LAC पर -20 डिग्री तापमान में पूरी तैयारी के साथ डटी है भारतीय सेना, चीन ने सर्दियों से निपटने के लिए उठाया ये कदम

भारतीय जवान जमा देने वाली सर्दी में भी सरहदों की निगहबानी में डटे हैं, जबकि चीनी सैनिकों की हालत खराब हो गई है। इसलिए चीन (China) को अपनी रणनीति बदलनी पड़ रही है।

China

ड्रैगन को लग रहा था कि लद्दाख में जमा देने वाली ठंड में भारतीय सेना (Indian Army) टिक नहीं पाएगी और अपनी पोस्ट छोड़ निचले इलाकों में आ जाएगी। पर हुआ ठीक इसका उल्टा। चीन (China) को समझ आ गया है कि भारतीय जवान अपनी पोस्ट खाली नहीं करने वाले हैं।

लद्दाख में LAC पर 14000 फीट की ऊंचाई पर भारतीय सेना (Indian Army) के मजबूत हैसले को देखकर चीन (China) घबरा गया है। भारतीय जवान जमा देने वाली सर्दी में भी सरहदों की निगहबानी में डटे हैं, जबकि चीनी सैनिकों की हालत खराब हो गई है। इसलिए चीन को अपनी रणनीति बदलनी पड़ रही है।

जानकारी के मुताबिक, चीनी सैनिकों की पोजिशन में अब हर 24 घंटे में बदलाव किया जा रहा है। ड्रैगन को लग रहा था कि लद्दाख में जमा देने वाली ठंड में भारतीय सेना (Indian Army) टिक नहीं पाएगी और अपनी पोस्ट छोड़ निचले इलाकों में आ जाएगी। पर हुआ ठीक इसका उल्टा। चीन (China) को समझ आ गया है कि भारतीय जवान अपनी पोस्ट खाली नहीं करने वाले हैं।

ब्रह्मोस मिसाइल के नौसैन्य वर्जन का सफल परीक्षण, भारतीय नौसेना ने आईएनएस रणविजय से किया मिसाइल फायर

लिहाजा उसने भी अब अपने सैनिकों के लिए सर्दियों में जरूरत की चीजें खरीदनी शुरू कर दी है। बता दें कि लद्दाख में जहां भारतीय और चीनी सैनिकों की तैनाती है, वहां तापमान पहले ही -20 डिग्री से नीचे जा चुका है। चीन यहां कुछ ही दिन पहले अपने सैनिकों के लिए अतिरिक्त सामान लेकर आया है।

एक अधिकारी के अनुसार, यहां बर्फीली हवाएं और तापमान एक चुनौती रहने वाली है। आने वाले दिनों में यहां का तापमान -40 डिग्री तक नीचे जाएगा। भारत (India) ने अक्टूबर में ही अपनी सेनाओं के लिए सर्दियों के लिए विशेष कपड़े अमेरिका से खरीदे थे। क्योंकि भारत को पहले से ही पता था कि सर्दियों में भी लद्दाख (Ladakh) में सेना की तैनाती जारी रहने वाली है।

बीजेपी सांसद और बॉलीवुड स्टार सनी देओल कोरोना पॉजिटिव, मुंबई रवाना होने से ठीक पहले आई रिपोर्ट

बता दें कि भारतीय सैनिकों को जो विंटर किट दी गई है उसमें तीन लेयर की पोशाक हैं। इसमें विशेष जैकेट और पैंट, बर्फीली हवा को मात देने के लिए स्वेटर, विशेष चश्मे, फेस मास्क, दास्ताने, स्नो बूट, ऊनी मौजे, सिर और कान को ढकने वाली टोपियां शामिल हैं। इसके साथ ही सैनिकों को विशेष बोतल दी गई है जिसमें पानी गर्म रहता है, इसके अलावा उन्हें सोने के लिए विशेष बैग भी दिया गया है।

रिपोर्ट के मुताबिक, पहले चीन (China) के पास 9 से 10 हजार सैनिकों के लिए ही सर्दियों के कपड़े थे, लेकिन अब जबकि बॉर्डर से सेनाओं की वापसी नहीं हो रही है तो चीन ने महसूस किया है कि उसे भी सर्दियों के लिए सामान की जरूरत पड़ेगी।

छत्तीसगढ़: बीजापुर में नक्सलियों का कहर, पुलिस मुखबिर का आरोप लगाकर परिजनों के सामने ग्रामीण की हत्या की

सूत्रों के अनुसार, पीएलए (PLA) के ज्वाइंट लॉजिस्टिक सपोर्ट फोर्स ने एक क्वालिटी सुपरविजन टीम बनाई है जो कि सर्दियों के मौसम के लिए सैनिकों के पकड़े खरीद रही है। इस टीम को अच्छी क्वालिटी के कपड़े खरीदने और इसकी फास्ट डिलीवरी कराने का जिम्मा दिया गया है।

ये भी देखें-

बता दें कि LAC पर अभी भी दोनों देशों की सेनाएं आमने सामने हैं। यहां तापमान में लगातार गिरावट हो रही है, लेकिन दोनों ओर से चौकसी जारी है। सिंतबर के आखिर में भारतीय सेनाओं ने इन चोटियों को अपने नियंत्रण में ले लिया था। इससे चीन (China) चिढ़ा हुआ है। हालांकि, इस बीच शांति के लिए दोनों देशों के बीच कई बार बातचीत हो चुकी है। पर, अब तक कोई नतीजा नहीं निकल पाया है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें