मिलने पर बहन ने भल्ला को समझाया और पुलिस के सामने समर्पण करने की जिद करते हुए भल्ला को दंतेवाड़ा एसपी व सीआरपीएफ डीजी के सामने समर्पण कराया।

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले में 8 लाख के इनामी नक्सली (Naxal) भल्ला ने सरेंडर कर दिया। वह भैरमगढ़ एरिया कमेटी के प्लाटून नंबर 13 का डिप्टी कमांडर था। भल्ला ने सीआरपीएफ के डीजी और दंतेवाड़ा जिले के एसपी अभिषेक पल्लव के सामने अपनी बहन के जोर देने पर सरेंडर किया है।

दंतेवाड़ा एसपी अभिषेक पल्लव ने बताया कि भैरमगड एरिया कमेटी में बीते 10 सालों में जितनी भी बड़ी घटनाएं हुई हैं, उसमें भल्ला शामिल था। भल्ला के समर्पण से दंतेवाड़ा जिले के बैलाडीला क्षेत्र में हो रही नक्सलियों की गतिविधि की पुख्ता सूचना मिल सकेगी और एनएमडीसी प्लान पर होने वाले नक्सली हमलों में कमी आएगी।

क्योंकि उन इलाकों में नक्सलियों (Naxals) का 13 नंबर प्लाटून सक्रिय है, जिसमें भल्ला डिप्टी कमांडर था। साथ ही एसपी पल्लव ने बताया कि भल्ला के सरेंडर में उसकी बहन की अहम भूमिका है। भल्ला 12 साल बाद अपनी बहन से मिलने उसके गांव आया था और गांव में लगे लोन वराटू अभियान के पोस्टर में लिखी बातों से भल्ला की बहन काफी प्रभावित थी और लगातार एंटी नक्सल ऑपरेशन में नक्सलियों के मारे जाने की खबर से अपने भाई के लिए परेशान भी थी।

ये भी पढ़ें- पाकिस्तान रच रहा बड़े हमले की साजिश, बॉर्डर से लेकर घाटी तक हाई अलर्ट पर सुरक्षाबल

ऐसे में भल्ला से मिलने पर बहन ने भल्ला को समझाया और पुलिस के सामने सरेंडर करने की जिद करते हुए भल्ला को दंतेवाड़ा एसपी व सीआरपीएफ डीजी के सामने सरेंडर कराया। इस मौके पर भल्ला ने अपनी बहन से 12 साल बाद राखी भी बंधवाई।

दंतेवाड़ा जिले में चलाए जा रहे लोन वराटू (घर वापस आइए) अभियान में पुलिस को लगातार सफलता मिल रही है और इस मामले में भी लोन वराटू के पोस्टर ने एक 8 लाख के इनामी नक्सली को समर्पण करने में मदद की है। इस अभियान से जुड़े पोस्टरों को पुलिस दंतेवाड़ा जिले के हर गांव, हर क्षेत्र तक पहुंचाने का प्रयास कर रही है, जिससे प्रभावित होकर नक्सल संगठन में जुड़े लोग समर्पण करें, और नक्सलियों का परिवार नक्सलियों से अपील करके उन्हें सरेंडर करवाए।

ये भी देखें- 

 

यह भी पढ़ें