‘गांव वालों ने जबरदस्ती नक्सली संगठन में भेजा’, सरेंडर कर पूर्व कमांडर ने सुनाई दास्तान

देश में लॉकडाउन होने की वजह से नक्सलियों (Naxals) के भूखे मरने की नौबत आई है। दूसरी तरफ इनके कई साथी भी अब इनका साथ छोड़ रहे हैं।

Naxali

देश में लॉकडाउन होने की वजह से नक्सलियों (Naxals) के भूखे मरने की नौबत आई है। दूसरी तरफ इनके कई साथी भी अब इनका साथ छोड़ रहे हैं। भाकपा माओवादी संगठन के सब जोनल कमांडर रामजीत नगेसिया उर्फ रामू नगेशिया ने अब पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया है। 24 साल के नक्सली (Naxali) रामजीत नगेसिया ने झारखंड की लोहदगा पुलिस के सामने आत्समर्पण किया।

Naxali
भाकपा माओवादी के सब जोनल कमांडर ने पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया।

साल 2013 में नक्सली संगठन (Naxal Organization) में शामिल होने वाले नगेसिया ने झारखंड सरकार के समर्पण नीति ‘नई दिशा’ से प्रभावित होकर सरेंडर किया। लोहदगा के ही नक्सल प्रभावित क्षेत्र पेशरार के रोरद गोमिया टोली क रहने वाले रामजीत नगेसिया ने नक्सली (Naxali) बनने के बाद पुलिस के खिलाफ कई मुठभेड़ों में शामिल रहा है।

बूढ़ा पहाड़ में रह चुके रामजीत बिहार के औरंगाबाद, गया और सारंडा के जंगलों में कई बार पुलिस से घिरा। लेकिन हर बार मुठभेड़ के बाद वो भागने में कामयाब हो जाता था।

Corona Virus: चीन ने की घटिया हरकत, भारत भेजे घटिया PPE किट

रामजीत नगेसिया ने एसपी प्रियदर्शी आलोक के सामने सरेंडर किया है। मौके पर डीसी आकांक्षा रंजन, एसपी प्रियदर्शी आलोक, सीआरपीएफ 158 बटालियन के कमांडेंट मौजूद थे। पुलिस ने यहां जानकारी दी है कि राजजीत नगेसिया पर 4 मामले दर्ज हैं और इसके आत्मसमर्ण के बाद नक्सलियों (Naxalites) की कमर जरूर टूटी है। पुलिस ने यह भी बताया कि नगेसिया यह भाकपा माओवादी रविंद्र गंझू के दस्ते का एक बड़ा कमांडर था।

आत्मसमर्पण करने वाले रामजीत नगेशिया ने अपनी आपबीती सुनाते हुए कहा कि साल 2013 में वह चुन्नी लाल हाई स्कूल में पढ़ाई करता था। तब 9वीं कक्षा पास करने के बाद वह खेती-बारी में अपने परिवार की मदद करने अपने घर गया था। इसी बीच माओवादी रविंद्र गंझू व दस्ता द्वारा गांव में बैठक की गई।

कोरोना से धार्मिक-मांगलिक कार्यों पर लगी रोक, फूल कारोबारियों को 4500 करोड़ का नुकसान!

उसने प्रत्येक गांव से एक-एक लड़के की मांग की। इसके बाद गांव वालों के फैसले पर रामजीत को दस्ता में शामिल होने को मजबूर किया गया। परिजनों द्वारा इसका विरोध भी किया गया। परंतु उसे 2013 के 17 मई को रविंद्र गंझू के दस्ते में शामिल कर लिया गया।

जानकारी दे दें कि लोहरदगा में नक्सली अब खात्मे के कगार पर हैं। पुलिस-प्रशासन की सख्ती ने उनकी कमर तोड़ दी है। यही वजह है कि कई नक्सली (Naxali) अब पुलिस के सामने सरेंडर कर समाज की मुख्यधारा से जुड़ने की कोशिश में लगे हुए हैं।

जिले के एसपी प्रियदर्शी आलोक ने मीडिया से बातचीत करते हुए बताया कि ‘नई दिशा’ आत्मसमर्पण नीति के तहत रामजीत ने आत्मसमर्पण किया है और इसे सरकार की ओर से मिलने वाली सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी।

यह भी पढ़ें