देशवासियों में शोक की लहर: चीन के साथ खूनी झड़प में हमारे 20 जवान शहीद, चीन के भी 43 जवान हताहत, भारतीय सैनिकों की छुट्टी रद्द

रक्षा मंत्रालय के सेना मामलों के विभाग ने सर्कुलर जारी कर सभी सैनिकों और अधिकारियों को लौटने को कहा है जो लॉकडाउन के कारण या अन्य वजह से छुट्टी पर थे।

Indian Army

India-China Clashes in Galwan Vally, Laddakh

पूर्वी लद्दाख की गलवान वैली में भारत और चीन (India China) की सेना के बीच हुए खूनी संघर्ष में भारत के 20 जवान शहीद हो गए। जिसमे एक कर्नल रैंक के ऑफिसर भी शामिल हैं। वहीं चीन के 43 सैनिकों के हताहत होने की खबर है। भारतीय सेना (Indian Army) सूत्रों के अनुसार सोमवार रात गश्त करने गए भारतीय सैनिकों की चीनी सैनिकों से झड़प हो गई थी। जिसमें 3 भारतीय सैनिक शहीद हो गये थे और 17 भारतीय घायल हो गए थे। जो बाद में एलएसी पर तापमान कम होने के कारण शहीद हो गए।

भारत की तरफ से गए दूसरे गश्ती दल और चीनी सैनिकों के बीच अन्य झड़प में कुछ और सैनिकों के हताहत होने की जानकारी मिली। सेना  (Indian Army) के अनुसार कुल 20 भारतीय सैनिक शहीद हुए हैं जबकि चीनी सूचना को इंटरसेप्ट करने से सेना को मिली जानकारी के अनुसार उनके करीब 43 सैनिक या तो मरे हैं या घायल हुए हैं।

इस खूनी झड़प के बाद दिल्ली में मंगलवार सुबह से ही बैठकों का दौर जारी रहा। सुबह रक्षा मंत्री ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत और तीनों सेनाओं के प्रमुखों की बैठक ली और फिर प्रधानमंत्री को हालात से अवगत कराया। उसके बाद रक्षा मंत्री ने अपने घर पर सीडीएस और तीनों सेनाओं के प्रमुखों व विदेश मंत्री के साथ बैठक की। फिर रक्षा मंत्री और विदेश मंत्री प्रधानमंत्री से मिलने गए।

घाटी में पिछले 17 दिनों में मारे गए 27 आतंकवादी- डीजीपी दिलबाग सिंह

देर रात प्रधानमंत्री ने सुरक्षा मामलों की कैबिनेट कमेटी की बैठक बुलाई जिसमें रक्षा मंत्री, वित्त मंत्री, विदेश मंत्री और गृह मंत्री उपस्थित हुए। इस बैठक में सीमा पर उपजे हालात की समीक्षा की गई और पूरी एलएसी पर भारतीय सेना को अलर्ट कर दिया गया है, चाहे वह हिमाचल हो, उत्तराखंड हो, सिक्किम हो या फिर अरुणाचल प्रदेश।

इसके बाद रात में ही प्रधानमंत्री ने गृह मंत्री और विदेश मंत्री की अलग से बैठक बुलाई। इसमें सेना प्रमुख भी उपस्थित थे। दिनभर की चर्चा के बाद देर रात भारतीय सेना (Indian Army) ने एक बयान जारी कर पुष्टि की कि भारत के 20 जवान शहीद हुए हैं। हालांकि चीन के कितने सैनिक मारे गए, इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है। सेना ने विश्वास दिलाया है कि भारतीय सेना देश की सीमाओं को सुरक्षित रखने में सक्षम है और भारतीय सीमा पर आंच नहीं आने देगी।

Indian Army ने अपने सैनिकों की छुट्टी रद्द की

रक्षा मंत्रालय के सेना मामलों के विभाग ने सर्कुलर जारी कर सभी सैनिकों और अधिकारियों को लौटने को कहा है जो लॉकडाउन के कारण या अन्य वजह से छुट्टी पर थे। उनसे कहा गया है कि किसी भी निजी कंपनी के जहाज से वापस आकर अपनी यूनिटों को रिपोर्ट करें। वहीं, उनके टिकट का रुपए सेना वापस करेगी। अभी तक नियम है कि केवल इंडियन एयरलाइंस से ही सफर करने पर सैनिकों और अधिकारियों को रिफंड किया जाता था, लेकिन असामान्य परिस्थितियों को देखते हुए छुट्टी पर गए सहकर्मी निजी एयरलाइन्स से अपनी यूनिटों को रिपोर्ट कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें