Chhattisgarh Naxal Encounter

पिछले दो महीनों में 70 नक्सलियों ने लोन वर्राटू अभियान के तहत सरेंडर किया है। जिसमें एक लाख से लेकर 8 लाख रुपये तक के इनामी नक्सली शामिल हैं।

पुलिस की चौकसी और लगातार धर पकड़ की वज़ह से नक्सली (Naxal) परेशान हैं और आत्मसमर्पण का रास्ता अपना रहे हैं।

नक्सली संगठन अपने कुछ साथियों के साथ मिलकर हमले की प्लानिंग कर रहा था। पुलिस को इसकी सूचना मिल गई। जिसके बाद नक्सलियों के साथ मुठभेड़ हुई।

1 अगस्त को गश्त के दौरान पुलिस के एक दल ने जिले के भैरमगढ़ थाना क्षेत्र के तिंडोडी गांव से नक्सली (Naxal) महेश यादव को गिरफ्तार कर लिया।

हार्डकोर नक्सली कमांडर डेविड एएसआई नरबद बोगा की हत्या में भी शामिल था। इसके खिलाफ पुलिस की टीम पर हमला और हत्या जैसे दर्जनों मामले दर्ज हैं।

नक्सलियों के खिलाफ अभियान में सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित नारायणपुर जिले में हुए एक एनकाउंटर ने सुरक्षाबलों ने 5 नक्सलियों को मौत के घाट उतार दिया। इस कार्रवाई में 2 जवान भी जख्मी हुए हैं।

छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव में शनिवार को डिस्ट्रिक्ट रिजर्व ग्रुप (डीआरजी) के जवानों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हुई। इसमें 7 नक्सली मारे गए। मौके से भारी मात्रा में गोला बारूद बरामद किया गया।

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित सुकमा में सुरक्षाबलों को नक्सलियों के खिलाफ अभियान में बड़ी कामयाबी मिली है। यहां मुठभेड़ के दौरान पुलिस ने एक महिला नक्सली को मार गिराया है।

एरिया डोमिनेशन पर निकले सुरक्षाबल के जवान माओवादियों के एंबुश में जवान फंस गए। इस वारदात में दो जवान शहीद हो गए।

गुप्त सूचना के आधार पर राजनांदगांव जिले के कोहकाटोला गांव की पहाड़ी पर मौजूद नक्‍सली कैंप पर पुलिस ने हमला बोल दिया।

मेसी रूसी बेड़दा गांव की भोली-भाली लड़की थी, फिर ऐसा क्या हुआ कि वो बन गई खूंखार नक्सली कमांडर?

राज्य पुलिस की स्पेशल टीम (डिस्ट्रिक्ट रिजर्व गार्डस) डीआरजी कांकेर के टाडोकी इलाके में सर्च ऑपरेशन चला रही थी।

यह भी पढ़ें