India China Border Tension

दोनों देशों (India China) की इस बातचीत का मकसद हॉट स्प्रिंग, गोगरा और देप्सांग में सैनिकों की वापसी की दिशा में आगे बढ़ने के साथ-साथ पूरे इलाके में तनाव को कम करना है। हालांकि सैनिकों की वापसी की दिशा में कोई और प्रगति नहीं हुई।

चीन अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। एलएसी (LAC) पर वह अपनी ताकत बढ़ा रहा है। खबर आई है कि अब ड्रैगन एलएसी (LAC) पर सैनिकों के लिए स्थायी बुनियादी ढांचे का निर्माण कर रहा है।

लद्दाख (Ladakh) में भारत (India) के साथ तनाव के बीच चीन (China) के एक सीक्रेट मिशन का खुलासा हुआ है। सैटेलाइट तस्वीरों से ये बड़ी बात सामने आई है।

चीन की तमाम एजेंसियों ने बेंगलुरु की उस कंपनी को निशाना बनाया, जो कि मंत्रालय और बीएसएनएल से जुड़ी हुई है।

सेना (Indian Army) ने एक बयान में कहा, ‘‘देश उन वीर सैनिकों का हमेशा आभारी रहेगा, जिन्होंने अत्यधिक ऊंचाई वाले सबसे कठिन इलाकों में लड़ाई लड़ी और राष्ट्र की सेवा के लिए सर्वोच्च बलिदान दिया।’’

चीन के एक रिटायर वरिष्ठ सैन्य अधिकारी ने सुझाव दिया कि टकराव से बचने के लिए दोनों पक्षों को विश्वास बहाली पर पूर्व में बनी सहमति पर फिर से आगे बढ़ना चाहिए और कम विवादास्पद उपायों को कार्य में लाना चाहिए।

चीन (China) उत्तराखंड के पिथौरागढ़ के पास भी ऐसा ही एयरपोर्ट बना रहा है‚ जो बुरांग काउंटी में है। ये इलाका भारत–नेपाल–तिब्बत ट्राईजंक्शन के बेहद करीब है। यहां से पिथौरागढ़ महज 50 किलोमीटर की हवाई दूरी पर होगा।

गिरफ्तार चीनी नागरिक से 1 एप्पल लैपटॉप, 2 आईफोन मोबाइल, 1 बांग्लादेशी सिम, 1 भारतीय सिम, 2 चाइनीस सिम, 2 पेन ड्राइव, 3 बैटरी, 2 स्मॉल टर्च, 5 मनी ट्रांजैक्शन मशीन, 2 एटीएम कार्ड, अमेरिकी, बांग्लादेशी और भारतीय करेंसी भी बरामद हुई है।

पूर्वी लद्दाख (Estern Ladakh) में जारी तनाव को कम करने की कोशिशों के बीच चीन (China) एक बार फिर से चालबाजी की कोशिश कर रहा है। चीन ने एक बार फिर से उकसावे की कार्रवाई शुरू कर दी है।

जयशंकर (S. Jaishankar) ने बताया कि इस समझौतों में यह बताया गया था कि आप सीमा पर बड़ी सेना नहीं लायेंगे और वास्तविक नियंत्रण रेखा का सम्मान किया जायेगा और इसे बदलने का प्रयास नहीं होगा।

चीन (China) एक बार फिर से वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर चालबाजी दिखाने लगा है। चीन ने एलएसी के पास सरफेस टू एयर मिसाइल बैटरियों को तैनात किया है।

भारत (India) और चीन (China) के सैन्य कमांडरों के बीच एलएसी (LAC) पर कायम गतिरोध को खत्म करने को लेकर 9 अप्रैल को 11वें दौर की वार्ता हुई।

अरिंदम बागची (Arindam Bagchi) के अनुसार, पूर्वी लद्दाख में सैनिकों के हटने से ही सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति बहाल हो सकती है और द्विपक्षीय संबंधों की प्रगति का माहौल बन सकता है।

कई दौर की लंबी बातचीत के बाद दोनों देशों ने पिछले महीने पैंगोंग झील इलाके से अपनी सेनाओं को पीछे हटाया। लेकिन पूर्वी लद्दाख के कुछ हिस्सों में अभी भी सेनाओं के हटाने के मुद्दे पर चर्चा जारी है। 

भारत और चीन के बीच आगे की राह आसान करने के लिए 3-M फॉर्मूले को लेकर बात हुई है, जिसके आधार पर विवाद को निपटाया जाएगा। इसमें आपसी सम्मान, आपसी संवेदनशीलता और आपसी हित को ध्यान में रखा जाएगा।

भारत (India) और चीन (China) के बीच बीते कई महीनों से LAC पर चल रहे विवाद को खत्‍म करने के लिए दोनों देशों के बीच 20 फरवरी को 10वें दौर की सैन्‍य वार्ता हुई।

चीन (China) के सरकारी मीडिया ने गलवान की झड़प का वीडियो (Galwan Clash Video) जारी किया है। यह जून, 2020 का वीडियो है। वीडियो में दिख रहा है कि चीनी सैनिक भारतीय जवानों से उलझे हुए हैं।

यह भी पढ़ें