कोरोना वायरस की जड़ तलाशने वुहान पहुंची WHO की टीम, यहीं से शुरू हुआ था संक्रमण

कोरोना वायरस (Coronavirus) की उत्पत्ति के स्थान का पता लगाने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के 10 विशेषज्ञों की एक टीम (WHO team) 14 जनवरी को चीन के वुहान (Wuhan) पहुंची।

Vaccine

WHO reaction on Vaccine

चीन की आधिकारिक मीडिया ने खबर दी है कि WHO के विशेषज्ञों की टीम कोविड-19 की उत्पत्ति का पता लगाने के लिए वुहान पहुंची है।

कोरोना वायरस (Coronavirus) की उत्पत्ति के स्थान का पता लगाने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के 10 विशेषज्ञों की एक टीम (WHO team) 14 जनवरी को चीन के वुहान (Wuhan) पहुंची। यह टीम पता लगाएगी कि कोरोना वायरस की वुहान से हुई या नहीं। WHO की टीम में अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, जर्मनी, जापान, ब्रिटेन, रूस, नीदरलैंड, कतर और वियतनाम के विशेषज्ञ शामिल हैं।

चीन की आधिकारिक मीडिया ने खबर दी है कि WHO के विशेषज्ञों की टीम कोविड-19 की उत्पत्ति का पता लगाने के लिए वुहान पहुंची है। यह टीम सिंगापुर से आई है और इसमें 10 विशेषज्ञ हैं। एनएचसी के अधिकारियों ने 13 जनवरी को पेइचिंग में मीडिया को बताया कि वायरस की शुरुआत कहां से हुई, यह एक वैज्ञानिक सवाल है और उन्होंने सुझाव दिया कि इसके लिए विशेषज्ञों को दूसरे देशों का भी दौरा करना चाहिए।

झारखंड: चतरा में प्रतिबंधित नक्सली संगठन TSPC की कमर टूटी, 15 लाख के इनामी मुकेश गंझू ने सरेंडर किया

एनएचसी के एक अधिकारी ने बताया कि WHO के विशेषज्ञ आइसोलेशन की अवधि के दौरान चीन के चिकित्सा विशेषज्ञों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए बातचीत करेंगे। चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग (एनएचसी) के मुताबिक, WHO की टीम काम शुरू करने के पहले महामारी नियंत्रण के लिए देश के दिशा-निर्देशों के तहत आइसोलेशन प्रक्रिया को पूरा करेगी।

विशेषज्ञों के 14 दिनों तक आइसोलेशन में रहने और COVID-19 की जरूरी जांच कराए जाने की संभावना है। बता दें कि काफी आनाकानी के बाद अंतरराष्ट्रीय दबाव के आगे झुकते हुए चीन ने WHO (World Health Organization) की टीम को अपने यहां आने की अनुमति दी है। गौरतलब है कि वुहान में ही दिसंबर, 2019 में इस वायरस के मामले सबसे पहले सामने आए थे।

Corona Vaccine: दुनियाभर में हो चुकी है टीकाकरण की शुरुआत, इन बड़े नेताओं ने लगवाया कोरोना का टीका

वायरस की वुहान में उत्पत्ति को लेकर व्यापक विचारों पर सवाल उठाने वाले बीजिंग ने 10 सदस्यीय विशेषज्ञों के दल को दौरे की अनुमति देने में काफी देरी किया। राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग (NHC) के उप प्रमुख जेंग यिशिन ने 9 जनवरी को मीडिया से कहा था कि वुहान में टीम के आने के वक्त पर अभी विचार किया जा रहा है।

जेंग ने बताया कि चीन और WHO के बीच चार वीडियो कॉन्फ्रेंस में जांच के विशेष बंदोबस्त को लेकर सहमति बनी है। जांच करने आ रहे दल के साथ चीन के विशेषज्ञ भी वुहान जाएंगे। इससे पहले WHO के प्रमुख टेडरोस अधानोम गेब्रेयेसस ने विशेषज्ञों के दल को आवश्यक अनुमतियां नहीं देने पर बीजिंग की आलोचना की थी।

ये भी देखें-

बता दें कि बीजिंग (Beijing) पर यह आरोप है कि उसके वुहान शहर स्थित लेबोरेटरी से ही वैश्विक महामारी का कारण बनने वाला कोरोना वायरस पैदा हुआ और यहीं से पूरी दुनिया में फैल गया। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सबसे पहले यह आरोप लगाया था और इसे चीनी वायरस करार दिया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें