प्रधानमंत्री ने CII के वार्षिक सत्र में दिया 5-I का फॉर्मूला, कहा- ‘ऐसे प्रोडक्टस बनाएं जो मेड इन इंडिया, मेड फॉर द वर्ल्ड हों’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने 2 जून को उद्योग संगठन भारतीय उद्योग परिसंघ (CII) के वार्षिक सत्र को संबोधित किया। उन्होंने अपने संबोधन में देश को आर्थिक वृद्धि की राह पर लाने पर बात की।

PM Narendra Modi

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने 2 जून को उद्योग संगठन भारतीय उद्योग परिसंघ (CII) के वार्षिक सत्र को संबोधित किया। उन्होंने अपने संबोधन में देश को आर्थिक वृद्धि की राह पर लाने पर बात की। पीएम मोदी ने कहा, ”सबसे पहले तो सीआईआई को 125 साल सफलता पूर्वक पूर्ण करने के लिए बहुत बहुत बधाई। 125 साल की यात्रा बहुत लंबी होती है। अनेक पड़ाव और उतार-चढ़ाव आए होंगे। 125 साल में जिन लोगों ने योगदान दिया है, उन्हें बधाई दूंगा। जो हमारे बीच नहीं होंगे उन्हें आदरपूर्वक नमन करूंगा। कोरोना (Coronavirus) के इस टाइम पीरियड में इस तरह के ऑनलाइन इवेंट शायद यह न्यू नॉर्मल बनते जा रहा है। ये इंसान की सबसे बड़ी ताकत होती है कि वो हर मुश्किल से बाहर निकलने का रास्ता बना ही लेता है। आज भी हमें जहां एक तरफ इस वायरस से लड़ने के लिए सख्त कदम उठाने हैं वहीं दूसरी तरफ इकोनॉमी का भी ध्यान रखना है।”

क्या है MSME, केंद्र की घोषणाओं का लाभ उठाने के लिए कैसे करें रजिस्ट्रेशन?

पीएम मोदी (PM Narendra Modi) ने कहा, “कोरोना के खिलाफ इकोनॉमी को फिर से मजबूत करना, हमारी उच्च प्राथमिकता में से एक है। इसके लिए सरकार जो फैसले अभी तुरंत लिए जाने जरूरी हैं, वो ले रही है। साथ में ऐसे भी फैसले लिए गए हैं जो लंबे समय में देश की मदद करेंगे।” पीएम मोदी ने आगे कहा, ”हमें एक तरफ देशवासियों का जीवन बचाना है तो दूसरी तरफ देश की अर्थव्यवस्था को भी स्टैबलाइज करना है, स्पीड-अप करना है। इस स्थिति में आपने ‘Getting Growth Back’ की बात शुरू की है और निश्चित तौर पर इसके लिए भारतीय उद्योग जगत के लोग बधाई के पात्र हैं।”

पीएम मोदी ने कहा, “कोरोना ने हमारी गति जितनी भी धीमी की हो, लेकिन आज देश की सबसे बड़ी सच्चाई यही है कि भारत, लॉकडाउन को पीछे छोड़कर अनलॉक फेज 1.0 (Unlock Phase 1.0) में दाखिल हो चुका है। इकोनॉमी का बहुत बड़ा हिस्सा खुल चुका है। आज ये सब हम इसलिए कर पा रहे हैं, क्योंकि जब दुनिया में कोरोना वायरस (Coronavirus) पैर फैला रहा था, तो भारत ने सही समय पर, सही तरीके से सही कदम उठाए। दुनिया के तमाम देशों से तुलना करें तो आज हमें पता चलता है कि भारत में lockdown का कितना व्यापक प्रभाव रहा है।”

300 चीनी सैनिकों को उनके बंकरों में घुस कर मारा, भारतीय जवानों की वीरगाथा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने अपने संबोधन में आत्मनिर्भर भारत के लिए 5-I का फॉर्मूला दिया। उन्होंने कहा, ”भारत को फिर से तेज विकास के पथ पर लाने के लिए, आत्मनिर्भर भारत बनाने के लिए 5 चीजें बहुत जरूरी हैं- Intent, Inclusion, Investment, Infrastructure और Innovation। हाल में जो साहसिक फैसले लिए गए हैं, उसमें भी आपको इन सभी की झलक मिल जाएगी।”

पीएम मोदी ने किसानों के लिए कहा कि सरकार ने ऐतिहासिक बदलाव किए हैं, अब किसान कहीं भी, कभी भी अपनी फसलों को अपनी शर्तों पर बेच सकते हैं। पीएम मोदी ने कहा,”सरकार आज ऐसे पॉलिसी रिफॉर्म्स भी कर रही है जिनकी देश ने उम्मीद भी छोड़ दी थी। अगर मैं कृषि सेक्टर की बात करूं तो हमारे यहां आजादी के बाद जो नियम-कायदे बने, उसमें किसानों को बिचौलियों के हाथों में छोड़ दिया गया था।”

अमेरिका में काले-गोरे का भेद और 51 साल का नाकाम सफर!

