Masood Azhar

दाऊद इब्राहिम (Dawood Ibrahim) के कराची में होने की बात स्वीकार करने के बाद पाकिस्तान एक बार फिर पलट गया है। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने आधिकारिक तौर पर इस बात से इंकार कर दिया है की दाऊद पाकिस्तान में है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, आईबी के दो अधिकारियों ने कहा है कि पाकिस्तान ने आतंकी हमलों के लिए जैश-ए-मोहम्मद (Jaish-e-Mohammed) के सरगना मसूद अजहर (Masood Azhar) को रिहा कर दिया है।

जैश-ए-मोहम्मद सरगना मसूज अजहर का भाई इब्राहिम अजहर को पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में देखा गया है। बताया जा रहा है इब्राहिम के साथ 15 ट्रेंड मिलिटेंट्स भी हैं। सूत्रों की मानें तो इन सभी दहशतगर्दों को जम्मू कश्मीर में घुसपैठ के लिए तैयार किया जा रहा है।

यह सच है कि भारत की जमीन से आजाद होने के बाद मसूद ने भारत को अनगिनत जख्म दिए। भारत अरसे से अपने नंबर वन दुश्मन को वैश्विक आतंकी घोषित करवाना चाहता था।

एक मुकम्मल प्रक्रिया के तहत किसी अपराधी को वैश्विक आतंकी घोषित किया जाता है। मसूद अजहर को भी इसी प्रक्रिया के तहत ग्लोबल टेररिस्ट घोषित किया गया है।

यूएनएससी ने अजहर के सभी संपत्तियां जब्त करने, हथियार जब्त करने और उसकी किसी भी तरह की यात्रा पर पूर्ण रुप से प्रतिबंध लगा दिया है।

जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मौलाना मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र ग्लोबल आतंकी घोषित कर सकता है। संयुक्त राष्ट्र परिषद में पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मौलाना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने को लेकर फैसला आने की उम्मीद है।

फ्रांस ने मसूद अजहर की सारी सम्पत्ति जब्त करने का फैसला कर लिया है। फ्रांस के आंतरिक मंत्रालय, विदेश और वित्त मंत्रालयों के एक संयुक्त आदेश को आधिकारिक राजपत्र में प्रकाशित किया गया है। जिसमें मसूद अजहर की फ्रांस में मौजूद सभी सम्पत्तियों को जब्त करने का आदेश है।

UNSC Ban Masood Azhar: चीन इस बात से भी बखूबी वाकिफ है कि पाकिस्‍तान की कोई भी सरकार यही बनाते हैं और वह इन्‍हीं के इशारे पर काम करती है। पाकिस्‍तान की सरकार सेना के खिलाफ नहीं जा सकती है। ऐसे में चीन किसी भी हाल में इतनी बड़ी रकम पर किसी तरह का कोई रिस्क नहीं लेना चाहता था।

चीन ने चौथी मर्तबा मसूद अजहर को अपने वीटो पावर का इस्तेमाल करके ग्लोबल आतंकी घोषित होने से बचा लिया है। चीन की इस हरकत ने भारत के तरफ से किए जा रहे तमाम प्रयासों एवं मंसूबों पर पानी फेर दिया।

पुलवामा हमले की साजिश रचने वाले आतंकी मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के लिए भारत ने अपनी तरफ से कोशिशें तेज कर दी हैं।

पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान पर भारत की तरफ से दबाव बढ़ता जा रहा है। इसके चलते पाकिस्तान में जैश सरगना मसूद अजहर के दो भाइयों समेत 44 आतंकियों को गिरफ्तारी किया गया है।

पुलवामा आतंकी हमले के बाद से भारत समेत दुनिया के तमाम देशों का जैश-ए-मोहम्मद और उसके सरगना पर कार्रवाई का पाकिस्तान पर जबरदस्त दबाव है। मुमकिन है कि अंतरराष्ट्रीय दवाब से बचने के लिए पाकिस्तान ने मसूद अजहर के मारे जाने की अफवाह उड़ाई हो।

मसूद अजहर का अल कायदा के सरगना ओसामा बिन लादेन से भी करीबी रिश्ते थे। जब भारत ने उसे कंधार में 31 दिसंबर 1999 को रिहा किया था तो लादेन ने उसी रात उसके लिए भोज आयोजित किया था।

यह भी पढ़ें