Army

बजट, सक्रिय व असक्रिय सैन्य कर्मियों की संख्या, वायु, समुद्री, जमीनी और परमाणु संसाधन, औसत वेतन और उपकरणों की संख्या समेत कई तथ्यों पर विचार करने के बाद ‘सेना की ताकत सूचकांक’ तैयार किया गया है।

नरेंद्र चौधरी भारतीय सेना के बम निरोधक दस्ते (Bomb disposal squad) का हिस्सा रह चुके हैं। छत्तीसगढ़ व अन्य नक्सल-प्रभावित इलाकों में कार्यरत रहे चौधरी ने बेखौफ ही इस काम को अंजाम दिया।

भारतीय सेना (Indian Army) के जवान दुश्मनों को छलनी करने के लिए किसी भी हद तक गुजरने के लिए तत्पर रहते हैं। किसी भी देश की सेना तभी मजबूत मानी जाती है जब उसे सारी सहुलियतें दी जाएं। सेना के जवान दिन रात कड़ी मेहनत कर सरहद की रक्षा करते हैं।

सोमनाथ आर्मी ग्राउंड (Somnath Army Ground) उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले के रानीखेत में स्थित कुमाऊं रेजिमेंट का मुख्य परेड मैदान है। देश का पहला और सबसे बड़ा सैन्य सम्मान यानी 'परमवीर चक्र' पाने वाले मेजर सोमनाथ शर्मा का वॉर मेमोरियल है।

भारतीय सेना (Indian Army) का पूरी दुनिया में डंका बजता है। भारतीय वीर सपूतों के बलिदान और शौर्य की गथाएं हर जगह मशहूर हैं। हमारे दुश्मन, सेना का नाम सुनते ही कांप उठते हैं।

छलांग लगाने से पहले सैनिकों को मानसिक रूप से तैयार किया जाता है। इसके बाद कई दिनों तक पैराशुट बैग को किस तरह से इस्तेमाल करना है इसकी ट्रेनिंग दी जाती है।

भारतीय सेना (Indian Army) के जवान अपनी जान की बाजी लगाकर सरहद पर डटे रहते हैं। कई मौकों पर हमारे जवानों ने शहादत के जरिए दिखाया है कि वे भारत मां से कितना प्यार करते हैं।

सेना (Army) का सम्मान हर हाल में किया जाना चाहिए। एक तरह से भारतीय कानून भी आम नागरिकों को सेना का सम्मान करने के लिए कहता है। दरअसल, किसी भी आम नागरिक का आर्मी जैसी वर्दी पहनना अपराध माना गया है।

भारतीय सेना (Indian Army) दुनिया की घातक सेनाओं में शुमार है। हमारे जवान देश की रक्षा के लिए किसी भी हद तक गुजरने को तैयार रहते हैं। ऐसा एक बार नहीं बल्कि कई मौकों पर जवानों ने साबित भी किया है।

भारतीय सेना (Indian Army) को बीते कुछ सालों में एडवांस बनाने की दिशा में काम किया गया है। जवानों को एक से बढ़कर एक बेहतर साजो-सामान मिले, इसके लिए समय-समय पर अपग्रेडेशन की जाती है।

भारतीय सेना (Indian Army) के जवान दुश्मनों की हर नापाक हरकत पर नजर रखने के लिए कई तरीकों का इस्तेमाल करते हैं। सेना द्वारा सीमावर्ती इलाकों में गश्त लगाई जाती हैं। गश्त यानी पेट्रोलिंग का फायदा यह होता है कि दुश्मनों पर आसानी से नजर रखी जा सकती है।

भारतीय सेना (Indian Army) दुनिया की सबसे घातक सेनाओं में से एक है। किसी भी सेना को ताकतवर तभी माना जाता है जब उसके पास बेहतरीन हथियार और बहादुर सैनिक हों। भारतीय सेना इन दोनों ही मामलों में अग्रणी है।

हर दिन चुनौतीभरा होता है क्योंकि ट्रेनिंग के दौरान बेहद ही कड़ा अनुशासन फॉलो किया जाता है। ऐसा अनुशासन जिसे एक सैनिक अपने कार्यकाल में भी फॉलो करता है।

जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के राजोरी जिले में सुरक्षाबलों की संयुक्त टीम ने आतंकियों (Terrorists) के खिलाफ बड़ी कामयाबी हासिल की है। जिले के खवास इलाके के गडोग के घने जंगलों में जवानों ने आतंकियों का एक ठिकाना (Terrorist Hideout) ध्वस्त किया है।

Indian Army: यह एक ऑटो-इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है, इससे जवान दुश्मनों पर रात में भी नजर रख सकते हैं। ये बिल्कुल अंधेरे में सामने वाले की तस्वीर को उभारता है।

सेना की कैंटीन में शराब, इलेक्ट्रॉनिक्स और अन्य सामान को रियायती कीमतों पर मिलता है। आर्मी कैंटीन में विदेशी सामान भी मिलता है।

जैसे ही दुश्मन हमला करता है तो बड़ा हथियार न होने की स्थिति में Indian Army द्वारा इसका बखूबी इस्तेमाल किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें