पाकिस्तानः मसूद अजहर के भाई मुफ्ती अब्दुर रऊफ समेत 44 आतंकी गिरफ्तार, भारत की सख्ती का असर

पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान पर भारत की तरफ से दबाव बढ़ता जा रहा है। इसके चलते पाकिस्तान में जैश सरगना मसूद अजहर के दो भाइयों समेत 44 आतंकियों को गिरफ्तारी किया गया है।

Pakistan, masood azhar, jaish, militant, mufti abdul rauf, hammad azhar, jud, fif, imran khan, masood azhar, masood azhar abdul rauf azghar, masood azhar brother detained, masood azhar brother detained in pakistan,मसूद अजहर, मसूद अजहर का भाई हिरासत में, हिरासत में मजूद अजहर का भाई, मसूद अजहर का भाई हिरासत में लिया गया

मसूद अजहर के भाई मुफ्ती अब्दुल रऊफ और हम्माद अजहर समेत 44 आतंकियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान पर भारत की तरफ से दबाव बढ़ता जा रहा है। भारत ही नहीं वैश्विक समुदाय भी पाकिस्तान पर आतंकवाद पर लगाम लगाने के लिए निरंतर दबाव बना रहा है। ताज़ा मामला जैश सरगना मसूद अजहर के दो भाइयों समेत 44 आतंकियों को गिरफ्तारी का है। पाकिस्तान के आंतरिक मामलों के मंत्री शहरयार अफरीदी के अनुसार मसूद अजहर के भाई मुफ्ती अब्दुल रऊफ और हम्माद अजहर समेत 44 आतंकियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

पाकिस्तान सरकार नेशनल एक्शन प्लान के तहत एक बैठक के बाद प्रतिबंधित किए गए सभी संगठनों के खिलाफ तेजी से कार्रवाई कर रहा है। पाकिस्तान के नेशनल काउंटर टेररिज्म अथॉरिटी के आंकड़ों के अनुसार, सरकार ने कई आतंकी संगठनों पर कार्रवाई किया है। कुछ पर प्रतिबंध लगाया है जबकि कुछ पर निगरानी रख रही है। निगरानी करने वाले संगठनों में हाफ़िज सईद का संगठन जमात-उद-दावा है।

इसे भी पढ़ें: आतंकी मसूद अजहर को वैश्विक स्तर पर बैन कराने की कोशिशें तेज

एक तरफ पाकिस्तान दुनियाभर के सामने दावा कर रहा है कि वह आतंकियों के खिलाफ कड़े एक्शन ले रहा है लेकिन हाफिज़ सईद का जमात-उद-दावा संगठन पर प्रतिबंध लगाने के बजाय उसपर सिर्फ़ निगरानी रखने की बात कर रहा है।

पाकिस्तान दुनिया को ये दिखा रहा है कि हमने जमात उद दावा पर प्रतिबंध लगा दिया है जबकि ये सरासर झूठ है। हालांकि पाकिस्तान ने जिन संगठनों पर बैन लगाने की बात कही गई है, उसमें कई बड़े संगठन शामिल हैं, जिसमें मौलाना मसूद अजहर का जैश भी शामिल है।

लेकिन इस बात का ध्यान रखना होगा कि इसने अभी तक हाफ़िज सईद के संगठन पर प्रतिबंध नहीं लगाया है और न ही हाफ़िज सईद समेत मसूद अजहर को सज़ा देने के पक्ष में है। पाकिस्तान की अगर आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई लड़ने में सही मंशा होती तो अबतक इनके संगठन को प्रतिबंध लगाने के साथ साथ इनको सज़ा देता।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App