15 जुलाई, 1948 के दिन राष्ट्रीय कैडेट कोर की स्थापना की गई थी, जानें इसके बारे में सबकुछ

एनसीसी का लक्ष्य छात्रों को समाज के अच्छे नागरिक बनाने और उन्हें जीवन के प्रत्येक क्षेत्र मे योग्य और अग्रणी बनाना है। आजादी के बाद 15 जुलाई, 1948 को देश की तीनों सेना को मजबूती प्रदान करने के लिए राष्ट्रीय कैडेट कोर की स्थापना की गई थी।

बीते साल कैडेटों द्वारा राष्ट्रीय कैडेट कोर की 71वीं वर्षगांठ मनाई गई थी। (फाइल फोटो)

एनसीसी का लक्ष्य छात्रों को समाज के अच्छे नागरिक बनाने और उन्हें जीवन के प्रत्येक क्षेत्र मे योग्य और अग्रणी बनाना है। आजादी के बाद 15 जुलाई, 1948 को देश की तीनों सेना को मजबूती प्रदान करने के लिए राष्ट्रीय कैडेट कोर की स्थापना की गई थी।

राष्ट्रीय कैडेट कोर (एनसीसी) एक सैन्य ट्रेनिंग है जिसे स्कूल और कॉलेज में पढ़ने वाले छात्रों को सिखाया जाता है। छात्रों को इसके जरिए अनुशासन, फिटनेस और सेना के प्रति जागरुकता के बारे में सिखाया जाता है। एनसीसी कैडेट को सेना में भर्ती होने के लिए शुरुआती ट्रेनिंग दी जाती है। कम उम्र में ही छात्रों को देश के प्रति भक्ति की भावना का विकास इसी के जरिए किया जाता है। कैडेटों को छोटे हथियारों और परेडों में बुनियादी सैन्य प्रशिक्षण दिया जाता है।

एनसीसी का लक्ष्य छात्रों को समाज के अच्छे नागरिक बनाने और उन्हें जीवन के प्रत्येक क्षेत्र मे योग्य और अग्रणी बनाना है। आजादी के बाद 15 जुलाई 1948 को देश की तीनों सेना को मजबूती प्रदान करने के लिए राष्ट्रीय कैडेट कोर की स्थापना की गई थी। आजादी के बाद सेना में जवानों की की कमी के चलते इसकी स्थापनी की गई थी।

कारगिल युद्ध: जब सेना ने हासिल कर ली थी मश्कोह घाटी की अंतिम पोस्ट, जानें कैसे मिली थी फतह

हालांकि हर साल नवंबर महीने के आखिरी रविवार को एनसीसी दिवस मनाया जाता है। दरअसल स्थापना के बाद सरकार ने पूर्ण रूप से नवंबर के आखिरी हफ्ते में मंजूरी दी गई थी। इस वजह से इसे हर साल नवंबर महीने के आखिरी रविवार के दिन ही सेलेब्रेट किया जाता है।

बीते साल कैडेटों द्वारा राष्ट्रीय कैडेट कोर की 71वीं वर्षगांठ मनाई गई थी। राष्ट्रीय स्तर पर एनसीसी रक्षा मंत्रालय के अधीन आता है। इससे जुड़े फैसले और कामकाज को रक्षा मंत्रालय ही देखता है। बता दें कि कॉलेज और यूनिवर्सिटी में एनसीसी की कक्षाओं का संचालन अलग से किया जाता है। भारत की नौसेना, वायु सेना, थल सेना भी एनसीसी कैडेट को ट्रेनिंग देती है। राष्ट्रीय कैडेट कोर का हेडक्वाटर नई दिल्ली में स्थित है।

कारगिल युद्ध के ‘हीरो’ अनुज नैय्यर के जज्बे की बेमिसाल कहानी, मरणोपरांत मिला था महावीर चक्र

यह भी पढ़ें