सीआईआई (CII) के इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री (PM Narendra Modi) ने कहा, ”MSMEs की डिफिनिशन स्पष्ट करने की मांग लंबे समय से उद्योग जगत कर रहा था, वो पूरी हो चुकी है। इससे MSMEs बिना किसी चिंता के आगे बढ़ पाएंगे और उनको MSMEs का स्टेट्स बनाए रखने के लिए दूसरे रास्तों पर चलने की जरूरत नहीं रहेगी। दुनिया का तीसरा वो देश जिसके पास बहुत बड़ी मात्रा में कोयले का भंडार हो, जिसके पास आप जैसे उद्यमी व्यापार जगत के लीडर्स हों, लेकिन फिर भी उस देश में बाहर से कोयला आए तो उसका कारण क्या है? अब कोल सेक्टरों को इन बंधनों से मुक्त करने का काम शुरू कर दिया गया है।”

पीएम मोदी ने कहा, ”अब देश के स्ट्रैटिजिक सेक्टर्स में भी प्राइवेट प्लेयर्स की भागीदारी एक रिएलिटी बन रही है। आप स्पेस सेक्टर में निवेश करना चाहें, एटॉमी एनर्जी में नये अवसर को तलाशना चाहें, पॉसिबिलिटीज आपके लिए पूरी तरह से खुली हुई है। हर अवसर आपका इंतजार कर रहा है।”

चीन की चालबाजी के कारण कोरोना से जूझती दुनिया के सामने अपनी अकड़ दिखा रहा है अमेरिका

प्रधानमंत्री ने सीआईआई (CII) को विश्वास दिलाते हुए कहा कि सरकार आपके साथ है। ‘गेटिंग ग्रोथ बैक’ इतना मुश्किल भी नहीं है। सबसे बड़ी बात कि अब आपके पास, भारतीय उद्योग जगत के पास, एक स्पष्ट रास्ता है। आत्मनिर्भर भारत का रास्ता। उन्होंने कहा, ”अब जरूरत है कि देश में ऐसे प्रोडक्टस बनें जो मेड इन इंडिया हों, मेड फॉर द वर्ल्ड हों। कैसे हम देश का आयात कम से कम करें, इसे लेकर क्या नए लक्ष्य तय किए जा सकते हैं? हमें तमाम सेक्टर्स में प्रोडक्टीविटी बढ़ाने के लिए अपने टार्गेट तय करने ही होंगे।”

पीएम मोदी (PM Narendra Modi) ने कहा, “प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना ने गरीबों को तुरंत लाभ देने में बहुत मदद की है। इस योजना के तहत करीब 74 करोड़ लाभार्थियों तक राशन पहुंचाया जा चुका है। प्रवासी श्रमिकों के लिए भी फ्री राशन पहुंचाया जा रहा है। महिलाएं हों, दिव्यांग हों, बुजुर्ग हों, श्रमिक हों, हर किसी को इससे लाभ मिला है। लॉकडाउन के दौरान सरकार ने गरीबों को 8 करोड़ से ज्यादा गैस सिलेंडर डिलीवर किए हैं, वो भी मुफ्त।”

ISRO ने भारत का पहला स्वदेशी स्पेस शटल RLV-TD को किया लॉन्च

पीएम मोदी ने कहा, “हमारे श्रमिकों के कल्याण को ध्यान में रखते हुए, रोजगार के अवसरों को बढ़ाने के लिए लेबर रिफॉर्म्स भी किए जा रहे हैं। जिन नॉन-स्ट्रैटजिक सेक्टर में प्राइवेट सेक्टर को इजाजत ही नहीं थी, उन्हें भी खोला गया है। सरकार जिस दिशा में बढ़ रही है, उससे हमारा माइनिंग सेक्टर हो, एनर्जी सेक्टर हो, या रिसर्च और टेक्नोलॉजी हो, हर क्षेत्र में इंडस्ट्री को भी अवसर मिलेंगे और युवाओं के लिए भी नए अवसर खुलेंगे। इस सबसे भी आगे बढ़कर, अब देश के स्ट्रैटजिक सेक्टर में भी प्राइवेट सेक्टर्स की भागीदारी एक रियलटी बन रही है। आप चाहे स्पेस सेक्टर में निवेश करना चाहें, एटॉमिक एनर्जी में नए अवसरों को तलाशना चाहें, संभावनाएं आपके लिए पूरी तरह से खुली हुई हैं।”

बता दें कि वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए होने वाला यह कार्यक्रम सीआईआई (CII) की स्थापना के 125 साल पूरा होने का भी अवसर है। उद्योग संगठन की स्थापना 1895 में हुई थी। सीआईआई के 125वें वार्षिक सत्र का विषय है- ‘Getting Growth Back’ यानी वृद्धि की राह पर लौटना। दिन भर चलने वाले इस कार्यक्रम में पिरामल समूह के चेयरमैन अजय पिरामल, आईटीसी लिमिटेड के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक (सीएमडी) संजीव पुरी, बायोकॉन की सीएमडी किरण मजुमदार शॉ, भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के चेयरमैन रजनीश कुमार, कोटक महिंद्रा बैंक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं सीआईआई (CII) के नामित अध्यक्ष उदय कोटक और सीआईआई  के अध्यक्ष विक्रम किर्लोस्कर जैसे कॉरपोरेट जगत के शीर्ष प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया।

यह भी पढ़ें