Naxalite

जेल में रह कर एक नक्सली नेता ने अपनी मेहनत और इच्छाशक्ति के दम पर मिसाल कायम किया। जेल में बंद होने के बावजूद उसने कलम थामी और तारीख लिख डाला। आज हम एक ऐसे ही नक्सली की कहानी बता रहे हैं आपको।

सोमवार दोपहर अचानक नैरो पहाड़ी में सुरक्षाबलों की घेराबंदी देख आसपास इलाके में डर व्याप्त हो गया। स्थानीय लोग किसी बड़ी घटना को लेकर चिंतित हो गये थे।

बिहार में पंचायत चुनाव को ध्यान में रखते हुए नक्सलियों (Naxalites) ने अपनी गतिविधियों को बढ़ा दिया है।

नक्सली का नाम गंगा प्रसाद राय (Ganga Prasad Rai) था और उसने जब सरेंडर किया था, उससे पहले से उसकी तबीयत खराब थी।

हजारीबाग पुलिस और सीआरपीएफ (CRPF) की संयुक्त कार्रवाई में देसी राइफल के साथ जेपीसी उग्रवादी संगठन के एक नक्सली (Naxalite) को गिरफ्तार किया गया है।

नक्सली (Naxalites) मौके से भागने में सफल रहे। हालांकि इस दौरान सुरक्षाबलों ने मौका-ए-वारदात से एक बन्दूक, छह कारतूस, चार डेटोनेटर, दो वॉकी-टॉकी रेडियो सेट, वर्दी और पोस्टर जब्त किए गए।

झारखंड (Jharkhand) का कुख्यात 10 लाख का इनामी नक्सली (Naxalites) जो सालों से खून-खराबे के रास्ते पर चल रहा था, उसे प्यार ने झुका दिया।

छत्तीसगढ़ में नक्सलियों के खिलाफ अभियान जारी है और इसका असर भी दिखाई दे रहा है। इस बीच नक्सल प्रभावित सुकमा जिले में एक नक्सली ने सरेंडर किया है।

एसपी लिंडा के निर्देश पर छापेमारी टीम आनंदपुर थाना काहेतर के बोरोतिका भुईया टोला में छापेमारी की। जहां पर एक निर्माणाधिन मकान से 3 लोगों को अवैध हथियारों के साथ पकड़ा।

गिरफ्तार नक्सली ने ही विधानसभा चुनाव 2020 में नक्सल पर्चा, बैनर साटकर दहशत फैलाने की योजना थी। वोटरों को भी डराने-धमकाने-बहकाने की साजिश रची गई थी।

नक्सली राजेंद्र (Naxalite) खिलाफ नक्सली कांड, हत्या व आर्म्स एक्ट के तहत आधा दर्जन केस दर्ज हैं। वहीं, पिपरा गांव में 2004 में हुए हत्याकांड व 2008 में हुए तिहरे हत्याकांड में भी वह नामजद अभियुक्त है।

Dantewada: छत्तीसगढ़ में नक्सलियों के खिलाफ अभियान जारी है। इस बीच दंतेवाड़ा जिले से बड़ी खबर सामने आई है।

Umesh Yadav alias Vimal: झारखंड में नक्सलियों के खिलाफ अभियान जारी है। इस वजह से भारी संख्या में नक्सली सरेंडर कर रहे हैं और मुख्यधारा से जुड़ रहे हैं।

सरकार जहां एक ओर नक्सलियों का प्रभाव कम करने के लिए रणनीति बनाने पर जोर दे रही है, वहीं इस इलाके में कारोबार के विस्तार पर खास ध्यान दे रही है।

सूत्रों की मानें तो 10 लाख का इनामी जोनल कमांडर महाराज प्रमाणिक के साथ 5 नक्सलियों ने सुरक्षाबलों के सामने सरेंडर कर दिया है और अपने साथियों के गुप्त ठिकानों की सूचनाएं दे रहे हैं।

झारखंड में नक्सलियों के खिलाफ अभियान जारी है। इस बीच खबर मिली है कि 10 लाख के इनामी नक्सली कमांडर महाराज प्रमाणिक (Maharaj Pramanik) ने सरेंडर कर दिया है।

कहते हैं कि दुनिया के सबसे मजबूत रिश्तों में से एक होता है भाई और बहन का रिश्ता। छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा जिले से एक ऐसा ही मामला सामने आया है।

यह भी पढ़ें