जंग के मैदान में रहना होता है बेहद अलर्ट, एक चूक पड़ जाती है पूरी टीम के लिए भारी

जंग का मैदान एक ऐसी जगह होती है जहां पर कब कौन किस पर भारी पड़ जाए पता नहीं चलता। जंग के मैदान में सैनिकों को बेहद ही अलर्ट रहना पड़ता है।

Indian Army

भारतीय सेना (Indian Army) के जवान किसी भी परिस्थिति का सामना करने के लिए हर पल तत्पर रहते हैं।

Indian Army: जंग का मैदान एक ऐसी जगह होती है जहां पर कब कौन किस पर भारी पड़ जाए पता नहीं चलता। जंग के मैदान में सैनिकों को बेहद ही अलर्ट रहना पड़ता है। 

भारतीय सेना (Indian Army) ने अबतक कुल पांच युद्ध लड़े हैं। इनमें से चार युद्ध तो पाकिस्तान के खिलाफ ही लड़ गए हैं जबकि एक चीन के खिलाफ 1962 में लड़ा गया था। जंग के मैदान में सैनिकों को हथियार और ताकत के दम पर ही नहीं बल्कि दिमाग से भी जंग लड़नी पड़ती है।

जंग का मैदान एक ऐसी जगह होती है जहां पर कब कौन किस पर भारी पड़ जाए पता नहीं चलता। जंग के मैदान में सैनिकों को बेहद ही अलर्ट रहना पड़ता है। एक चूक पूरी टीम के लिए भारी पड़ जाती है।

कारगिल युद्ध: दिन में रेकी होती थी और रात में जंग, ऐसा था पूर्व सैनिक दिनेश कुमार का अनुभव

ऐसे कई मामले सामने आए हैं जब जंग के दौरान सैनिकों ने एक चूक कर दी और पूरी की पूरी टीम को नुकसान झेलना पड़ा। दरअसल, दुश्मन को कमजोर समझना ही सबसे बड़ी भूल मानी जाती है।

ये भी देखें-

कारगिल युद्ध के दौरान ऐसे कई मौके आए जब हमारे सैनिकों ने चूक कर दी और ऊंचाई पर बैठे सैनिकों ने ताबड़तोड़ फायरिंग कर सैनिकों को शहीद कर दिया। युद्ध की दिशा अपने पक्ष में होते हुए भी खुशी नहीं मनानी चाहिए क्योंकि जब तक जीत हासिल न हो जाए तब तक लड़ते रहना चाहिए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें