Politics

देवेन्द्र मिश्रा ने जब विकास (Vikas Dubey) और इंस्पेक्टर के बीच मारपीट होती देखी तो उन्होंने विकास पर फायर कर दिया‚ लेकिन वह मिस हो गया। बदले में विकास ने भी देवेन्द्र मिश्रा पर फायर किया‚ लेकिन वह भी मिस हो गया। इसके बाद मजबूत कदकाठी के देवेन्द्र मिश्रा ने विकास को दबोच लिया और जमकर पीटने के बाद हवालात में डाल दिया।

नेपाल (Nepal) में चीनी राजदूत होउ यान्की की सक्रियता बढ़ गई है ताकि ओली की कुर्सी को बचाया जा सके। प्रचंड़ खेमे को वरिष्ठ नेताओं और पूर्व प्रधानमंत्रियों माधव कुमार नेपाल (Nepal) और झालानाथ खनल का समर्थन हासिल है। यह खेमा ओली के इस्तीफे की मांग कर रहा है।

पिछले कुछ दिनों में भारत और नेपाल के रिश्तों पर काफी चर्चा हुई है। चर्चा का केंद्रीय बिंदु रहा दोनों देशों के बीच का पुराना सीमा विवाद और इस विवाद में नेपाल की स्थिति को लेकर वहां की सरकार का अचानक आक्रामक हो जाना।

रक्षा मंत्रालय के सेना मामलों के विभाग ने सर्कुलर जारी कर सभी सैनिकों और अधिकारियों को लौटने को कहा है जो लॉकडाउन के कारण या अन्य वजह से छुट्टी पर थे।

नेपाल (Nepal) सीमा पुलिस का दावा है कि उसने भीड़ को तितर–बितर करने के लिए पहले हवा में गोली चलाई‚ लेकिन बाद में हथियार छीने जाने के भय से उन्होंने लोगों पर निशाना साधकर गोली चलाई जो तीन लोगों को लगी।

भारत-चीन (India China) गतिरोध को दूर करने लिए भारतीय सेना का प्रतिनिधित्व 14वीं कॉर्प के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह ने की। जबकि चीनी सेना की ओर से मेजर जनरल लियू लिन ने इस बैठक में हिस्सा लिया। मेजर जनरल लियू लिन चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के दक्षिण झिंजियांग सैन्य क्षेत्र के कमांडर हैं।

सवाल ये है कि दोनों देशों का जो सीमा विवाद (India China Border Tension) है उसका क्या हल है? इस ज्वलंत मुद्दे पर बीबीसी के पूर्व संवादक संजीव श्रीवास्तव ने कई अंतर्राष्ट्रीय लेखों के आधार पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। जरूर सुनें।

भारत-चीन (India China) गतिरोध को दूर करने लिए भारतीय सेना का प्रतिनिधित्व 14वीं कॉर्प के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह ने की। जबकि चीनी सेना की ओर से मेजर जनरल लियू लिन ने इस बैठक में हिस्सा लिया। मेजर जनरल लियू लिन चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के दक्षिण झिंजियांग सैन्य क्षेत्र के कमांडर हैं।

इसी बीच चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) ने सबसे खराब स्थिति (India China Border Tension) की कल्पना करते हुए सेना को युद्ध की तैयारियां तेज करने का आदेश दिया और उससे पूरी दृढ़ता से देश की सम्प्रभुता की रक्षा करने को कहा।

इन विवादों से फुर्सत नहीं मिली कि एफएओ (FAO) ने अपने नक्शे में भारत को चार हिस्सों में दिखाया हुआ है। एक तो शेष भारत है। दूसरा जम्मू और कश्मीर है। तीसरा अक्साई चीन है और चौथा अरुणाचल प्रदेश है।

चीन (China) सरकार को संदेश दे दिया गया है कि भारत अपने क्षेत्र में सीमा पर जारी निर्माण कार्य को नहीं रोकेगा। सीमा (LaC) पर तनाव के बीच भारत (India) ने स्पष्ट तौर पर कह दिया है कि वह अपनी संप्रभुता व सुरक्षा के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है।

भारत (India) के साथ नेपाल (Nepal) चीन (China) के इशारे पर सीमा के मुद्दे को तूल दे रहा है। काला पानी, लिपुलेख और लिंपियाधूरा को नेपाल ने अपने नक्शे में शामिल कर इस विवाद को और बढ़ाने का काम किया है।

उन्होंने (Army Chief) कहा‚ मैं विश्वास के साथ कह सकता हूं कि हमारी उत्तरी सीमाओं पर बुनियादी क्षमताओं का विकास पटरी पर है। कोविड़–19 (Coronavirus) महामारी के कारण हमारे बलों की स्थिति में कोई बदलाव नहीं होगा। 

वामदलों ने कोरोना में श्रमिकों (Workers) की बदहाली के मुद्दे पर कुछ अन्य दलों के सांसदों के साथ राष्ट्रपति को एक ज्ञापन भी सौंपा है। सरकार के विभिन्न मंत्रालय भी परोक्ष रूप से जानते हैं कि पैदल चलते श्रमिकों की असंख्य तस्वीरों के सामने आने से सरकार की छवि पर बुरा असर पड़ा है।

कोरोना महामारी फैलने के बाद पांच-छह मई को उग्र रूख के बारे में पूछने पर झाओ ने कहा, संबंधित अवधारणा आधारहीन है। उन्होंने कहा, यह वर्ष भारत और चीन (India-China) के बीच राजनयिक संबंधों का 70वां वर्ष है और दोनों देशों ने कोरोना (Coronavirus) से मिलकर लड़ने का फैसला किया है।

ज्योतिरादित्य माधवराव सिंंधिया के कांग्रेस से अलग होने से पूरे मध्यप्रदेश में प्रशासनिक गलियारों से लेकर स्वशासी दफ्तरों तक ,हाई प्रोफाइल अधिकारियों से लेकर आम कर्मचारियों तक,व्यवसायियों से लेकर राजनैतिक व्यक्तित्व तक सभी इस बात को लेकर चिंतनशील है,

कोरोना वायरस (Coronavirus) का असर भारत की अर्थव्यवस्था पर भी दिख सकता है। चीन में संक्रमण के चलते न सिर्फ भारत में होने वाले आयात बल्कि देश का निर्यात भी प्रभावित हो रहा है।

यह भी पढ़ें