Naxalites

एसपी ने यहां ठंड से बचाव के लिए 150 ग्रामीणों को कंबल बांटे। एसपी सुधीर कुमार पोरिका ने कहा कि प्रशासन लोगों के हर दुख में उनके साथ खड़ा है।

हार्डकोर नक्सली गोपन्ना दर्जनों नक्सल मामलों में बीते डेढ़ दशक से जेल में बंद है। गोपन्ना को मंगलवार को दंतेवाड़ा सत्र न्यायालय ने एक दर्जन मामलों से बरी करने का आदेश दिया था।

Jharkhand: इस मुठभेड़ में दोनों तरफ से कई राउंड फायरिंग हुई है। पुलिस को भारी पड़ता देख नक्सली जंगल और अंधेरे का फायदा उठाकर भाग खड़े हुए।

पलामू के पिपरा में पोकलेन जलाने के मामले में पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। बीते 5 दिसबंर की रात पोकलेन जलाने की घटना को अंजाम दिया गया था।

नक्सलियों ने ये साजिश जवानों को निशाना बनाने के लिए रची थी, लेकिन इसमें 2 महिलाएं फंस गईं। मामला अरनपुर थाना क्षेत्र के जंगल का है।

Naxalites News: गिरिडीह एएसपी गुलशन तिर्की ने बताया कि माओवादियों के गुरिल्ला आर्मी सप्ताह दिवस को लेकर लगातार सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है।

गंगालूर सेक्शन कमांडर अर्जुन को डीआरजी जवानों ने एक एनकाउंटर में ढेर कर दिया। मौके से एक भरमार बंदूक व अन्य नक्सली सामान बरामद किया गया है।

पुलिस ने रविवार को ये जानकारी दी कि पकड़े गए नक्सली पर एक लाख रुपए का इनाम था और पुलिस 13 मामलों में इस नक्सली की तलाश कर रही थी।

Jharkhand: पुलिस द्वारा चलाए जा रहे सर्च अभियान के बावजूद इन तीनों की कोई खबर नहीं मिल पाई है और पुलिस के हाथ अभी तक खाली हैं।

जवानों का पलड़ा भारी देखकर बाकी के नक्सली भाग खड़े हुए। इस दौरान भारी मात्रा में विस्फोटक और बाकी का सामान बरामद हुआ है।

झारखंड पुलिस नक्सलियों के खिलाफ लगातार अभियान चला रही है। इसी दौरान पुलिस ने PLFI सुप्रीमो दिनेश गोप समेत 7 नक्सलियों की तस्वीर जारी की है।

छत्तीसगढ़ में नक्सलियों के खिलाफ लगातार अभियान चलाया जा रहा है लेकिन नक्सली अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे हैं।

चरकापत्थर स्थित एसएसबी जवान और जिला बल के जवानों द्वारा संयुक्त रूप से नक्सलियों के खिलाफ चरका पत्थर और चकाई थाना इलाके के जंगलों में सर्च अभियान चलाया गया था।

झारखंड के कोल्हान और दक्षिणी छोटानागपुर में अपना वर्चस्व बनाने के बाद अब PLFI उत्तरी छोटानागपुर में भी अपना वर्चस्व कायम करने की कोशिश कर रहा है।

नक्सली संगठनों का आर्थिक तंत्र कमजोर पड़ गया है। पैसों की कमी ने नक्सली संगठनों को तोड़कर रख दिया है और अब नक्सली टेरर फंडिंग में जुट गए हैं।

पीएलजीए सप्ताह से ठीक पहले नक्सलियों ने एक प्रेस नोट जारी किया है और बीते सालों में हुई नक्सल वारदातों का ब्योरा दिया है।

झारखंड में नक्सलियों के खिलाफ लगातार अभियान चलाया जा रहा है, लेकिन नक्सली अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे हैं।

यह भी पढ़ें