वैश्विक शांति व सुरक्षा के लिए आतंकवाद और कट्टरता दुनिया के लिए सबसे बड़ा खतरा- रक्षा मंत्री

रक्षा मंत्री ने पाकिस्तान का नाम लिये बिना आतंकवाद को बढ़ावा देने, उसका समर्थन और वित्त पोषण करने और आतंकवादियों को शरण देने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का आह्वान किया।

Rajnath Singh

देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने बुधवार को ‘आसियान डिफेंस मिनिस्टर्स मीटिंग-प्लस’ (एडीएमएम-प्लस) में वर्चुअल संबोधन में कहा कि आतंकवाद और कट्टरता दुनिया में शांति व सुरक्षा के लिए गंभीर खतरे हैं। ऐसे में इन चुनौतियों से निपटने के लिए सामूहिक दृष्टिकोण की आवश्यकता है।

आंध्र प्रदेश: विशाखापत्तनम में पुलिस और नक्सलियों के बीच भीषण मुठभेड़, 6 नक्सली ढेर

इस संबोधन में राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने समुद्री सुरक्षा चुनौतियों पर भारत की चिंताओं को भी जिक्र किया। साथ ही उन्होंने अहम समुद्री मार्गों में चीन के आक्रामक व्यवहार की तरफ इशारा करते हुए कहा कि दक्षिण चीन सागर में चीनी गतिविधियों ने इस तरफ ध्यान आकर्षित किया। उनके अनुसार, भारत इन अंतर्राष्ट्रीय समुद्री मार्गों में नौवहन, समुद्री क्षेत्रों पर उड़ान भरने और बेरोकटोक व्यापार की आजादी का समर्थन करता है।

गौरतलब है कि चीन दक्षिण चीन सागर पर अपना दावा जताता है जो हाइड्रोकार्बन का बड़ा स्रोत है। वियतनाम, फिलीपीन और ब्रूनेई समेत आसियान के कई सदस्य देश भी ऐसा ही दावा जताते हैं।

राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने देशों की क्षेत्रीय अखंडता और सम्प्रभुत्ता, संवाद के जरिए विवादों के शांतिपूर्ण समाधान व अंतर्राष्ट्रीय नियमों और कानूनों के अनुपालन के आधार पर इस क्षेत्र को मुक्त, खुला और समावेशी बनाने का आह्वान किया।

रक्षा मंत्री ने पाकिस्तान का नाम लिये बिना आतंकवाद को बढ़ावा देने, उसका समर्थन और वित्त पोषण करने और आतंकवादियों को शरण देने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का आह्वान किया। राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) के अनुसार, ‘‘आतंकवाद और कट्टरता दुनिया के सामने शांति व सुरक्षा के लिए आज सबसे गंभीर खतरा है।’’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें