Rajnath Singh

रक्षा मंत्री भारत व अमेरिका के बीच वाशिंगटन डीसी में आयोजित ‘टू प्लस टू’ मंत्रिस्तरीय वार्ता में भाग लेने के लिए यहां आए थे। इसके बाद, उन्होंने हवाई और फिर सैन फ्रांसिस्को की यात्रा की।

हेलिना मिसाइल (Helina Missile) का ट्रायल संयुक्त रूप से रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ), भारतीय थलसेना और भारतीय वायुसेना के वैज्ञानिकों की टीम द्वारा किया गया।

रक्षा मंत्री ने कहा कि यदि उग्रवादी तत्व मुख्यधारा में लौटने के इच्छुक हैं तो केंद्र सरकार उनसे बातचीत करने के लिए तैयार है।

भारत के रक्षामंत्री और वरिष्ठ बीजेपी नेता राजनाथ सिंह ने भी अपने ट्विट के माध्यम से सभी देशवासियों को बधाई दी। राजनाथ सिंह ने हर व्यक्ति के जीवन में खुशी, सुख व समृद्धि की कामना की। 

राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने कहा कि बदलते समय‚ चुनौतियों और देशों के आपसी संबंधों में बदलाव के मद्देनजर सुरक्षा के आयाम भी बदल रहे हैं और ऐसे में हमें किसी भी परिस्थिति से निपटने की तैयारी करनी होगी।

अब तक आपने सड़क पर गाडी‚ बैलगाडी या कार को चलते ही देखा होगा‚ लेकिन पहली बार किसी हाईवे पर हवाई जहाज को देखेंगे। अब सड़कों पर हवाई जहाज और फाइटर प्लेन भी उतरेंगे।

भारतीय सेनाओं के उप प्रमुखों की वित्तीय शक्तियों को 500 करोड़ रुपए की कुल सीमा के अधीन 10 प्रतिशत तक बढ़ा दिया गया है।

एयरफोर्स (Indian Airforce) के लड़ाकू जेट और परिवहन विमानों ने लखनऊ-आगरा एक्सप्रेसवे पर लैंडिंग का अभ्यास किया था। ऐसे हाइवे का उपयोग एयरफोर्स विमानों को आपात स्थिति में उतारने के लिए किया जा सकता है।

आइबीजी का काम न केवल जल्द से जल्द निर्णय लेना होगा बल्कि वह एकीकृत लड़ाकू दस्ते भी तैयार करेगा। इन दस्तों में तीनों सेनाओं के लोग होंगे जो साथ मिलकर तेज और प्रभावी एक्शन लेने में सक्षम होंगे।

धर्मांतरण को लेकर पूछे गये सवाल के जवाब में राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने कहा कि मतांतरण कराने के किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जायेगा।

राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने पूर्वी लद्दाख की एक अग्रिम चौकी पर सैनिकों को संबोधित करते हुए कहा कि भारत बातचीत के माध्यम से पड़ोसी देशों के साथ विवादों को सुलझाना चाहता है।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) 3 दिन के दौरे पर रविवार सुबह लद्दाख पहुंचे हैं। इस दौरान वह लेह-लद्दाख सीमा क्षेत्र पर सुरक्षा तैयारियों का जायजा लेंगे।

सात कंपनियां बनाई जाएंगी‚ उनमें एक गोला–बारूद और विस्फोटक समूह की होगी। इस प्रकार के उत्पादन में लगी सभी ऑर्डिनेंस फैक्टरियों (Ordnance Factories) को इसमें मर्ज किया जाएगा।

रक्षा मंत्री ने पाकिस्तान का नाम लिये बिना आतंकवाद को बढ़ावा देने, उसका समर्थन और वित्त पोषण करने और आतंकवादियों को शरण देने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का आह्वान किया।

इस योजना से भारतीय रक्षा और एयरोनॉटिक्स फिल्ड को कम समय में अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए नये, स्वदेशी और इनोवेटिव टेक्नोलॉजी तेजी से विकसित करने में मदद मिलेगी।

रक्षा मंत्रालय (Defence Ministry) के तहत आने वाले सभी प्रतिष्ठान मसलन सेना की तीनों शाखाएं‚ इंटिग्रेटेड डिफेंस स्टाफ‚ असम राइफल्स और अन्य सभी सूचनाएं रक्षा मंत्रालय के इतिहास विभाग को मुहैया कराएंगे जो इन्हें सुरक्षित रखेगा।

राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने लिखा कि थल सेना, नौसेना और वायु सेना किस तरह से देशवासियों की जान बचाने में लगी हुई हैं। उन्होंने कहा कि इस वायरस से निपटने के लिए सेना को आपात वित्तीय शक्तियां दी गई हैं

यह भी पढ़ें